विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

संजय द्विवेदी का आलेख - आतंकवाद से कैसे लड़ें?

image

तंकवाद के खिलाफ हमारी लड़ाई कड़े संकल्पों के कारण धीमी पड़ रही है। पंजाब के हाल के वाकये बता रहे हैं कि हम कितनी गफलत में जी रहे हैं। राजनीतिक संकल्पों और मैदानी लड़ाई में बहुत अंतर है, यह साफ दिख भी रहा है। पाकिस्तान और चीन जैसे पड़ोसियों के रहते हम वैसे भी शांति की उम्मीदें नहीं पाल सकते किंतु जब हमारे अपने ही संकल्प ढीले हों तो खतरा और बढ़ जाता है। आतंकवाद के खिलाफ लंबी यातना भोगने के बाद भी हमने सीखा बहुत कम है। किसी आतंकी को फांसी देते वक्त भी हमारे देश में उसे फांसी देने और न देने पर जैसा विमर्श चलता है उसकी मिसाल खोजने पर भी नहीं मिलेगी। आखिर हम आतंकवाद के खिलाफ जीरो टालरेंस का रवैया अपनाए बिना कैसे सुरक्षित रह सकते हैं।

    भारतीय राजनीति में किसी का सीना कितने भी इंच का हो फर्क नहीं पड़ता क्योंकि लोकतंत्र में लोगों की लाशें बिछ रही हैं और हम राज्य की हिंसा पर विमर्श में व्यस्त हैं। एक मोमबत्ती गिरोह भी है जो हर आतंकी के लिए टेसुए बहाता है किंतु बहादुर सैनिकों की मौत उनके लिए सिर्फ एक कर्तव्य है। आतंकवाद के खिलाफ हमें निर्णायक लड़ाई लड़ने का संकल्प लेना होगा वरना सीमा से लेकर नक्सल इलाकों में खून बहता रहेगा और देखते रहने के अलावा कुछ नहीं कर पाएंगें। इसमें दो राय नहीं कि प्रधानमंत्री जो कि भारत के सर्वप्रमुख नेता हैं वे भारत के मूल स्वभाव जैसा ही व्यवहार कर पाएंगें। भारत का मूल मंत्र है- वसुधैव कुटुम्बकम्। पड़ोसियों के साथ बेहतर रिश्ते हमारी जरूरत है और आकांक्षा भी। लेकिन इस स्वभाव के बाद भी हमें मिल क्या रहा है, क्या पड़ोसियों की सदाशयता पाने में हम सफल हैं। हमारा कौन सा पड़ोसी देश है जो हमें सम्मान से देखता है। अब तो नेपाल भी आंखें दिखा रहा है और चीन से बेहतर रिश्ते बनाने में लगा है। बाकी देशों के बारे में हम बेहतर जानते हैं। इसके मायने यह हैं कि हमारी जो आपसी लड़ाईयां हैं, इनके चलते आकार में बड़े होने के बाद भी हम एक कमजोर देश हैं। हमारी ये कमजोरियों देश के अंदर बैठे आतंकी भी समझते हैं और देश के बाहर बैठे लोग तो चतुर सुजान हैं ही।

एक मजबूत भारत किसके लिए चुनौतीः

खतरा हमें हर उस ताकत से है जिसकी आंखों में एक मजबूत भारत चुभता है। एक मजबूत भारत उन्हें नहीं चाहिए। वे इसे रोक नहीं सकते पर इस प्रक्रिया में व्यवधान डाल सकते हैं। भारत की समस्या मुख्यतः पाकिस्तान और चीन केंद्रित है। इन दो पड़ोसियों ने जेहादी आतंक और माओवादी आतंक के बीज को हमारे देश में पोषित किया है और राष्ट्रीय सुरक्षा को गंभीर चुनौती दी है। एक समय में पंजाब में फैले आतंकवाद से हमने निजात पाई तो पाक ने कश्मीर को अपना केंद्र बनाकर एक नई चुनौती पेश कर दी। यह हालात आज भी संभले नहीं हैं। जेहाद का सपना लिए नौजवान आज भी गुमराह किए जा रहे हैं, तो खालिस्तान की आग भी धधकाने की कोशिशें होती हैं। भारत की राष्ट्रीय चेतना को कुंठित करना, भारतीय समाज में भेदभाव भर कर देशतोड़क गतिविधियों में, समाज का इस्तेमाल करना हमारे विरोधियों की शक्ति रही है। इसके चलते देश में तमाम देशतोड़क अभियान गति पा रहे हैं। अलग-अलग नामों से चल रहे इन हिंसक आंदोलनों की एक ही नीयत है भारत को कमजोर करना। वनांचलों से लेकर कश्मीर, पंजाब और पूर्वांचल के राज्यों में हिंसक गतिविधियों का ठीक से अध्ययन किया जाए तो यह सच सामने आएगा। भारत की एकता और उसकी अखंडता को चुनौती देती ये शक्तियां किस तरह देश के समाज को तोड़ना चाहती हैं यह सच भी सामने आएगा।

इजराइल सा माद्दा और पुतिन सा नेतृत्व जरूरीः

हमारे देश को अगर आतंकवाद की गहरी आग में नहीं जलना है तो नागरिकों में राष्ट्रभाव प्रबल करना होगा। इजराइल छोटा देश है किंतु हमारे लिए एक आदर्श बन सकता है। आतंकवाद के खिलाफ उसकी जंग हमें सिखाती है कि किस तरह अपनी अस्मिता के लिए पूरा देश एक होकर खड़ा होता है। रूस के कमजोर होते और बिखरे स्वरूप के बाद भी पुतिन जैसे नायक हमारे सामने उम्मीद की तरह हैं। हमारे अपने लोगों का खून बहता रहे और हम देखते रहें तो इसके मायने क्या हैं। यह सही बात है कि आतंक कहीं भी फैलाया जा सकता है। आतंकवादियों से जूझना साधारण बात नहीं है। किंतु क्या हमारा समाज और हमारी सरकारें इसके लिए तैयार हैं। सीमा सुरक्षा बल की चौकसी के बाद भी बस्तर के जंगलों तक विदेशी हथियार पहुंच रहे हैं, तो क्या हमारे अपने लोगों की मदद के बिना ऐसा हो रहा है। आजादी के इन सात दशकों में जैसा भारत हमने बनाया है वहां लोगों का थोड़ी लालच में बिक जाना बहुत आसान है। विदेशी ताकतें इतनी सशक्त और चाक चौबंद हैं कि उनके तंत्र को हमारी हर गतिविधि का पता है। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के रूप में अजीत ढोभाल जैसे योग्य अधिकारी की उपस्थिति के बाद भी हालात संभलने को कहां हैं। भारत- पाक के रिश्तों को बनाने के सचेतन प्रयासों के बीच आतंकी ताकतों की कोशिश रिश्तों पर पानी फेरने की है। भारत की नागरिक चेतना को जागृत किए बिना इस दानवी आतंकवाद के तमाम सिरों से निपट पाना संभव नहीं दिखता।

निर्णायक संघर्ष की जरूरतः

भारतीय समाज और उसके नायकों के लिए जरूरी है कि वे एक निर्णायक संकल्प की ओर बढ़ें। आतंकवाद के सभी रूपों के खिलाफ एक लड़ाई छेड़ी जाए चाहे वह जेहादी आतंक हो या माओवादी आंतक। भारतीय नागरिकों, मीडिया, सामाजिक रूप से प्रभावी वर्गों को यह चेतना नागरिकों के भीतर भरनी होगी कि अपने लोगों का खून बहाकर हम वसुधैव कुटुम्बकम् का मंत्रजाप नहीं कर सकते। दुनिया के हर ताकतवर देश ने जिस तरह आतंकवाद का सामना किया है, वही रास्ता हमारे लिए भी है। अमरिका अपने नागरिकों के रक्षा के लिए अलग तरीके से पेश आता है और ब्रिटेन अपने नागरिकों की रक्षा के लिए अलग तरीके से पेश आ रहा है तो भारत के लोगों की जान-माल क्या इतनी सस्ती है कि उन्हें अकारण नरभक्षियों के सामने निहत्था छोड़ दिया जाए? भारत का सरकार सहित राज्यों की सरकारों को यह विचार किए बिना कि इसके क्या परिणाम होंगें, राजनीतिक रूप से इसके क्या गणित बनेंगें, एक दृढ़ संकल्प के साथ आगे आना होगा। भारत की शक्ति और उसकी गरिमा को स्थापित करना होगा। एक साफ्ट स्टेट का लांछन लेकर हम कितना खून धरती पर बहने देंगें। अपने नागरिकों में राष्ट्रीय भावना भरना और देशद्रोही ताकतों के खिलाफ शत्रुओं सा व्यवहार ही हमें इस संकट से मुक्ति दिलाएगा। अपनी खुफिया सेवाओं को चुस्त-दुरूस्त बनाते हुए, सेना और अन्य सुरक्षा बलों का मनोबल बनाए रखते हुए हमे आगे बढ़ना होगा। सत्ता और व्यवस्था में नागरिकों के प्रति अपेक्षित संवेदनशीलता भरनी होगी। क्योंकि लोकतंत्र की विफलता  भी कहीं न कहीं असंतोष का कारण बनती है। सामान्य जनों में रोष और विद्रोह की भावना पैदा करती है। इससे पहले हिंसा और बाद में आतंकवाद की समस्या पैदा होती है। एक आगे बढते देश के सामने बहुत से संकट हैं, उनमें आतंकवाद सबसे बड़ा है क्योंकि लोगों के जानमाल की रक्षा किसी भी सरकार की पहली जिम्मेदारी है। हमारी सरकार की पहली और अंतिम प्रतिबद्धता लोगों की सुरक्षा है, पर क्या हम इस जिम्मेदारी पर खरे उतर रहे हैं  ?

(लेखक मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक और राजनीतिक विश्लेषक हैं)

image

- संजय द्विवेदी,
अध्यक्षः जनसंचार विभाग,
माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय,
प्रेस काम्पलेक्स, एमपी नगर, भोपाल-462011 (मप्र)
मोबाइलः 09893598888
http://sanjayubach.blogspot.com/
http://sanjaydwivedi.com/

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget