प्रियंका पाण्डेय की कविता - वो जिए

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

वो जिए

वो जिए

वो जीती है

और जिन्दा है

बनफूल की तरह |

उसे यकीन है

जिंदगी में ,

जैसे बच्चों का होता है ,

परीकथाओं में |

वो बुनती है

जिंदगी के गज्झिन सपने

जैसे माई बुनती थी

ठिठुरते रातों में स्वेटर

हमारे लिए |

हम मंगाते हैं मन्नतें

और प्रार्थनाएं करते हैं ,

उसके लिए

कि समय चाहे कैसा भी हो ,

वो बनी रहे,

उसके जीवन में सदा आनंद बना रहे ,

वो अपनी जिंदगी

अपने यकीन के साथ

जिन्दा रहे|

--

कवियत्री परिचय :

प्रियंका पाण्डेय,M.A, M.Phil

हाजीनगर

मेल : <s.priyanka.pandey@gmail.com>

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "प्रियंका पाण्डेय की कविता - वो जिए"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.