रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

विरेंदर वीर मेहता की लघुकथा - प्यास

image

(लघुकथा)

"प्यास"
"बाबा। क्या सिर्फ इस लिए हिना की  सारी अच्छाइयाँ ख़त्म हो जाती है कि ये दूसरी कौम की है।" उन दोनों के रिश्ते पर बाबा के इन्कार के  बाद कमरे में बहुत देर छाई रही चुप्पी को कर्ण ने ही तोडा।
"नहीं बेटा। वो बात नहीं है पर इनका रहन-सहन, खान-पान सभी कुछ तो अलग है।"
"पर बाबा। कुछ हम इसके लिए और कुछ 'ये' हम लोगो के लिये बदल भी तो सकती है।" कर्ण ने अपनी बात समझाने की कोशिश में बाबा की ओर देखा।
"मगर बेटा! हमारा समाज, इनका समाज!"   बाबा ने एक नज़र हिना को देखा। "और फिर इनके घर का पानी, इसके हाथ से.......।"
"सही कहा आपने बाबा....!" काफी देर से खामोश बैठी हिना ने उनकी बात बीच में ही काट दी। "..... लेकिन मेरे घर का पानी, मेरे हाथ का पानी तो बरसो पहले ही आप पी चुके है पर शायद तब मैं सिर्फ एक बच्ची थी या शायद तब आपकी 'प्यास' को पानी के पीछे का धर्म नज़र नहीं आया था।"
अनायास ही बाबा की आँखों के सामने चार धाम तीर्थ के रास्ते का वो प्यास भरा दिन झिलमिलाने लगा जब उनकी प्यास उस मासूम बच्ची ने अपनी पानी की बोतल से बुझाई थी।

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget