रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

दीपक आचार्य का आलेख - आओ जश्न मनाएँ


लोक जीवन और परिवेश में जहाँ उल्लास होता है वहाँ सृष्टि की हर इकाई आनंद का अनुभव करती है और यह आनंद भाव ही जीवन से लेकर जगत तक में विविध सफलताओं का सुकून प्रदान करता है।

इंसान के लिए जीवन को जीने के दो ही रास्ते हैं। या तो अंधकार के व्यामोह में पड़ा रहकर कुढ़ता रहे, औरों को कोसता रहे और जीवन के आनंद को भुलाकर जीवन को व्यथा समझता रहे अथवा उजियारे का सान्निध्य पाकर उन्मुक्त आकाश के नीचे विचरण करता हुआ प्रकृति और जगत के रचना कर्म का आनंद पाता हुआ अपने आप को धन्य मानें, भगवान को धन्यवाद दे और अपने आस-पास वालों को भी सुकून, संतोष एवं आनंद का प्रत्यक्ष अनुभव कराए।

इस दृष्टि से जीवन में जब कभी उल्लास का कोई सा अवसर आए, उसका भरपूर उपयोग करें। अपने लिए और जगत के लिए। समझदार इंसान यही करते हैं और सभी को इसी की प्रेरणा देते हैं।

उल्लास का कोई सा अवसर हो, इसके प्रति अपनी भागीदारी निभाएं, अपनी ओर से पहल करें और जितना अधिक हो सके, आनंद भाव को पाने का प्रयास करें।

यह आनंद भाव ही है जो इंसान को ताजगी का अहसास करा सकता है और यही ताजगी उसके जीवन को लक्ष्य की प्राप्ति कराती है।

इस लिहाज से हम सभी को चाहिए कि उल्लास के किसी भी अवसर को हाथ से न जाने दें। उत्साह अपने आप में सकारात्मकता और उजालों का पर्याय है तथा जीवन को सुनहरे इन्द्रधनुषों से भरने का तमाम सामथ्र्य रखता है।

जबकि उत्साहहीनता नकारात्मकता और अंधकार का संदेश देती है जहाँ इंसान कोई सा हो, उसका जीवन अंधेरे कोनों में रहने वाली मकड़ी की तरह ही हो जाता है।

जो जितना अधिक सकारात्मकता चिन्तन करता है, उजालों का हमसफर होता है, नेक-नीयत रखता हुआ औरों के लिए जीता है, वह अपने आप में ईश्वरीय दूत की तरह होता है, उसका सामीप्य भी आनंद देने वाला होता है।

जिसकी दृष्टि आम आदमी, गरीबों, उपेक्षितों तथा पिछड़ों पर होती है, जो समाज की हर इकाई के कल्याण के लिए चिन्तित होता है, वही लोक परंपरा में पूजा और स्वीकारा जाता है।

जो जश्न मनाना जानता है वही आगे बढ़कर हिमालय होता है, क्योंकि जिनके पास सूक्ष्म से लेकर स्थूल तक सभी कुछ सकारात्मक और लोक कल्याणकारी होता है वही अपनी सद् वृत्तियों के माध्यम से महाकाश तक में अपनी अनूठी गंध और गूंज पसारने की क्षमता रखता है। 

हर दिन जश्न का है। आज भी जश्न मनाएं, कल भी मनाएं और इसी तरह जश्न-दर-जश्न मनाते हुए आनंद के साथ तरक्की के सफर का स्वर्णिम इतिहास लिखें।
 
---000---
दीपक आचार्य के प्रेरक आलेख inspirational article by deepak aacharya
- डॉ0 दीपक आचार्य
  dr.deepakaacharya@gmail.com

















विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget