शुक्रवार, 27 नवंबर 2015

अनुज कटारा की कविता - मैं तेरा अपराधी

image

मैं तेरा अपराधी
तू मेरा अपराधी
प्यार किया पर साथ नहीं कैसी ये विचित्र
कहानी


मैं तेरा.....
लबों के स्पर्श हुए,तन भी जाने क्यों मदमस्त हुए
मनों में टकराव हुआ और हो गयी बात
पुरानी


मैं तेरा....
याद किया जब मुझको , मैंने था साथ निभाया
प्यार किया जब तुझको, तूने क्यों बंधन छुटकाया
भूल गए वो वादे , और वो इरादे
जो बाँहों की उर्मियों में तूने थे साथ गुजारे
सावन की रातों की ,
तेरी उन बातों की , याद है
पुरानी


लेकिन मेरे जीवन की अब
यही एक कहानी
मैं तेरा....

Name - Anuj Katara
College -Govt. College of engg. & technology, Bikaner
Address -behind the ICICI bank ,mahukalan ,sawai madhopur, Raj.

E mail-anujkatara7@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------