शुक्रवार, 8 जनवरी 2016

प्राची - नवंबर 2015 : प्रभात दुबे की लघुकथा - इतिहास

इतिहास
प्रभात दुबे

कमरे में मां-बाप और बेटा-बहू कुल चार लोग ही थे. मां का हृदय आशंका से कांप रहा था. तभी बोझिल वातावरण की लम्बी खामोशी को तोड़ते हुए इंजीनियर बेटे ने अपना अन्तिम फैसला सुनाते हुए कहा- ‘‘पिताजी अब हम लोग इस घर में रहना नहीं चाहते. हम अभी और इसी वक्त यह घर छोड़कर जा रहे है.’’
पिता ने दुखी स्वर में कहा- ‘‘ठीक है बेटे, जैसा तुम उचित समझो.’’
बेटे-बहू ने दोनों के पैर छुए और अपने-अपने सूटकेस उठा कर तेजी से घर के बाहर चले गये. उनके जाते ही बेटे की मां ने रोते हुए अपने पति से कहा- ‘‘कैसे निष्ठुर बाप है आप? आपने उन्हें न तो जाते हुए रोका, न यह पूछा कि कहां जा रहे हो? अब कभी वापिस लौट कर आओगे भी या नहीं?’’
पिता ने डबडबाई हुई आंखों से अपनी पत्नी को देखा. उसके कंधे पर अपना थरथराता हुआ सांत्वना से भरा हुआ हाथ रख कर भर्राई हुई आवाज में कहा- ‘‘सावित्री, यदि हम उन्हें रोकते तो क्या वो रुक जाते, हरगिज नहीं; क्योंकि बरसों पहले जब मैंने तुम्हारे साथ, अपने मां-बाप का घर छोड़ते समय, अम्मा-बाबूजी से कहा था कि हम यह घर छोड़ कर जा रहे हैं तो मेरे बाबूजी ने हमसे क्या कहा था, तुम्हें याद है?’’
पत्नी ने सुबकते हुए पूछा-‘‘क्या कहा था?’’
‘‘यही कहा था कि बेटे याद रखना, तुम्हारे जीवन में भी एक दिन ऐसा आयेगा-जब तुम्हारा बेटा इसी तरह तुम्हारा घर छोड़ कर जायेगा, क्योंकि मुझे मालूम है कि इतिहास कभी न कभी अपने आपको दोहराता जरूर है. बस यही सोच कर मैंने उनसे कुछ नहीं कहा, क्योंकि मैं देख रहा था कि आज हमारे सामने हमारा इतिहास अपने आपको दोहरा रहा
था.’                               

संपर्कः 111, शक्तिनगर, जबलपुर (म.प्र.)
     मो. 9424310984

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------