शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

लक्ष्मण प्रसाद डहरिया की रचनाएँ

image
 

मानवाधिकार


विश्व की जनसंख्या लगभग 700 करोड़ से अधिक हो चुकी है। विश्व के प्रत्येक देश का अपना संविधान है, जिसमें प्रत्येक नागरिक को संवैधानिक अधिकार दिये गये हैं। 26 जनवरी 1950 को भारत में संविधान लागु हुआ जिसमें भारत के प्रत्येक नागरिक को रोटी, कपड़ा, मकान, शिक्षा, स्वास्थ्य, आवास तथा अनेकों सर्वव्यापी अधिकार दिये गये हैं। 10 दिसम्बर को हमारे देश में भी मानव अधिकार दिवस मनाया जाता है जब किसी व्यक्ति, संस्था, संगठन, शासन द्वारा नागरिकों को प्रदत्त संवैधानिक अधिकार का पालन, न देना, रोक से मानव अधिकार का उल्लंघन होता है। हमारे देश में मानव अधिकार उल्लंघन की कई घटनाएँ होती हैं। श्रम कानून द्वारा 14 वर्ष से कम बच्चों से श्रम कराना मानव अधिकार का उल्लंघन माना जाता है लेकिन ग्रामीण अंचलों में छोटे, गरीब, मजदूर, किसान जो गरीबी तथा बेरोजगारी से पीड़ित होते हैं। घर के प्रत्येक सदस्य को रोटी कमाने के लिए कार्य करना पड़ता है। इस कारण बच्चों से कार्य कराने पर मानव अधिकार का उल्लंघन होता है।


महिला सशक्तिकरण की चर्चा तो होती है लेकिन महिलाओं का आर्थिक, शोषण, निजी तथा अन्य संस्थाओं द्वारा किया जाता है। कलकारखानों में मजदूरों से श्रम कानून में प्रदत्त अकुशल, अर्धकुशल, कुशल श्रमिकों के दैनिक मजदूरी निश्चित की गई है परन्तु निजी संस्थानों द्वारा इसका उल्लंघन के अंतर्गत आता है। कृषकों को फसलों के उत्पादन में महंगे बीज खाद्य मजदूरी के कारण उन्हें आर्थिक हानि होती है जिसके लिए मुनाफा कमाने वाले उत्पादकों द्वारा उनका शोषण मानव अधिकार का शोषण कहलाता है। आज वनवासियों से उनकी खेती व प्राकृतिक सम्पदा से खनन के लिए बेदखल करना तथा कम कीमत, बेरोजगारी में उन्हें ढकेल देना घोर मानव अधिकार का उल्लंघन है।


हमें आज के युग में उपरोक्त सभी परिस्थितियाँ जिनके कारण मानव अधिकार का उल्लंघन होता है, गरीबों को रोजगार, महिलाओं का सहकारिता के अधिकार पर संरक्षण, मजदूरों को निश्चित अवधि में पद की रिक्तियाँ भरना, निश्चित समयावधि में प्रमोशन देना, कृषकों को सरकारी सहायता, शत-प्रतिशत देना, वनवासियों को पूर्ण रोजगार, आवास उपलब्ध कराना चाहिए जिससे मानव अधिकार का उल्लंघन रोका जा सकता है।
आज विश्व के मौत के सौदागर, छोटे-बड़े शस्त्र बेचने पर जिनकी अर्थव्यवस्था निहित है वे कई देशों में विरोधियों, स्मगलरों, देश-द्रोहियों को शस्त्र बेचकर उन देशों में गड़बड़ियाँ, असंतोष, खून-खराबा करवाते हैं और मानव अधिकार के उल्लंघन की दुहाई देकर घड़ियाली आँसू बहाते हैं।


भारत की एकता, अखण्डता, धर्मनिरपेक्ष, स्वरूप को बरकार रखना समय की माँग है। हमें नागरिकों के संवैधानिक अधिकारों का सख्ती से रक्षा की जरूरत है। जाति, भाषा, धर्म तथा लिंग भेद से ऊपर उठकर समानता, एकजुटता की आवश्यकता है। इससे देश में सुख, शांति, समृद्धि और विकास निश्चित होगा।

----


 

बालिका


बालिका पग-पग कदम बढ़ाती हैं, 
जाने कब सयानी हो जाती हैं,
वो बे-धड़क घर में घुस जाती हैं,
तोतली बोली सबको भाती है,
आँगन का खिलौना बन जाती हैं,
जाने कब सयानी हो जाती है।


बड़ी होकर नित शाला जाती है,
काम कर माँ का हाथ बटाती है,
घरेलु काम कब सीख जाती है,
जाने कब सयानी हो जाती है।


वो विज्ञान का सबगुर सीखे,
मान-अदम राह के अनुभव तीखे,
वो गाड़ी का नेट चलाती है,
जाने कब सयानी हो जाती है।


पढ़ लिखकर नौकरी पा जाती है,
अपने कुल को ऊँचा उठाती है,
सजना संग दोनों कुल सजाती है,
जाने कब सयानी हो जाती है।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------