शुक्रवार, 25 दिसंबर 2015

विनीत कुमार का बैचलर्स किचन - आलू पराँठे, जीरमानी, टमाटर की मीठी चटनी विद इन्सटैंट मेड अचार

image

रेडी-पटरी तो छोड़ ही दो, अच्छे से अच्छे रेस्तरां में आलू के परांठे में जो आलू-मसाला भरते हैं वो पिता-पुकार टाइपवाली बेहद बकवास. आलू उबाला, मेस किया और उसमे मार गर्म मसाला, धनिया-मिर्ची पाउडर और नमक झोंक दिया. नतीजा खाने के बाद आप अच्छा फील नहीं करते.

बैचलर्स किचन में ऐसी बकवास नहीं होती..या तो मत बनाओ, सीधे हडिया उलट या फिर बनाओ तो विद फुल्ल इमोशन्स. तो यहां आलू उबालकर उसे एक प्याज, हरी मिर्च के साथ हल्के तेल में खूब अच्छे से भुना जाता है, गुलाबी होने तक. ये भुने हुए आलू ही इतने स्वादिष्ट हो जाते हैं कि आपको कुछ और खाने का मन ही नहीं होएगा. खैर

आलू ठंडा होने तक इंतजार किया जाता है और इस बीच आटा गूंथकर तैयार. अब नीरजजी ( Niraj Kumar Jha) ने इन्सटैंट अचार की रेसिपी पूछी है..तो ऐसा है बंधु, एक गाजर, आधी मूली और चार-पांच हरी मिर्च, मन करे तो थोड़ी सी अदरक सब अच्छे से छीलकर( मिर्च छोड़कर) लंबाई में काट लें. तीन से चार मिनट तक पानी में खूब अच्छे से उबालें. उबल जाने पर पानी निकाल लें. कडाही गर्म करें और एक चम्मच सरसों तेल डालें. उसके बाद सरसों के दाने और उबली हुई सारी चीजें. इसके तुरंत ही एक चुटकी हल्दी, सरसों पिसी हुई और नमक. एक मिनट तक आंच पर रखें और उतार लें. अब ठंडा होने के बाद नींबू निचोड़कर अच्छे से मिला लें. हो गया आपका इन्सटैंट अचार तैयार.

आलू के परांठे हो और आसपास भुने हुए जीरे की खुशबू डोरे न डाले, ये कैसे हो सकता है ?.. तो सीधे फ्रीज से दही निकालकर खाने के बजाय इसकी जिरमानी बना लें. करना कुछ खास नहीं होगा. कांच की बॉउल में दही निकालें. आधी प्याज बिल्कुल बारीक काट लें..हरी मिर्च और इसमे मिला दें. उपर से भुने हुए जीरे की डस्ट. हवाबाजी के लिए कटोरी में डालने के बाद उपर से धनिया पत्ती और मिट्टी से उगते हुए दिखाने के लिए उसकी बॉटम में लाल मिर्च पाउडर.

इधर टमाटर की मीठी चटनी का हिसाब बहुत सिंपल है. दो टमाटर बिल्कुल बारीक काट लें. कडाही गर्म होने पर एक चम्मच देसी घी या रिफाइन डालें. लाल मिर्च साबुत, सौंफ और फिर टमाटर के छोटे टुकड़े कडाही में डाल दें..तीन से चार मिनट चलाते रहें. फिर चार चम्मच चीनी के साथ पकाएं. चीनी डालते ही मटीरियल चिपकने लगेगा. आंच थोड़ी धीरे कर दें और न हो तो तीस-पैंतीस सेकण्ड के लिए ढंक दें. फिर एक दो कप पानी डालकर पकने दें..गाढ़ा हो जाने पर उतार लें. मन हो तो इसमे किशमिश, मूंगफली या काजू और सूखा नारियल काटकर डाल सकते हैं.

ये सब करने में ज्यादा से ज्यादा पैंतीस मिनट लगेंगे और आपकी दोपहर कितनी हसीन हो जाएगी, ये मुझसे नहीं, पिक भेजकर उससे पूछिएगा जिसकी मिनट-मिनट पर व्हॉट्स अप मैसेजेज न आए तो आपको ऑक्सीजन की कमी होने लग जाती है...

‪#‎बैचलर्सकिचन की ख़ास पेशकश

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------