विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

अच्छे दिन / हास्य- व्यंग्य कथा / हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन

व्यंग कथा अच्छे दिन

उसने भगवान से पूछा – मेरे जीवन में अच्छे दिन कब आयेंगे ? मेरी कोई सुधि क्यों नहीं लेता ? कोई बड़ा आदमी , मेरी ओर झांकता क्यों नहीं ? क्यों , प्रत्येक की सिर्फ हेय दृष्टि ही पड़ती है मुझ पर ? मैं भूख , गरीबी और बेरोजगारी के बीच जीवन जीते तंग आ गयी हूं। मुझे भी , अच्छे दिन में रहने भेज दीजिए। भगवान हंसे। तुम झोपड़ी हो बेटा , अच्छे दिन तुम्हारे लिए नहीं है। तुम जैसे जी रही हो , उससे अच्छे दिन कुछ नहीं हो सकता। तुम इसकी कामना मत करो। तुम अमीर बनने , उसकी तरह रहने या उसके साथ रहने की ख्वाहिश मत करो। तुम्हारा उनका साथ नहीं हो सकता। फोटो फ्रेम में घुसकर उनके घरों की शोभा बढाओ , इससे अधिक की कल्पना मत करो। वह जिद पर आ गयी। इसका मतलब आप मुझ पर प्रसन्न नहीं हैं ? क्या आप नहीं चाहते कि , मै भी सुखपूर्वक जीवन व्यतीत करूं ? भगवान ने उसकी तीव्र इच्छा को देखते हुए , एवमस्तु कहकर, अंतर्ध्यान होने में ही अपनी भलाई समझी।

दूसरे ही दिन , वह झोपड़ी किसी अमीर के हाथों बिक गई। एक दिन , एक कार उसके प्रांगण में आकर रूकी। सूट बूटधारी कुछ अमीरों ने झोपड़ी में कदम रखा। झोपड़ी की मुरादें पूरी होते दिखी , उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। वे अंदर आए और आते ही झाड़ू लेकर साफ सफाई में लग गए। झोपड़ी का एक एक कोना साफ होने लगा। चमचमाती सड़क बनकर , वहीं आकर समाप्त हो गयी। कुछ ही दिनों में , वह झोपड़ी बिजली की रोशनी में जगमगाने लगा। पानी , शौचालय सब कुछ हो गया उसके पास। बैंक में खाते खुल गये। आसपास की दूसरी झोपड़ियां इस चकाचौंध से जलने लगी।

इतना सब होने के बाद भी , मन उदास सा था , क्योंकि , अब ना रोटी दाल की गंध आती वहां , ना बच्चों की किलकारियां सुनने मिलती। ना गीता के श्लोक , ना रामायण की चौपाई , ना कुरान की आयातें , ना भाई बहन का प्यार , ना दादी - दादा का दुलार , ना मांदर की थाप , ना ढोलक की गूंज , ना कोई पड़ोसी सब्जी मांगने आता , न हालचाल पूछने।

थोड़े दिनों बाद , वह अमीर मालिक , दोस्तों के साथ फिर आया। थोड़ी आशा जगी , अच्छे दिन की। अंदर आते आते शानदार कारपेट बिछ गयी। बैठने के लिए सोफा , दीवान सज गये। पर यह क्या ? उसकी खुशी पानी के बुलबुले की तरह फूट कर गायब होने लगे। ताश की पत्तियों के बीच असभ्य बातें , जानवरों की तरह खाना-पीना , डिस्को और कुछ नहीं। अब यह सिलसिला बन गया रोज का। शराब की बोतलों से , उसका घूरा पटने लगा। पहले रात का अंधेरा भी उसके दिल में प्रकाश का अनुभव कराता था , अब , शाम के जगमग उजाले ने , झोपड़ी की जिंदगी में अंधेरा फैलाना शुरू कर दिया। अपना दुख किसे कहे वह , अच्छे दिन की जिद उसी की थी। अब तो हदें पार होने लगी। जुआंघर , शराबखाने से अपग्रेड होता वह , वेश्यालय में तब्दील हो गयी। आए दिन , लम्बी लम्बी कारों का , छुप छुप कर आना , रात रात भर रंगरेलियां मनाना , रोज का उपक्रम हो गया। काला धन ऐसा होता है , उसे पहली बार पता चला था। झोपड़ी बहुत हताश निराश हो गयी। वह अतीत को सोंचने लगी , जब बाबा टूटी खटिया पर बैठकर खांसते खांसते चिलम गुड़गुड़ाते रहते थे , जब मुनिया फटे बोरे में बैठकर , बटकी में बासी खाती थी , जब छोटी सी ढिबरी , सारे घर को उजालों से भर देती थी , पर तब झोपड़ी अपना घर होता था , आज की तरह सराय या होटल नहीं। वह समझ चुकी थी , कि अच्छे दिन केवल राजनैतिक मिट्टी का दलदल है , जो सुख का कमल केवल दिखाता भर था , पहुंचाता नहीं। अपना दुख बताना चाहती थी वह , पर कौन सुनेगा उसकी। बहुत दूर जा चुकी थी अपनों से। वैसे भी , सारे दोस्त , उसकी बाहरी प्रगति को देख दुश्मन बन चुके हैं। उनमें से हरेक , अच्छे दिन की चाहत रखता था। उन्हे मालूम नहीं था , अच्छे दिन की कामना करने वाले , छोटे लोगों के साथ क्या क्या होता है , और अच्छे दिन भोगने वाले बड़े लोग , क्या क्या करते हैं। एक अच्छे दिन भोगने वाले बड़े ने , दिखा ही दिया कि , वे क्या कर सकते हैं। आसपास के झोपड़ी को परेशान कर , भगाने के उद्देश्य से , पुलिस में शिकायत कर दी। एक रात , पुलिस का छापा पड़ा , पकड़े गए - बहुतेरे लोग , पर सबूत के अभाव में छोड़ दिये गये सारे। इनमे कसूरवार कोई नहीं। कसूरवार था एक गरीब। वह गरीब , उस झोपड़ी का पुराना मालिक है - जो झोपड़ी का दर्द सुनने आया था , वहां पर। बदनाम कर दिया गया , दोनो को।

दूसरे ही दिन , अमीर मालिक ने झोपड़ी को लाइसेंसशुदा जुआंघर , शराबखाना बनाने के लिए , तोड़ना शुरू कर दिया। वह गरीब जेल में टूट –टूट कर मर गया। झोपड़ी तो , इस टूटन से पहले ही टूट चुकी थी। अब वह भी मरने जा रही थी। वह दिन भी आ गया , जब जनाजा उठ गया दोनो का। झोपड़ी की लाश का एक एक फ्रेम , रो - रो कर बता रहा था – साथियों , तुम गरीब की झोपड़ी हो , और यदि अस्तित्व बचाना है , तो , अपने लिए , अच्छे दिनों की आस में बिकना कभी मत , क्योंकि अच्छे दिन केवल और केवल अमीरों के लिए है। काले धन आयेंगे , तुम्हारे घरों की शान बढ़ायेंगे , इसकी कल्पना त्याग दो , नहीं तो मेरी तरह बदनाम कर दिए जाओगे। तुम्हारे ही बंधु बांधव तुम्हारा साथ छोड़ देंगे। टूट - टूट कर बिखर जाओगे , और वह दिन भी आ जायेगा जब , तुम असमय ही , सदा सदा के लिए दुनिया से विदा हो जाओगे। वह तो , आज भी चीख चीख कर कह रही है , पर कौन सुनता है कब्र की आवाज , आज भी दौड़ जारी है अच्छे दिनों की चाहत के लिए।

हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन , छुरा

97528-77925

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget