गुरुवार, 31 दिसंबर 2015

रवीश कुमार का व्यंग्य - नए वर्ष की दुर्भावनाएँ

ये शुभकामना नहीं दुर्भावना है ठाकुर (आमतौर पर इंटरनेट की सामग्री को रचनाकार में रीसायकल नहीं किया जाता. यदा कदा अपवाद स्वरूप कुछ सामग्री...

ताराशंकर वंदोपाध्याय की कहानी – दीपा का प्रेम

ताराशंकर वंदोपाध्याय की कहानी – दीपा का प्रेम यह मुझे पता था। कितनी बार मैंने कहा था। मगर कौन सुनता है। मैं क्या कोई आदमी हूँ कि मेरी बात स...

दीपक आचार्य का नूतनवर्षाभिनंदन प्रेरक आलेख - बोझ त्यागने का वक्त आ गया

(छाया - प्रमोद यादव)   वक्त आ ही गया है बोझ त्यागने का - डॉ. दीपक आचार्य 9413306077 dr.deepakaacharya@mail.com आसमाँ की ऊँचाई पा...

प्रमोद यादव के नववर्षाभिनंदन चित्र

स्वागत...नव वर्ष का...प्रमोद यादव   प्रमोद यादव

प्रमोद भार्गव का आलेख - लीजिए, पेश है बोतल-बंद ताज़ी हवा.

सदियों पहले किसी ने सोचा नहीं होगा कि बोतलों में पानी बिकेगा. आज यह वास्तविकता है. इसी तरह बोतलों में ताजी हवा मिलने लगी है. मनुष्य ने प्रक...

नूतनवर्षाभिनंदन कविताएँ

दोहे रमेश के नववर्ष पर पन्नो मे इतिहास के, लिखा स्वयं का नाम ! दो हजार पंद्रह  चला,.....यादें छोड तमाम !! दो हजार पंद्रह  चला, छोड सभी का ...

शैलेन्द्र सरस्वती की कहानी - बन जा सांप!

बन जा सांप ! कहानी - शैलेन्द्र सरस्वती .....................................................................................................

बुधवार, 30 दिसंबर 2015

ब्रजमोहन शर्मा की 10 ग़ज़लें

1 रंगों के उत्सव में सब एक रंग हो जाओ भेदभाव भूलकर सारे सबको गले लगाओ । चौपालों पर जमी हुई हुल्लड़बाजी में शामिल हो होली को सबके साथ मनाओ ।...

प्रतापनारायण मिश्र का व्यंग्य - उपाधि

यद्यपि जगत में और भी अनेक प्रकार की आधि-व्याधि है पर उपाधि सबसे भारी छूत है । सब आधि-व्याधि यत्न करने तथा ईश्वरेच्छा से टल भी जाती हैं पर यह...

मंगलवार, 29 दिसंबर 2015

चन्द्रकुमार जैन का विशेष आलेख - मजदूर कभी नींद की गोली नहीं खाते !

हाल ही में लम्बी ग़ज़ल वाली किताब मुहाजिरनामा घर ले आया। बहरहाल, मुनव्वर साहब के दिल से निकली कुछ बातों पर गौर फरमाइए - "अगर मेरे शेर इम...

दीपक आचार्य का प्रेरणादायी आलेख - भाड़े के टट्टू करते हैं इधर की उधर

आजकल भारवाहक, मालवाहक आदि से भी अधिक संख्या में वे लोग हैं जो इधर की उधर, उधर की इधर करने के आदी हैं। अपने आप को किसी छोटे-मोटे कियोस्क से ...

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------