आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

कादम्बरी का अखिल भारतीय साहित्यकार-पत्रकार सम्मान समारोह

डॉ० के० उमराव ‘विवेकनिधि’ को समग्र लेखन हेतु मिला सरस्वती सम्मान

clip_image002 clip_image004

जबलपुर (म.प्र.)। जबलपुर मध्य प्रदेश में विगत 28 नवम्बर 2015 को ‘कादम्बरी जबलपुर द्वारा आयोजित अखिल भारतीय साहित्यकार.पत्रकार सम्मान समारोह शहीद स्मारक स्थित प्रेक्षाग्रह में आयोजित किया गया जिसकी अध्यक्षता महामंडलेश्वर स्वामी प्रज्ञानंद ने की एवं मुख्य अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार डॉ० राज कुमार सुमित्र थे। इस अवसर पर देश के कौने.कौने से आये 40 साहित्यकारों.पत्रकारों को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर मथुरा से आमंत्रित वरिष्ठ कवि, लेखक एवं पत्रकार डॉ० के० उमराव ‘विवेकनिधि’ को ‘समग्र लेखन’ के लिये उनके कहानी संग्रह ‘भोर का सपना’ चयनित किये जाने पर ‘हिन्दी विभूति सरस्वती सम्मान’ पांच हजार रुपये नगद, अंगवस्त्र, स्मृति चिन्ह एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया।

इस सम्मान समारोह के पूर्व जबलपुर के शासकीय स्वशासी मानकुंवर बाई कला एवं वाणिज्य महिला महाविद्यालय में हैदराबाद से आयीं मुख्य अतिथि डॉ० अहिल्या मिश्रा एवं डॉ० ऊषा दुबे थीं। अध्यक्षता में रामेश्वर शुक्ला अंचल की जन्म शती पर राष्ट्रीय संगोष्ठी आयेजित की गयी। जिसमें डॉ० विवेकनिधि को प्रथम वक्ता के रूप में स्थान दिया गया।

इस जबलपुर के कार्यक्रम के पहले हिन्दी दिवस के अवसर पर ‘हिन्दी लाओ देश बचाओ’ के दिनांक 14, 15, 16 सितम्बर 2015 को भी डॉ० के० उमराव ‘विवेकनिधि’ को ‘‘हिन्दी.भाषा भूषण’’ की उपाधि से भी सम्मानित किया जा चुका है। ये बड़े ही गौरव की बात है कि डॉ० विवेकनिधि को अब तक देश के कौने.कौने से सैकड़ों पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं।

डॉ० कृष्णावतार उमराव ‘विवेकनिधि’ विविध साहित्यिक, सामजिक, शैक्षिक सांस्कृतिक संस्थाओं से जुड़े हुये हैं। आपने हिन्दी की विविध विधाओं पर अपनी लेखनी चलाई है। अब तक उनकी तेइस पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। दो प्रेस में है। आप लगभग तीन दशक से आकाशवाणी मथुरा से भी जुड़े हुये हैं और देश की विभिन्न पत्र.पत्रिकाओं में आपकी सैकड़ों रचनायें व लेख प्रकाशित हो चुके हैं। आप अभी भी स्वच्छन्द लेखन के लिये पूर्णतः समर्पित व्यक्ति हैं।

डॉ. विवेकनिधि सम्मानित होने पर वरिष्ठ कवि पं० ललित कुमार वाजपेयी ‘उन्मुक्त’, डॉ. कन्हैयालाल पाण्डेय, डॉ० अनिल गहलौत, डॉ० रमाशंकर पाण्डेय, डॉ० राम निवास अधीर, डॉ० योगेश निर्भीक, डॉ० धर्मराज, डॉ० विनोद शर्मा, डॉ० दिनेश पाठक ‘शशि’ इं० संतोष कुमार सिंह, मदन मोहन शर्मा ‘अरविन्द’ डॉ० वृन्दावन दास पांडया, डॉ० सुरेश पाण्डेय, श्याम सुन्दर गोस्वामी, नीरजशास्त्री, मोहन मोही, लाखन सिंह, अशोक अज्ञ, पत्रकार जितेन्द्र सिंह व पं० मृदुल शर्मा ने हार्दिक बधाई दी हैं।

. संतोष कुमार सिंह

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.