गुरुवार, 4 फ़रवरी 2016

प्रेमचंद और भीष्म साहनी की कहानियों पर नाटक का मंचन

नई दिल्ली। 'दिल्ली विश्वविद्यालय  युवा प्रतिभाओं का बड़ा केंद्र है। रंगमंच के परिदृश्य पर  युवाओं ने लगातार नए प्रयोगों से दर्शकों का ध्यान आकृष्ट किया है। प्रेमचंद और भीष्म साहनी की कहानियों का मंचन इन युवाओं की प्रतिभा का प्रमाण है।' सुपरिचित कवि और आलोचक अजित कुमार ने हिन्दू कालेज में हिन्दी नाट्य संस्था 'अभिरंग' द्वारा प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी 'वेश्या' एवं भीष्म साहनी की लोकप्रिय कहानी 'चीफ की दावत' के मंचन के अवसर पर कहा कि नौजवानों के इस समारोह में आकर वे सचमुच प्रसन्नता और सार्थकता का अनुभव कर रहे हैं। इससे पहले 'अभिरंग' के युवा अभिनेताओं ने इन दोनों कहानियों का प्रभावशाली मंचन किया जिसमें माँ और शामलाल की भूमिकाएं शिवानी और आदर्श मिश्रा ने निभाई।चीफ के रूप में अतुल शुक्ला और सेठी के रूप में वहीं वेश्या में दयाशंकर का अभिनय आदर्श और सिंगार सिंह का आशुतोष ने किया। माधुरी की भूमिका में शिवानी ने अपने अभिनय से दर्शकों का मन जीत लिया।  दोनों नाटकों में रजत, पूजा,  तनूजा, अतुल, अनुपमा, अनुपम, नीरज, ऋषिका, आशुतोष, पिंकी ने अभिनय किया। सूत्रधार के रूप में नीरज और स्नेहदीप ने नाटक को गति दी। दोनों कहानियों की प्रस्तुति भी थी। नाटक के निर्देशक युवा रंगकर्मी और एम ए के विद्यार्थी कपिल कुमार ने सभी पात्रों का अभिनय कर रहे विद्यार्थियों का परिचय दिया और इन कहानियों को मंचन के लिए चुनने की प्रेरणा बताई। मंच सज्जा नीरज, ज्योति और गार्गी की थी। हिन्दू कालेज के खचाखच भरे प्रेक्षागार में कॉलेज के अलावा अनेक अन्य संस्थानों से आये दर्शक भी उपस्थित थे।  डॉ रामेश्वर राय, डॉ अभय रंजन, डॉ जगमोहन, डॉ रचना सिंह,डॉ राजेश कुमार, डॉ संजीव दत्त शर्मा सहित अनेक गणमान्य उपस्थित थे। आभार प्रदर्शित करते हुए अभिरंग के परामर्शदाता डॉ पल्लव ने कहा कि पराधीन भारत के खा पीकर अघा रहे समाज का एक दृश्य प्रेमचंद की अल्पचर्चित कहानी 'वेश्या' में आया है तो स्वतन्त्र भारत के पाखंडी मध्य वर्ग का कपटी चेहरा भीष्म साहनी की अत्यंत प्रसिद्ध और लोकप्रिय कहानी 'चीफ की दावत' में दिखाया देता है।

फोटो एवं रिपोर्ट शशांक द्विवेदी

अभिरंग, हिन्दू कालेज,  दिल्ली

 

IMG_1104

IMG_0810

IMG_0950

IMG_0954

IMG_0975

IMG_0979

IMG_1002

IMG_1032

IMG_1061

IMG_1072

IMG_1083

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------