रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

शिव कुमार यादव के प्रेम गीत

image

 

तुम्हें देखकर

एक मुस्कान ठहरी है तेरे होठों में

जरुर किसी ने सपनों को गुदगुदाया होगा

नहीं है चेहरे में कोई काला बादल

वफ़ा के गीत फिर कोई

तेरे कानों में गुनगुनाया होगा

माना की तल्ख़ है जिंदगी का सफ़र

जीने के लिए हौसला चाहिए

मंजिल दूर नहीं होती सपनों की

जंग लड़ने का फैसला चाहिए

तुम बहुत मासूम हो,पाक इरादे हैं

जिंदगी की वादियों में तैरते वादे हैं

लगता है पढ़ लिया जिंदगी की किताब

किसी लफ्ज ने तुम्हें भरमाया होगा

देख रहा हूँ शोखियाँ तेरी आँखों में

खिल रहे फूल जैसे चाहत की शाखों में

संजीदा चेहरे पे नूर आ गया है

जैसे जिंदगी में जीने का सुरूर आ गया है

वक्त ने फिर सपनों को सहलाया होगा

Xxxxxxxxxxxxxxxxxxx

 

वक्त

खाली हो गया आंसुओं से

मेरी आँखों का पैमाना.

नहीं रहा अब मेरी गलियों में

तेरा आना जाना.

कौन बेरहम है, कह नहीं सकता

वक्त या वक्त का फ़साना.

लुट गया जज्बातों का मेला

नहीं रहा अब कोई बहाना,

बदलते मौसम से बदल गए

तेरी आरजू, तेरा ख़याल.

नहीं रहा अब, मेरे नाम से

तेरे गालों में वो गुलाल,

दफ़न हो गया सपनों का

सजना – सजाना..

xxxxxxxxxxxxxxxxxx

 

तेरी गली

अनजिये सपनों की

पहचान है, तेरी गली

आंसू नहीं, गम नहीं

मुस्कान है, तेरी गली

जज्बात के सितारों से सजी

आसमान है, तेरी गली

खोकर हम दोनों को

परेशान है, तेरी गली

आज भी बुलाती है

नादान है, तेरी गली

अहसास की तपिश लिये

अरमां है , तेरी गली

आज मैं नहीं,तुम नहीं

सुनसान है , तेरी गली

दफ़न है रिश्तों का वजूद

कब्रिस्तान है , तेरी गली

Xxxxxxxxxxxx

शिव कुमार यादव

डी. 170 – आर.एम.एस.कालोनी

टैगोर नगर / रायपुर / छत्तीसगढ़

मोबाईल- 09407625051

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget