विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

डाक्टर चंद जैन "अंकुर " की दीवाली कविता - आज दिवाली है

आज दिवाली है

बंद करो बारूद फटाका आज दिवाली है
राम राज्य का दीप जलाओ आज दिवाली है

उग्रवाद का शौक न पालो आज दीवाली है
अंधेरों को दूर भगाओ आज दिवाली है
घर आंगन में दिया जलाओं आज दीवाली है

बंद करो बारूद फटाका आज दिवाली है
राम राज्य का दीप जलाओ आज दिवाली है

रंगों की ओली से सारा घर और देश सजाओं
मंदिर ,गिरजा और गुरुद्वारा में भी दीप जलाओं
हो मस्जिद से आज़ान अमन का आज दिवाली है

बंद करो बारूद फटाका आज दिवाली है
राम राज्य का दीप जलाओ आज दिवाली है

दीवाली की रातों में मैंने माताओं को डरते देखा है
बारूद धमाकों के गंधों से ह्रदय घात तक होता है
गर्भ पतन का खेल न खेलो आज दिवाली है

बंद करो बारूद फटका आज दिवाली है
राम राज्य का दीप जलाओ आज दिवाली है

ये कैसा है शौंक सनातन के वंशज का
छोटे छोटे जीवो और पखेरू में दहशत का
सब जीवों से प्रेम बढ़ा लो आज दिवाली है

बंद करो बारूद फटाका आज दिवाली है
राम राज्य का दीप जलाओ आज दिवाली है

सुनना है तो आवाज़ सुनों पायल के रुनझुन गीतों का
झरनों के कल कल में सुन लो मीत मिलन संगीतों का
ये अमावस की रात, सितारों से करलो बात दिवाली है

बंद करो बारूद फटका आज दिवाली है
राम राज्य का दीप जलाओ आज दिवाली है

ग़र तुम हो मजबूर बारूद धमाकों के उत्सव का
सरहद में जाकर ज़ोर दीखाओं आज दिवाली है
ना घर के अंदर आग लगाओ आज दिवाली है

बंद करो बारूद फटका आज दिवाली है

राम राज्य का दीप जलाओ आज दिवाली है

डाक्टर चंद जैन "अंकुर "

रायपुर

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget