सोमवार, 16 नवंबर 2015

सागर यादव 'जख्मी ' की लघुकथा - हौसला

image
हौसला
--------------
सातवाँ पीरियड चल रहा था | मैं चौथी जमात के बच्चोँ को पढ़ा रहा था | क्लास
के दरवाजे से किसी लड़की की आवाज आयी
'मे आई कम इन सर '

'यस कम इन ' मैने कहा |
आज्ञा पाते ही दसवीँ जमात की छात्रा रजनी मिश्रा अपने हाँथोँ में एक कापी
लिए मेरे पास आयी |

'कहो रजनी , क्या समस्या है ?'

'सर , मैने एक कवि का जीवन परिचय लिखा है |आप मेरी कापी चेककर के बतायेँ
कि मेरी लेखन शैली कैसी है ?'

उसकी कापी देखते ही मेरे पाँव तले मिट्टी खिसक गयी | कापी मेँ किसी और
कवि का जीवन परिचय नहीँ बल्कि मेरा लिखा था | लेखन शैली बहुत ही सहज थी |

'रजनी , ये क्या पागलपन है , तुमने मेरा जीवन परिचय क्योँ लिखा ?'

'क्योँकि , मैं आपको हौसला देना चाहती हूँ '
इतना कहकर वह लड़की कमरे से बाहर चली गयी |मैं उसकी बुद्धि देखकर चकित रह गया |




----------------
सागर यादव 'जख्मी '

नरायनपुर ,बदलापुर,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश
---
ऊपर का चित्र - डॉ. सुनीता वर्मा , भिलाई की कलाकृति

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------