आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

अभिमन्यु सिंह चारण की कविता - अंतहीन सीरिया

image

बस अब कुछ नहीं बचा है
बची हैं तो यह अँधेरी ख़ामोशी
घरों के मलबे ,
हवा में घुली बारूद की सुगंध ,
और लाल रंग से रंगी टूटी दीवारें ।

टैंकों की आवाज ने दबा दिया है ,
छोटे बच्चों के पैरों की थाप को ।
गिद्धों की क्रूर निगाह ,
ढूंढतीं हैं मरे हुए इंसानी जिस्म को ।
और
हर रोज दावत मनाते हैं ,
काला रंग ओढे इंसानी भेड़िये ।

बाकी रह गया हैं वो पुरानी
यादों का बादल ,
वो पलाश के लाल फूल ,
अमरुद के पेड़ के मीठे फल
जो उसने बड़ी मिन्नतों से
उगाए थे, घर के दालान में ।

सुनहरा " सीरिया " बन गया है
काले धुंए से घिरी एक फैक्ट्री
जहां होता है हर दिन ,
हजारों इंसानों का कत्ल ।

सीरिया अब तो हो जाओ
शांत...शांत ...शांत
गहरी शांति के साथ

(सीरिया के लोगों को समर्पित )

---

 

कविता :- वो छोटी लड़की

वो छोटी सी लड़की
जिसे मैं हर रोज
देखता हूँ ,
सामने वाली गली में
उन प्लास्टिक की थैलियों
के बीच ,
घर से फेंकी हुई
बेकार चीजों के बीच
कुछ ना कुछ खोजते हुए
उन्ही मैले - कुचले अध् फटे
कपड़ों में ।

एक बार जब मैंने झाँका
उसकी आँखों में
मुझे दिखे ,
हजारों रंग बिरंगे सपने
तितली से प्यारे
हाथ में बस्ता लिए
पढ़ने के सपने
डॉक्टर बनने के सपने
आधे - अधूरे हजारों सपने

स्मार्ट शहर की कल्पना के बीच

शायद कभी भारत स्मार्ट-देश बने
उस छोटी सी लड़की के लिए ।

अभिमन्यु सिंह चारण
जालोर , राजस्थान 

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.