विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

दीपक आचार्य का आलेख - आधुनिक संचार क्रांति के महाजनक मोबाईल के सौजन्य से अब कोई नहीं कहता - बोर हो गए

image

कुछ वर्ष पहले तक यह शब्द जनमानस में सर्वाधित प्रचलित था - बोर हो गए। पर अब शायद ही कोई ऎसा बचा होगा जिसके मुँह से यह शब्द निकले कि बोर हो गए या बोर हो रहे हैं।

पहले लोग मुँह बनाते हुए इस शब्द का दिन-रात में कई-कई मर्तबा उच्चारण कर दुःखी होते थे। लोग अपने इस दुःख को बार-बार सार्वजनिक रूप से अभिव्यक्त करते थे और वह भी पूरे गर्व के साथ।

बोर होना अपने आप में वह राष्ट्रीय समस्या थी जिसके कारण लोग अक्सर ऎसे दिखा करते थे जैसे कि किसी के शोक में डूब गए हों। किसी भी तरह की प्रतीक्षा में बैठे हों, वहाँ समय पर नंबर न आने, देरी होने तथा चुपचाप बैठे रहने की विवशता की स्थिति में हर आदमी बोर होने की बात करता था। दुनिया के अधिकांश लोग बोर होने की महामारी से ग्रस्त रहा करते थे।

भला हो संचार क्रांति का कि हम सभी लोग इस बीमारी से मुक्त हो गए हैं। यह कहना और अधिक प्रासंगिक होगा कि हममें से बहुसंख्य लोग ‘बोरियत मुक्त’ हो गए हैं और यह सब देन है आधुनिक संचार क्रांति के महाजनक मोबाईल की।

अब कोई बोर नहीं होता, न किसी को होने देता है। अब सब कुछ उल्टा होता जा रहा है। लोग बोर होने की बजाय अब समय चुराने लगे हैं। अब बोरियत किसी क्षण नहीं होती बल्कि अब समय कम पड़ने लगा है। जहाँ कहीं कोई देर-दार होती है वह अब हम लोगों के लिए वरदान सिद्ध हो चुकी है।

दिन और रात में चाहे जहाँ लगे कि एकान्त मिला है, हम सब लग जाते हैं मोबाईल से बात करने। इससे कई सारे फायदे एक साथ होने लगे हैं। दो लोग हमेशा व्यस्त रहते हैं, इनकी वजह से दूसरे लोग भी मुक्त महसूस करने लगे हैं।

लोग-बाग बातचीत करने में मिनटों से घण्टों तक लगाने लगे हैं। और कुछ नहीं व्हाट्सएप, फेसबुक और दूसरी बहुत सारी साईट्स हैं, फिल्मों और गानों की इतनी अधिक भरमार है कि सुनते ही जाओ, महीनोें और बरसों तक कोई कमी नहीं आए।

फिर उन स्मार्ट फोन धारियों के तो कहने ही क्या जिनको अपने बाड़ों और परिसरों में मुफ्त के वाय-फाय सिग्नल भरपूर मात्रा में उपलब्ध हैं। इनके लिए कर्मयोग के साथ मनोरंजन और चैटिंग से लेकर वह सब कुछ आनंददायी हो गया है जो इनको हर किस्म का सुकून दे रहा है।

ऊपर से मुफतिया अपलोडिंग व डाउनलोडिंग की सुविधा का सदुपयोग करने वाले इनसे बेहतर और कौन हो सकते हैं। यही वे लोग हैं जो बिना पैसे खर्च किए सारी अत्याधुनिक सुविधाओं का जमकर लाभ पाने में रमे हुए हैं।

बच्चों से लेकर बूढ़ों, दुर्गम क्षेत्रों, पहाड़ी इलाकों से लेकर गाँव-कस्बों, शहरों और महानगरों तक में रहने वाले तमाम किस्म के लोगों के पास मोबाइल सुविधा उपलब्ध है जिसकी वजह से आजकल हर कोई आत्ममुग्ध व्यस्तता का आनंद ले रहा है।

दुनिया की आधी से ऊपर आबादी मोबाइल पर हमेशा भिड़ी रहती है। यही वजह है कि हर कोई अब व्यस्त नज़र आता है। कोई किसी से बतियाने का आनंद पा रहा है तो कोई गाने सुनने, पिक्चर और वीडियों का मजा पा रहा है। सब लोग अपने-अपने हिसाब से मोबाइल के जरिये दुनिया भर का लुत्फ उठा रहे हैं। जिसे सनक चढ़ी नहीं कि मोबाइल का चक्कर शुरू। कइयों के लिए तो यह तलब ही हो गया है।

जिसे जहाँ फुरसत मिली नहीं कि लग जाता है मोबाइल से खेलने। बच्चों के लिए जैसे खिलौनों का महत्त्व है वैसे ही अब हर आयु वर्ग के इंसान के लिए  मोबाइल हो गया है। खिलौनों की किस्में अलग-अलग हैं मगर उपयोग एक सा ही।

शादी-ब्याह का मौका हो या फिर श्मशान घाट पर दाह संस्कार का वक्त। या और कुछ। सभी जगह मोबाइल अपनी उपयोगिता सिद्ध करता हुआ हम सभी को धन्य कर रहा है।

सभी प्रकार के लोग मोबाइल युग में जीने के आदी हो गए हैं। घर-परिवार, समाज और देश के लिए मोबाइल ही है जो सबसे अधिक उपयोगी और प्रभावी सिद्ध हो रहा है। ये मोबाइल न हो तो अब आधी दुनिया आत्महत्या ही कर ले, खूब सारे लोग पागल हो जाएं और दूसरों की जाने क्या गति हो जाए।

सबको काम मिल गया है। काम वालों की स्पीड़ बढ़ गई है और बिना काम वालों को पक्का काम मिल गया है। खुद भी व्यस्त रहो, दूसरों को भी व्यस्त रखो। समाज और देश पर इससे बड़ा हमारा उपकार कुछ और हो ही नहीं सकता।

हमारी पारस्परिक संवेदनाओं और एक-दूसरे के लिए काम आने की भावनाओं को कोई साकार कर रहा है तो वह यह मोबाइल ही है। जिन लोगों के पास मोबाइल है, जो लोग दिन-रात वजह-बेवजह इसके इस्तेमाल का आनंद पा रहे हैं, वे सभी लोग धन्य हैं, उनके उपकार को कोई भुला नहीं हो सकता।

 

---000---

दीपक आचार्य के प्रेरक आलेख inspirational article by deepak aacharya

- डॉ0 दीपक आचार्य

  dr.deepakaacharya@gmail.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget