रचना-पीयू 'प्रीत' की कविता - ए खुदा क्यूं अपने बन्दों को भूलाने लगा?

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

ए खुदा क्यूं अपने बन्दों को भूलाने लगा?
उम्मीद का इंतकाल कर अपने पास बुलाने लगा


सत्ता के नुमाइंदें चूसते रहे हैं हमेशा लहू
अब तो तू भी खून के आंसू रुलाने लगा ।


महरूम न कर मुझे इन दानों से मौला
अपने वारिस को क्यूं भूखा सुलाने लगा?


मेरी नजर के सामने खाक हो रही मेरी मेहनत
इस आग में क्यूं मेरे अरमानों को कुमलाने लगा?


इंतजार की भी इंतहा हो गई मेरे मालिक
इस कदर क्यूं मुझसे मुँह फुलाने लगा?


रचना-पीयू 'प्रीत'
अलवर (राज. )

--

(ऊपर का चित्र - नीता सोनी, भोपाल की कलाकृति)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "रचना-पीयू 'प्रीत' की कविता - ए खुदा क्यूं अपने बन्दों को भूलाने लगा?"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.