दीपक आचार्य का प्रेरक आलेख - अब तो कुछ करें अंतिम पखवाड़ा बचा है

image

साल भर तक यों ही गुजार दिया गुलशन में, और अब लो अवसान आ गया।

पता ही नहीं चला कि कब आ गया वर्षावसान का दौर। मुट्ठी से समय की रेत सरक कर उड़ती रही और भान ही न रहा इसका।

हर बात यही सब होता है। हम स्रष्टा भी होते हैं और साक्षी भी। फिर भी  साल-दर-साल वही पुराने ढर्रे पर चलने के आदी हो गए हैं। हर बार जब-जब भी नया कुछ शुरू होता है हम सीना तान कर संकल्पों के साथ आगे बढ़ते हैं, कुछ दिन करते हैं फिर वही ढाक के पात तीन के तीन। 

यही हमारी सालाना नियति है। हम साल भर तक घूम फिर कर वहीं आकर अटक जाते हैं। यह अंग्रेजीदां वर्ष भी अवसान की ओर उन्मुख है।  अब भी कुछ दिन शेष बचे हैं। क्यों न हम याद कर लें उन संकल्पों को, जो हमने इस साल के आरंभ में लिए थे, एक बार याद ताजा कर लें उन सपनों को जिन्हें हमने देखा था।

बहुत कुछ सोचा-समझा और स्वीकारा था, साहस भी बटोरा था कुछ कर गुजरने का। पर हो कुछ न पाया। अब भी समय बचा है, जितना है उसी का उपयोग कर लें। वरना कुछ न कर पाने का मलाल और अफसोस हमेशा हावी रहेगा हम पर।  चेतन और अवचेतन दोनों में भरा रहकर परेशान करता रहेगा।

वर्ष का यह अवसान काल भले  ही हमारी संस्कृति और परंपराओं में शुमार न हो, लेकिन इतना तो तय है ही कि हमें अपने आपको सजाने-सँवारने और निखारने के लिए कोई न कोई बहाना चाहिए होता है, चाहे वह अपना सांस्कृतिक नव वर्ष हो या फिर पाश्चात्यों वाला, अथवा कोई सा दूसरा मौका।

ईयर एण्ड के नाम पर  एंजोय करने वाले सभी लोगों के लिए वर्ष का यह अंतिम पखवाड़ा आत्मचिन्तन का मौका है जिसमें हम सभी को यह सोचना होगा कि जिस ईयर एण्ड के नाम पर हम मनोरंजन करना और घूमना-फिरना चाहते हैं, उस ईयर मेंं हमने ऎसा कौन सा काम किया है कि जो थकान लगी हो, रिलेक्स होने की जरूरत हो।

हम सभी को चाहिए कि स्वस्थ मूल्यांकन करें और अपने इस वर्ष के जो कुछ बचे-खुचे काम हैं, उन्हें निपटाएं और उसके बाद ही मनोरंजन  के बारे में सोचें।

कामों के बोझ के होते हुए मनोरंजन या भ्रमण न आनंद दे सकता है, न आत्मशांति। वर्ष का अंत मौज-शौक से मनाएं लेकिन इसके लिए यह भी देख लें कि हम काम की पूर्णता के बाद का आनंद चाहते हैं या कामों को लंबित रखते हुए आनंद पाना।

पहले कर्मयोग की पूर्णता के लिए प्रयास करें, इसके बाद मनोरंजन और भ्रमण का आनंद पाने का प्रयास करें, इसी में जीवनानंद शामिल है।

---000---

दीपक आचार्य के प्रेरक आलेख inspirational article by deepak aacharya

- डॉ0 दीपक आचार्य

dr.deepakaacharya@gmail.com

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.