सुधा शर्मा की कविता - ऐ मेरे भाई!

image

ए मेरे भाई!
जरा आँख मिलाकर बता,क्यूँ तूने की रूसवाई?
तोडकर सारे प्रेम के बंधन नफरत की रीति निभाई


मुझे पता है....मुझे यकीं है,
बिल्कुल यकीं है,कल वो अवश्य तेरे घर आएगा
होली पर गले मिलेगा,दीवाली की मिठाई खाएगा


मुझे विश्वास है...
सारे तोडकर बंधन तू भी उसके घर जाएगा
ईद की देगा मुबारकबाद,साथ सेवैया खाएगा
फिर क्यों गैरो के व्यूह में फँस,घर में आग लगाता
सदियों की यह प्यार मुहब्बत,पल में भूल जाता


याद रख.......
उसकी राखि के बिन तेरा हाथ सुना रह जाएगा
गर उसके दामन मेम दाग लगा,तू भी सो न पाएगा


भूल गया......
पाक दामन को बचाने हेतु,तूने भी जान गँवाई है
उसका दामन छूने की फिर जुर्रत किसने दिखाई है


अभी तक.....
गंगा,यमुना की संस्कृति है,संग संग यग बहती है
रानी हो या रेहाना माथे की इज्जत रहती है


सोच जरा.. ......
आज जो खून बहाया,कल तू बहुत पछताएगा
अग्रिम संतति के ताने सुन,शीश शर्म से झुकाएगा


कल फिर........
नन्हीं सी रेखा आकर,तुझको मामूजा पुकारेगी
ओर छोटी सी फातिमा,गले में बहिया डालेगी


विचार कर......
उस मंजर को देख तू कितना झुक जाएगा
चाकू खंजर की जरूरत नहीं,ग्लानि से तू मर जाएगा


जाग जा..........
होश में आजा,तुम दोनों को संग जीना,मरना है
इन सियासी चालों में,क्यँ अपना लहू बहाना है

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.