रविवार, 31 जनवरी 2016

अंगुलिमाल / कहानी / शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव

पूर्व प्रसंग  समय लगभग ईस्वी पूर्व 500. ज्ञान प्राप्त करने के बाद बुद्ध लोगों तक अपनी देशना पहुँचाने के लिए गाँव गाँव भ्रमण करते थे. भ्रमण ...

अमृता शेरगिल : फूलों के रंगों पर खुशबू के हस्ताक्षर की मिसाल ! / आलेख / डॉ.चन्द्रकुमार जैन

गूगल ने मशहूर भारतीय चित्रकार अमृता शेरगिल की 103वीं जयंती निराले अंदाज़ में मनाई। इस खास दिन को यादगार बनाने के लिए गूगल ने तीन महिलाओं की ...

शनिवार, 30 जनवरी 2016

भारत का अगला क्रांतिकारी चरण तकनीकी के वेश मे पदार्पण करेगा - ललित याज्ञिक

  भारत का अगला क्रांतिकारी चरण तकनीकी के वेश मे पदार्पण करेगा - ललित याज्ञिक   अंतर्राष्ट्रीय आईटी विशेषज्ञ ललित याज्ञिक से हरिहर झा की बात...

होरी / कहानी / राजू सुथार 'स्वतंत्र'

होरी जो बिसू की सबसे छोटी बेटी है जो कि बिल्कुल ही भोली-भाली अज्ञान एवं अशिक्षित है पिता बिसू जो काफी गरीब है दिनभर मेहनत करने पर दो वक़्त क...

स्खलित नैतिकता के झंडाबरदार / व्यंग्य / डॉ.गुणशेखर

                अभी कुछ दिनों पहले मेरा मित्र गिरगिट दौड़ा-दौड़ा आया और हाँफते हुए बोला कि आज एक नागा पदमसिड़ी  देखा है.वह अपनी फ़िल्म के लिए ...

जो रोना रोता है, सहानुभूति पा लेता है / आलेख / डॉ. दीपक आचार्य

कर्म क्षेत्र के मामले में दो प्रकार के लोग हैं। एक वे जो चुपचाप अपने काम से काम करते रहते हैं और अपने कर्मयोग को आकार देते हुए आत्म मुग्ध व...

शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

प्रेमचन्दीय थीम पर पाद टिप्पण / आलेख / डॅा0 मनोज मोक्षेंद्र

वर्ष 2004 में 'हंसाक्षर ट्रस्ट ' द्वारा कहानी विधा पर 'प्रेमचन्द कथा-सम्मान ' के लिए वरिष्ठ कथाकार कमलेश्वर के सौजन्य ...

आरक्षण ----वंदन या क्रंदन/ आलेख / सुशील कुमार शर्मा

भारत में आरक्षण की शुरुआत प्रमुख कारण वंचित समाज को प्रतिनिधित्व देना था। प्राचीन काल  से दलित एवं शोषित वर्ग को राष्ट्र की मुख्य धारा से ज...

आनन्द प्राप्ति के सटीक उपाय / आलेख /प्रदीप कुमार साह

अभी 31वीं दिसम्बर की रात लगभग सम्पूर्ण वैश्विक समुदाय पुराने साल के विदाई और नये साल के शुभारंभ के उत्सव मनाने हेतु प्रतीक्षारत और बिलकुल आ...

दादा माखनलाल चतुर्वेदी / आलेख / मनोज कुमार

महात्मा गांधी -माखनलाल चतुर्वेदी की पुण्यतिथि पर विशेष  तारीख, तीस जनवरी -मनोज कुमार वरिष्ठ पत्रकार एवं मीडिया विश्लेषक तारीख, तीस जनवरी। स...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------