रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

लक्ष्मीकांत वैष्णव की कविताएँ

image

क्या है ?
बोल मां मैं कौन हूं ,
और सही मेरा नाम क्या है ?
है कहां से जन्म मेरा ,
इस जगत में काम क्या है ?
स्त्रोत क्या मेरे विचार का ,
हमारी चेतना का ,
प्रेम का और विश्व में ,
फैली हुई इस वेदना का ?
बोल उद्गम कौन है ,
प्रकाश के उस पुंज का ,
जिसकी आभा से खिल उठता ,
कमल मेरे कुंज का ,
मां बता मुझको कि ,
मेरा धर्म क्या है ?
क्या मेरा कर्तव्य और ,
कहते जिसे सत्कर्म क्या है ?
दे दिखा अब किरण अपनी ज्योत्सना की ,
दे बता मुझको मरण का भेद क्या है ?

आ के कानों में मेरे चुपके बता ,
उपनिषद क्या है वेद क्या है ?
संत कहते हैं कि हम ,
सोये हैं गहरी नींद में ,
जग नहीं पाते हैं हम ,
इसमें तुम्हारा राज क्या है ?
क्यों नहीं होता कि मानव ,
दूसरों के हित जिये ,
जागरण और स्वप्न के बीच ,
बज रहा यह साज क्या है ?
--------
गजल
जग की नजरों में जो इक इंसान है ,
मेरी नजरों में वही भगवान है ।
सब के दिल में प्यार हो सब के लिए ,
मेरे मजहब का यही फरमान है ।
काम आए आदमी का आदमी ,
आदमी का बस यही ईमान है ।
इश्क के गम से जो दिल परिचित नहीं ,
इल्म - ए - रूहानी से भी अंजान है ।
मौत की मंजिल तलक है मुश्किलें ,
उसके आगे सारा रास्ता आसान है ।
इश्क – ए - मुर्शिद में रहूं बेसुध सदा ,
मेरे दिल में इक यही अरमान है ।
होश में बेहोशी , बेहोशी में होश ,
सूफियों की भी क्या निराली शान है ।

--
मेरे प्यारे नाविक

मेरे प्यारे नाविक
सागर विशाल है , तरंगें उत्ताल है ,
तूफान विकराल है और
भयावह काल है ।
और नाविक !
वायु का बहना , सागर की गर्जना ,
मगरमच्छ का विचरना , व्हेल का सरकना ।
और मार्ग का पता नहीं ,
सागर की थाह नहीं  , पतवार साथ नहीं ,
आशा का नाम नहीं ।
तुम निडर , बेखबर ,
धीर और गम्भीर ,
जैसे कुछ है ही नहीं ।
सब से निर्लिप्त ,
स्वयं में लिप्त ,
तुम्हारे नेत्रों में रहस्य
और मुख पर हास्य ।
प्यारे नाविक !
तुम बढ़े चले जा रहे हो ,
मझधार में , विपत्तियों को चीरते ,
लहरों को काटते ,विचारों में दृढ़ ,
अपने पथ पर , अपने लक्ष्य पर ,
धन्य नाविक ,
प्यारे नाविक ।
---


लक्ष्मीकांत वैष्णव , रायपुर ( छ. ग.)

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget