आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

जिज्ञासा / लघु कथा / प्रदीप कुमार साह

image

किसी पेड़ पर एक कौआ रहता था. एक दिन उससे मिलने उसका मित्र तोता आया. दोनों मित्र मिलकर बड़े आनंदित हुए, काफी देर तक एक-दूसरे का कुशल-क्षेम पूछते रहे. तभी दूर कहीं से पक्षियों के जोर-जोर से चिल्लाने (चहचहाने) की आवाज आयी तो कौआ जिज्ञासावश अपने मित्र तोता से  'क्या माजरा है' चलकर देखने-सुनने का आग्रह किया. तोता थके होने का बहाना कर कौआ से बोला कि वह स्वयं जाकर देख आए. तब कौआ चला गया. कुछ समय बाद कौआ वापस आया और तोता से वहाँ के घटना के सम्बन्ध में बताने लगा. तोता बेमन से कौआ की बातें सुनता रहा. जब कौआ चुप हुआ तो तोते ने कहा,"अब तक इतने जिज्ञासु हो?"

तोते की बात सुनकर कौआ को अपने परम मित्र के रुष्ट होने का आभास हुआ. उसे यह आभास भी हुआ कि तोते ने अपना जिज्ञासा कुंठित कर लिया है. जिज्ञासा को कुंठित कर देना तो एक बड़ा मानसिक विकार है. ऐसा विचार कर कौआ तोता से एक पूर्व घटना बताने लगा,"एकबार अपने गुरु जी के साथ मैं एक पौराणिक महत्त्व के स्थान देखने गये. हमने उस जगह के बारे में बहुत कुछ सुन रखे थे. किंतु वहाँ जाकर हमें केवल जीर्ण-शीर्ण किले का खंडहर दिखा. मेरे गुरु जी जिज्ञासावश उस खंडहर का निरीक्षण करने लगे.वैसा करते शाम हो गया. हम रात बिताने (गुजारने) वहीं एक पेड़ पर ठहर गये. अपने गुरु के पैर दबाते हुए मैंने उनके समक्ष प्रश्न रखे कि उस खंडहर में देखने वाली क्या बात थी ?

गुरुजी समझाये,"वह पौराणिक खंडहर है, उसे खंडहर मात्र समझकर उससे संबंधित जिज्ञासा शांत कर लेना अच्छी बात नहीं थी. जिज्ञासा जीवमात्र का प्राकृतिक गुण है. ईश्वर जीवमात्र में इसे जन्म के साथ प्रदान किये हैं. सोचो कोई अबोध बच्चा भी आसपास के चीजों का निरीक्षण क्यों करने लगते है? सांसारिक माया से मुक्त महापुरुष में जगत् कल्याण की भावना किस तरह आती है?"

मैं गुरु जी की बातें ध्यान से सुन रहा था. थोड़ा ठहर कर गुरु जी पुनः समझाने लगे,"जीवमात्र स्वयं जब आवश्यकता अथवा दुःख का अनुभव करते है तब इच्छा-पूर्ति अथवा उस कष्ट से मुक्ति हेतु उसमें मानसिक ऊर्जा अर्थात भाव जगता है अथवा यह भाव जगता है कि चिर सुख किस तरह प्राप्त किया जाए. मन में भाव जगना जीवमात्र के जीवित होने अथवा प्राणी के जीवन का द्योतक है.

इसी तरह किसी समस्या के कारण समझने तथा उसके निवारण जानने हेतु किसी जीवित प्राणी में स्वभावत: भाव जगना अथवा मानसिक ऊर्जा सक्रिय होना ही जिज्ञासा है. जिज्ञासा जगना उस बात का प्रतीक है कि जीवमात्र सतत सक्रिय और बदलाव एवं विकास के लिए स्वत: उद्यमशील है. जिस तरह आवश्यकता आविष्कार की जननी है उसी तरह जिज्ञासा समाधान का. इसलिये जिज्ञासा का जीवन में अत्यंत महत्त्व है क्यों कि जिज्ञासा ही मूलत: सभी उन्नति और प्रगति के सूक्ष्म बीज हैं और उसे कभी दबाना या कुंठित नहीं करना चाहिये." गुरु जी द्वारा इस प्रकार समझाने से मेरी सारी अज्ञानता दूर हो गई.

(सर्वाधिकार लेखकाधीन)

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.