विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

पहाड़ी को चीर कर गाँव वालों ने एक दिन में बना डाली तलावड़ी / कल्पना डिण्डोर

पहाड़ी को चीर कर गाँव वालों ने एक दिन में बना डाली तलावड़ी

- कल्पना डिण्डोर

जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी,

बाँ स वा ड़ा

बरसों से अपने क्षेत्र में पानी की समस्याओं से दो-चार होने वाले ग्रामीण चाहते तो थे कि उनके गाँव में ऎसा कुछ हो कि पानी के पुराने भण्डार फिर से अपना वजूद कायम कर लें , साथ ही ग्रामीणों, मवेशियों और क्षेत्र के खेतों की जरूरत के अनुरूप उनके अपने ही इलाके में पानी की अच्छी उपलब्धता सुनिश्चित हो। लेकिन इस बारे में कोई खास काम दशकों में भी नहीं हो पाया।

यह बात है बांसवाड़ा जिले के कुशलगढ़ उपखण्ड क्षेत्र अन्तर्गत डूँगरीपाड़ा ग्राम पंचायत के हिम्मतपुरा गाँव  की, जहाँ के ग्रामीणों के लिए मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन योजना नया जीवन आधार देने वाली सिद्ध हुई।

मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन योजना का आगाज होने के बाद जैसे ही उनके इलाके में कला जत्था के कलाकारों ने लोक जागरण किया, ग्राम्य जनता को इस अभियान के बारे में जानकारी मिलने लगी, ग्रामीणों में इस अभियान के उद्देश्यों के बारे में समझ विकसित हुई और गाँव के लिए कुछ करने का संकल्प जगा, इसके बाद तो जैसे ग्रामीणों में उत्साह का ज्वार उमड़ आया। 

क्षेत्रीय विधायक भीमा भाई और क्षेत्र के अन्य जन प्रतिनिधियों ने भी ग्रामीणों को इस बारे में समझाइश की और मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के बताया और ग्रामीणों की पहल की सराहना की।

ग्रामीणों ने अपने गाँव में पानी की समस्या के स्थायी समाधान के लिए जल स्रोत सृजित करने की सोची।  ग्रामीणों ने मिलकर तय कर लिया कि अब वे जलाशय बना कर ही मानेंगे। और वह दिन भी आ गया जब गांव वालों ने पहाड़ियों के बीच ऎसा स्थान चुना जहाँ बरसात के दिनों में पानी का भराव रहता था लेकिन कुछ दिन बाद यह पानी सूख जाता।

image

बढ़ चला कारवाँ

कुछ दिन पहले गाँव के लोग इकट्ठा हुए और बढ़ चले अपने लक्ष्य की ओर।  सारा गांव उमड़ आया इस काम के लिए। महिलाओं और पुरुषों ने हाथों में गैंती-फावड़े थामे और तालाब बनाना शुरू कर दिया। शाम होते-होते ग्रामीणों की मेहनत जबर्दस्त रंग ले आयी।  सवेरे तक जहां पहाड़ी थी वहां शाम को वह पूरा क्षेत्र तालाब में तब्दील हो उठा। 

सूरज ढलने से पहले ही हिम्मतपुरा गाँव के लोगों का स्वप्न साकार हो उठा। ग्रामीणों का मानना है कि अबकि बार बरसात में इस नई बनी तलावड़ी में खूब पानी रुकेगा तथा लम्बे समय तक संरक्षित रहकर ग्रामीणों के काम आ सकेगा। इससे क्षेत्र के मवेशियों व सिंचाई  के उपयोग में लेने से काश्तकार भी लाभान्वित होंगे।

डूँगरीपाड़ा ग्राम पंचायत की  सरपंच श्रीमती शीला कटारा ने बताया कि गाँव के लोगों में मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन योजना की बदौलत व्यापक चेतना जगी है। एक ही दिन में अपने हाथों तलावड़ी बना डालने के बाद ग्रामीणों में खास ऊर्जा का संचार हुआ है। तलावड़ी बन जाने से गर्मियों के दिनों में  गहराने वाली पेयजल समस्या का समस्या होने के साथ ही पशु-पक्षियों के लिए भी पीने का पानी आसानी से सुलभ हो सकेगा।

हिम्मतपुरा गाँव के लोगों को अब विश्वास हो चला है कि गाँव के लोग यदि मिल-जुलकर सामूहिक प्रयास करें तो गांव की बुनियादी सुख-सुविधाओं के लिए होने वाले सभी प्रकार के प्रयास सुनहरा आकार पा सकते हैं। हिम्मतपुरा गांव ने आस-पास के गांवों में भी प्रेरणा का संचार किया है। अब पड़ोसी गांवों के लोग भी मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान से प्रेरणा पाकर अपने जलस्रोतों को आबाद करने का संकल्प लेने लगे हैं।

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

Start up अर्थात् एक नवोंवेषी विचार पर आपका यह लेख प्रधान्मत्रीजी की महत्वाकांक्षी योजना को सरल शब्दों में इसके भाव एवं सुविधाओं को वर्णित करते है।
उक्त लेख के माध्यम से स्टार्ट अप को समझाने के लिए धन्यवाद।

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget