विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

शोभा श्रीवास्तव के दोहे

image

 

पत्ता - पत्ता सिहर उठा, शाखाएँ हैं बेकल।
जगह - जगह उगने लगे हैं कांक्रीट के जंगल।
                ---------------
घेरे है इंसान को यूं रिश्तों का भ्रमजाल।
सीधा दिखता जो जितना, उतनी टेढ़ी चाल॥
                 ---------------
कतरा - कतरा खून का देकर सींचा बाग।
तपन भरे इस दौर में झुलस गया अनुराग॥
                 ---------------
बौराईं अमराईयाँ , कोयल गाए गीत।
नयनों में है नेहरस , मन में उपजी प्रीत॥
                 ---------------
रूप बदल आता रहता नित - नित नया झमेला।
रंग - बिरंगी सजी दुकानें, जीवन है इक मेला॥
                 ---------------
आग उगलती वाणी से, झुलसे मन के तार।
संबंधों  की  नींव है  मात्र प्रेम रसधार॥
                 ----------------
अपनों की इस भीड़ में अपनेपन की चाह
भटका सा मन बावरा,  सूझे न कोई राह॥
                  ----------------
अक्षर - अक्षर बिखर गये, ऎसे टूटे शब्द।
आशय्  गुम होने लगे, भाव नहीं उपलब्ध॥
                  ----------------
जबसे झूठे पड़ गये रिश्तों के  अनुबंध।
साज हुए सब बेसुरे,  सिहर उठे फिर छंद॥
                  -----------------

                        डाँ शोभा श्रीवास्तव

             प्राचार्य,  हा. सेके. स्कूल
                      राजनांदगाँव, छत्तीसगढ़

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget