मनोज मोक्षेन्द्र की कहानी - अंकल, प्लीज़ लिफ़्ट का सस्वर पाठ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

कहानी अंकल, प्लीज़ लिफ़्ट कोलकाता से प्रकाशित पत्रिका वागर्थ में जून, 2012 में प्रकाशित हुई थी। इसमें कथाकार डॉक्टर मनोज मोक्षेंद्र ने महानगरों में घटित हो रहे भावशून्य प्रेम-संबंधों का एक जीवंत रेखाचित्र प्रस्तुत किया है। प्रस्तुत है इस कहानी का पाठ।

कहानी का शीर्षक है अंकल, प्लीज़ लिफ़्ट

ज्ञातव्य है कि इस कहानी पाठ की रेकॉर्डिंग आधुनिक तकनीक के जरिए टैक्स्ट टू स्पीच सुविधा द्वारा स्वचालित की गई है. पाठ सुनने का अपना अनुभव हमसे साझा करें.

 

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "मनोज मोक्षेन्द्र की कहानी - अंकल, प्लीज़ लिफ़्ट का सस्वर पाठ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.