विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

. शोभा श्रीवास्तव की कविताएँ - ओ लड़की

ओ लड़की
                  ------------
                          (1)
   ओ लड़की
   मत खेलो गिल्ली - डंडे
   मत नापो डंडे से
   गिल्ली तक का विस्तार
   पतंग की डोर के सहारे
   मत देखो आसमान

   लड़की होना,  पृथ्वी होना है
   पृथ्वी गोल है,  गेंद की तरह
   अौर गेंद की प्रकृति है लुढ़कना
   इसलिए
   लुढ़को , जिधर लुढ़काया जाए

   या फिर
   हवा का आँचल थामकर
   पहुँचो आकाश में
   और लौटो
   नक्षत्रों की अदम्य चमक लिए
   करो आलोकित पूरी पृथ्वी को
   कि सार्थक हो जाए
   तुम्हारा पृथ्वी समझा जाना
   और गर्व करे पृथ्वी
   अपने लड़की होने पर

   ओ लड़की
    विकल्प तुम्हारे सामने है।

                 (2)
     लड़की
     बेलती है रोटी
     जलाती है चूल्हा
     दहकता है अंगार
     लड़की
     रोटी की गोलाई में
     देखती है पृथ्वी
     आटे की लोई से
     चुनती है शब्द
     बनती है रोटी
     बनती है कविता

      रोटी, जैसे पूरी पृथ्वी
      कविता, जैसे अभी - अभी
      आँच पर सिंकी हुई रोटी।
               ---------
                          डाँ. शोभा श्रीवास्तव
                   प्राचार्य, हायर सेकेंडरी स्कूल
                      राजनांदगाँव, छत्तीसगढ़

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget