मंगलवार, 10 नवंबर 2015

नंदलाल भारती की दीवाली की कविता - दीपदान

दीपदान महोत्सव(कविता )

उजियारे का उत्सव,दीपदान महोत्सव 

अशोक महान को याद कर 

उनकी राहों पर चलने की 

प्रतिज्ञा दोहराने का दिन आज

धो दे  अन्तर्मन के सारे दाग आज 

कुसुमित हो उठे स्व-मान के हर साज 

आओ एक दीया ऐसा जलायें 

हर ले हर जो  अंधियारा 

सद्प्रेम के नाम एक दीया जलायें 

जहां में बसा रहे  हरदम  उजियारा 

परमार्थ के नाम दीया एक जलायें 

इंसानियत की उभर जाए निखार 

बसुधैव कुटुम्बकम के नाम एक दीया

उमड़ा रहे सदा  बंधुत्वप्रेम और 

समता-सदभाव की  रसधार 

प्रकृति के नाम भी एक दीया

जीवन का है जो सार 

बहुजन - हिताय ,बहुजन सुखाय के  नाम 

एक दीया जरूर जलायें 

मानव -मन कह उठे आभार 

दीया एक ,राष्ट्र धर्म के नाम जलायें 

बन जाए दुनिया का उजियारा 

मन्नत अपनी जहां के लिए अपनी 

समता-सदभावना,विकास राष्ट्रप्रेम में 

रहे हर्षित हर मन 

सच यही आराधना 

दीपदान महोत्सव(दीपावली) की 

बहुत- बहुत बधाई 

और

हार्दिक शुभकामना………………। 

डॉ नन्द लाल भारती 

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------