रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

सागर यादव जख्मी की ग़ज़ल, मुक्तक व कविता

सागर यादव जख्मी की ग़ज़ल, मुक्तक व कविता
 सर झुकाकर न जीना (ग़ज़ल)
--------

वक्त जब बेवफा होगा

हर किसी का बुरा होगा |

आसमाँ को झुकाया है

उसमेँ कुछ हौसला होगा |

इश्क क्यूँकर रुलाता है

दीवानोँ को पता होगा |

सर झुकाकर न जीना तुम

कोई योद्धा कहा होगा |

खाक बिगड़ेगा कुछ उसका

जिसपे हावी खुदा होगा |

चोट खाकर जमाने की

गीत 'सागर' लिखा होगा|
--------

नादान (मुक्तक)

भला समझा बुरा समझा

मगर तुमको खुदा समझा |

बड़ा नादान था 'सागर'

जफ़ाओँ को वफा समझा ||
-------

पत्थर दिल दुनिया ( कविता)

मैं अपने दिल की बात

कह देता हूँ

कविताओँ मेँ

मगर,

ये पत्थर दिल दुनिया

जज्बात नहीँ समझती |


--------------

सागर यादव जख्मी( कवि , लेखक और शायर )

नरायनपुर, बदलापुर ,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश |

मो. 8756146096
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget