अभिमन्यु सिंह चारण की कविता - अंतहीन सीरिया

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

बस अब कुछ नहीं बचा है
बची हैं तो यह अँधेरी ख़ामोशी
घरों के मलबे ,
हवा में घुली बारूद की सुगंध ,
और लाल रंग से रंगी टूटी दीवारें ।

टैंकों की आवाज ने दबा दिया है ,
छोटे बच्चों के पैरों की थाप को ।
गिद्धों की क्रूर निगाह ,
ढूंढतीं हैं मरे हुए इंसानी जिस्म को ।
और
हर रोज दावत मनाते हैं ,
काला रंग ओढे इंसानी भेड़िये ।

बाकी रह गया हैं वो पुरानी
यादों का बादल ,
वो पलाश के लाल फूल ,
अमरुद के पेड़ के मीठे फल
जो उसने बड़ी मिन्नतों से
उगाए थे, घर के दालान में ।

सुनहरा " सीरिया " बन गया है
काले धुंए से घिरी एक फैक्ट्री
जहां होता है हर दिन ,
हजारों इंसानों का कत्ल ।

सीरिया अब तो हो जाओ
शांत...शांत ...शांत
गहरी शांति के साथ

(सीरिया के लोगों को समर्पित )

---

 

कविता :- वो छोटी लड़की

वो छोटी सी लड़की
जिसे मैं हर रोज
देखता हूँ ,
सामने वाली गली में
उन प्लास्टिक की थैलियों
के बीच ,
घर से फेंकी हुई
बेकार चीजों के बीच
कुछ ना कुछ खोजते हुए
उन्ही मैले - कुचले अध् फटे
कपड़ों में ।

एक बार जब मैंने झाँका
उसकी आँखों में
मुझे दिखे ,
हजारों रंग बिरंगे सपने
तितली से प्यारे
हाथ में बस्ता लिए
पढ़ने के सपने
डॉक्टर बनने के सपने
आधे - अधूरे हजारों सपने

स्मार्ट शहर की कल्पना के बीच

शायद कभी भारत स्मार्ट-देश बने
उस छोटी सी लड़की के लिए ।

अभिमन्यु सिंह चारण
जालोर , राजस्थान 

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "अभिमन्यु सिंह चारण की कविता - अंतहीन सीरिया"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.