विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

कविताएँ / अंकिता भार्गव

    image

                    (1)

     उम्‍मीदों के दिए
   
           जलाए हैं, उम्‍मीदों के दिए दिल में
         राह मंजिल की, मैंने रोशन कर ली
         आना मुश्किलों का तय था
           जिन्‍दगी के सफर में
        कि मजबूती, इरादों में फौलादी भर ली
           कड़वाहट फैली है
          हर ओर इस जहां में
          तो क्‍या रोप कर,
       कुछ मीठी सी यादों के फूल
         बियाबान सी इस दुनिया में
       रिश्‍तों की, बागबानी कर ली
        चांदनी पूनम की नहीं 
        ना सही, नसीब में अपने
       अंबर में टिमटिमाते तारों से ही
      दीवाली, हर अमावस कर ली।

 

             (2)

 

    यादें
   
  फूल नहीं खुशबू हैं यादें
मुरझाती नहीं कभी, दिल के किसी कोने में,
      हर पल महकती हैं यादें   
         यूं ही,
अपने अंदर झांक कर देखो जो किसी दिन
वहां मिल ही जाती हैं
   न जाने कितनी ही
  कुछ जानी कुछ पहचानी सी यादें
   भले ही आंखों में उतर आता हो
   बिछड़ने का गम आंसू बन कर 
   दिल में तो तब भी   मुस्‍कुराती हैं यादें।

 


    (3)

अपनों की दुआ सी लगी


   पूछा था किसी ने हमसे
     जिन्‍दगी है क्‍या
   हमने भी किया खुद से यही सवाल
  हमें तो जिन्‍दगी कभी किसी लंबे सफर सी
          तो कभी
     सफर की मंजिल सी लगी
      किसी पल एक अबूझ पहेली
      तो दूजे पल एक सहेली सी लगी
          अब और क्‍या कहें
        हमें तो जिंदगी अपनों की
       दुआ सी लगी।

 

 

                       (4)

गुज़़रता वक्‍त

गुजरता वक्‍त, वो हर पल
दिला जाता है याद
उन सपनों की,
    हैं जो पूरे से, पर कुछ अधूरे से
       कुछ अपनों की
वो हैं हमसे जुदा से या  खफा से
   कोशिश एक छोटी सी
   अपनों को फिर करीब लाने की
     दिल से गिले मिटाने की
      ख्वाहिश एक छोटी सी
    सपनों को उनकी मंजिल दिखाने की
    उम्र के साथ गुज़रते इस पल को
    मुठठी में बांध लेने की।

 

 

         (5)

 

    सांझ की पीली धूप

               ले विदा हौले हौले 
           जा रही क्षितिज के द्वार पर
          सांझ की धूप कुछ पीली सी
             धरा को रही निहार
          विदाई की इस बेला में
            हो रही उदास मटमैली सी
            थक गया, सूरज घर को अपने चला
            ओढ़ा तम की चादर नभ को चला
           लालिमा अंबर की अंधियारे में जब खो गई
         धूप अपने आंसू हवाओं में बिखरा गई
             रात भर यूं बरसी ओस
            कि चंद्र को धुंधला गई
             सखी धरा से मिलन की आस में
               थी  धूप कुछ बौरा गई

 


            (5)

 


                 और निहार लेती हूं कुछ देर

 
           झांकता है मेरे घर के झरोखे से
          अकसर, एक थका सा चांद
           चांदनी उसकी पीतवर्ण
          वह भी  थका सा परेशान
          यूं तो मुझे है
          अच्‍छा खासा अभ्‍यास
          किन्‍तु फिर भी कभी कभी
           देख उसे
       हो जाता है मन कुछ उदास
       तब निकल आती हूं शहर से दूर
        और निहार लेती हूं कुछ देर
      नभ में खेलता, खूबसूरत चांद       
      छलकती, धवल चांदनी से सराबोर
     इठलाता खुद पर, इतराता बार बार

 

 

                                     (6)

 

    गोधूली बेला

     रात के आने सूचना लेकर
     आई है गोधूली बेला
     रात के स्‍वागत में गगन ही नहीं
     धरा ने भी सजा दी दीपमाला
     हर पल बढ रहे,
      अंधकार हराने की
         चाह लिए
    घर का मंदिर या तुलसी का चौरा
       हर ओर छा रहा उजाला

 


    (7)
   
      चिरैया

              जोड़ रही तिनकों संग तिनके
             बना रही नव नीड़ चिरैया
             ममता के आंचल में अपने
            सहेज रही कुछ ख्‍वाब चिरैया
            हो गई, वह फिर दीवानी
             ढूंढ रही है चुग्‍गा पानी
         सिखा रही परवाज़ भी, कर रही परवाह भी
          निभा रही हर फर्ज़ चिरैया
         कुछ दिवस बस रह गए शेष
           फिर वह देगी भेंट विशेष   
       खोल कर हर बंधन, हर पाश
       कर देगी उन सपनों को आज़ाद चिरैया     

 

--

लेखिका परिचय   

            नाम            --      अंकिता भार्गव
          शिक्षा      --         एम. ए. (लोक प्रशासन)
          रूचियां             --       अध्‍ययन एवं लेखन
          पिता का नाम    --           वीये लाल भार्गव
          माता का नाम    --        कांता देवी
           विशेष            --          अस्‍थि रोग ग्रस्‍त
           अनुभव    --      दिल्‍ली प्रेस द्वारा एक कहानी ‘फादर्स  
                                   डे’ व राजस्‍थान पत्रिका में  कहानी ‘नाम करेगा रोशन’ प्रकाशनार्थ स्‍वीकार की जा चुकी हैं तथा राजस्‍थान पत्रिका में एक कविता ‘अक्‍स जाने पहचाने से नजर आए’ प्रकाशित हो चुकी है

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget