संतोष मौर्य की कविता - मंथन

image

"मंथन"
मेरा मन; अकथयत्
अगाध बाधा,
अदम्य पीड़ा,
से परिपूर्ण!

हृदय शून्य में,
वाचाल स्पंदन
निर्भय निर्बल
स्वप्न अपूर्ण!
अप्रकाशित मार्ग
अदृश्यत्!!
एवं मेरा मन
अकथयत्!!!

अबूझ्य ,गूढ़
जीवन चरित्
रक्त ,विरक्त
झंझावात!
एवं
नैतिक कर्तव्य
विस्तृत!!

संतोष मौर्य

-----------

-----------

0 टिप्पणी "संतोष मौर्य की कविता - मंथन"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.