रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

इल्लो यह भी गया - व्यंग्य - आर. के. भंवर

image

इल्लो यह भी गया

आर0के0भंवर

जो आया है उसे जाना तो होगा ही, नियत के इस क्रम को कोई रोक भी पाया है, भला। इल्लो पुराना साल 2015 भी गया। जनवरी के आते ही उसका प्रस्थान प्रारम्भ हो गया था, ठीक वैसे ही जैसे हम किसी बच्चे का हैप्पी बर्थ डे मनाते है, जीवन से दिनों का घटना शुरू हो जाता है। सामान्यतया उम्र का बढ़ना कभी खुशी कभी गम जैसा ही है। जो समझदार है वह जानते है। वर्ष 2015 के शुरूआत में अनगिनत भविष्यवाणियों को लेकर आया था, धीरे धीरे कुछ की सही हुई तो कुछ की धरी रह गयी। जाने वाले साल के प्रति काफी दुर्भावनाएं होती है, इस साल ये हो गया, वो हो गया ... ऐसा न होना था .... आगे का साल अच्छा होगा। हर साल के जाने पर आने वाले साल के प्रति सुखद भावनाएं बना ली जाती है। कुछ लोग संकल्प गढ़ते है, हम यह तय करते है कि अब हम ऐसा करेंगे। सोचते करते एक समूचा साल हाथ से फिसल जाता है।

अब फिर एक नया साल आने को और पुराना जाने को हो। आना सदैव सुखद रहा है और जाने की विदाई को अच्छा नही मानते । आगमन का स्वागत। स्वागत कैसे ... इस साल हम मंहगाई से लड़ लेते है। बाजार में मरखैना सांड की तरह जरूरी चीजों के भाव ग्राहक गैया को डरा रहे है। चलों इस साल इसी से दो.दो हाथ कर लेते है। बाजार में किसी चीज के भाव यदि जरा भी खतरे के निशान से ऊपर गया ... हम चिल्ल.पौं करने लगते है। पर इस साल हम चिल्ल.पौं नहीं करेंगे, हम उसको खाना ही छोड़ देंगे। नहीं खायेंगे तो मर नहीं जायेंगे लेकिन बाजारी भाव की ऐसी कम तैसी जरूर कर डालेंगे। इस साल का संकल्प है गुस्सा ... । ऐसा गुस्सा जो अपने पर उतारा जाय ...। खामखाह सरकार को कोसते.कोसते जुबान घिस गयी। सरकार क्यो सुनें ... सरकार एक हमारे ही वोट से तो बनी नहीं है। और बन गयी है तो हम उसका क्या बिगाड़ लेंगे।

सच कहें, इस बार हम अपना बिगाड़ेंगे। खूब ठोक.पीट कर बिगाड़ेंगे। अपनी नरक करेंगे। आखिर हम तो मंडी के राजा थे, जब.जब जो चाहा उसकी आपूर्ति से बाजार पट गया, अब सब कुछ उल्टा पुल्टा, जब.जब जो चाहा बाजार में वह मुंुह ढक कर बिलो गया। खोजते रहिए .. मिलने से रहा। मिलेगा ... वाजिब से तीन गुना दाम दो और हम भी क्या, हेकड़ी है, दे ही देंगे। ... पर अब इस नये साल से हम गुस्सा उतारेंगे, किसी अन्य पर नहीं, अपने पर। सिर्फ अपने पर।

क्या इस साल से यह नयी शुरूआत करेंगे।

.............

clip_image002

आर0के0भंवर

सूर्य सदन,

सी.501@सी, इंदिरा नगर,

लखनऊ.226016

मोबा0 8795810666

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget