अक्षय आजाद भंडारी की दीवाली की कविता

ये दिवाली की रांगोली

दिवाली आई है 

उमंग हृदय में भरकर कुछ कहने आई है

कहती कुछ दिवाली की रांगोली कुछ  

संदेशा लेकर आई है।

मन में आशा भरकर धर्म के साथ भाईचारा फैला दो 

ज्ञान का दीपक मन में प्रकाश फैलाए

घर - घर एक संदेशा फैला दो।

रंगों से भरी रांगोली पटाखों पर कहती है कुछ

पटाखे करते प्रदूषण , अपनी मातृभूमि की सुनो पुकार 

हर घर घर खुशियों हो जाए,

ये दिवाली की रांगोली कुछ कहने आई है।

 

अक्षय आजाद भण्डारी राजगढ़ जिला धार मध्यप्रदेश

मो.9893711820

-----------

-----------

0 टिप्पणी "अक्षय आजाद भंडारी की दीवाली की कविता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.