सुधा शर्मा की कविता - माँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

माँ तेरा आँचल है बरगद की छाँव,
गमों की धूप मुझ तक आने नहीं देता.
माँ वक्षस्थल है तेरा चंदन. का वृक्ष
गमों के सर्पों का विष असर दिखा नहीं पाता
आशीर्वाद में जो हाथ माँ तेरा उठ जाए
जमानेभर की खुशियाँ बादल बनकर छा जाएँ
माँ तेरा दुलार तो है मेरे लिए सुखों का वितान
दुनिया के हर कोने में मेरा परचम लहरा जाए
जो है उदास,खिन्न और लाचार,
क्या उनकी माँ की दुआओं में असर नहीं
असर तो है पर तूने उन्हें पुकारा नहीं
माँ की दुआ पाने के लिए अपने हृदय को निखारा नहीं

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "सुधा शर्मा की कविता - माँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.