सागर यादव 'जख्मी ' की लघुकथा - हौसला

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image
हौसला
--------------
सातवाँ पीरियड चल रहा था | मैं चौथी जमात के बच्चोँ को पढ़ा रहा था | क्लास
के दरवाजे से किसी लड़की की आवाज आयी
'मे आई कम इन सर '

'यस कम इन ' मैने कहा |
आज्ञा पाते ही दसवीँ जमात की छात्रा रजनी मिश्रा अपने हाँथोँ में एक कापी
लिए मेरे पास आयी |

'कहो रजनी , क्या समस्या है ?'

'सर , मैने एक कवि का जीवन परिचय लिखा है |आप मेरी कापी चेककर के बतायेँ
कि मेरी लेखन शैली कैसी है ?'

उसकी कापी देखते ही मेरे पाँव तले मिट्टी खिसक गयी | कापी मेँ किसी और
कवि का जीवन परिचय नहीँ बल्कि मेरा लिखा था | लेखन शैली बहुत ही सहज थी |

'रजनी , ये क्या पागलपन है , तुमने मेरा जीवन परिचय क्योँ लिखा ?'

'क्योँकि , मैं आपको हौसला देना चाहती हूँ '
इतना कहकर वह लड़की कमरे से बाहर चली गयी |मैं उसकी बुद्धि देखकर चकित रह गया |




----------------
सागर यादव 'जख्मी '

नरायनपुर ,बदलापुर,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश
---
ऊपर का चित्र - डॉ. सुनीता वर्मा , भिलाई की कलाकृति

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "सागर यादव 'जख्मी ' की लघुकथा - हौसला"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.