आलसस्य परम सुखम / अमित शर्मा

image

प्राचीन काल से ही आलस को सामाजिक और व्यक्तिगत बुराई माना जाता रहा हैं. “जो सोवत हैं, वो खोवत हैं” जैसी कहावतों के माध्यम से आलसी लोगों को धमकाने और “अलसस्य कुतो विद्या” जैसे श्लोकों के ज़रिये उनको सामाजिक रूप से ज़लील करने /ताने कसने के प्रयास अनंतकाल से जारी हैं. लेकिन फिर भी आज तक (चैनल नहीं ) आलस और आलसियों का वजूद “सेट मैक्स चैनल” पर “सूर्यवंशम फिल्म” की तरह जस का तस बना हुआ है, जो ये दर्शाता हैं की बुराई का विरोध करने से वो ज़्यादा बढ़ती हैं। इसीलिए बुराइयो को कोसे नहीं बल्कि प्यार से पाले-पोसे और बड़ा होने पर उनके हाथ पीले और गाल लाल करके घर से विदा कर दे।

दरअसल हर युग में अवतरित हुए जरुरत से ज़्यादा (लेकिन आवश्यकता से कम ) “श्याणे-लोग” इस बात को समझने में नाकाम रहे हैं की आलस कोई दुर्गुण नहीं हैं बल्कि ये तो दुनियादारी और मोहमाया से मुँह मोड़ लेने (और हाथ-पैर तोड़ लेने) का एक आसान आध्यात्मिक तरीका हैं जिसमें व्यक्ति बिना किसी को तकलीफ दिए, बिना किसी “गिव या टेक” के,सारे प्रलोभनों को ओवरटेक करके,”सिक्स-लेन” वाले “मोक्ष मार्ग” पर बिना कोई टोल टैक्स दिए अपनी गाड़ी और कल्पनाओं के घोड़े दौड़ा सकता हैं. जिस दिन जालिम दुनिया ये समझ लेगी उसी दिन से सारी समस्याएं नेताओ की ईमानदारी की तरह छू मंतर हो जाएगी।

आलसी लोगों को चाहे कोई कितना भी भला-बुरा क्यों ना कहे लेकिन वो उसका कभी बुरा नहीं मानते क्योंकि बुरा मानने के बाद गुस्सा उपजता हैं जो की झगड़े और कलह (और कलह से सुलह रास्ता काफी दुर्गम होता हैं) को जन्म देता है जिससे रिश्तों में दरार आने की संभावना रहती हैं और इस दरार को रोकने के लिए वो “खम्बुजा – सीमेंट” की तरह काम करते हैं. टीवी विज्ञापनों में कई सीमेंट में जान बताई जाती हैं। ऐसे सारे विज्ञापन के खिलाफ ज्ञापन देने की ज़रूरत हैं क्योंकि दरअसल “जान” किसी सीमेंट में नहीं होती हैं बल्कि आलसी लोगों में होती हैं क्योंकि संबंधों के लिए वो अपना “अहम” त्याग देते हैं लेकिन अपना आलस त्याग देंगे ऐसा “वहम” किसी कीमत पर नहीं उपजने देते हैं।

आज के भौतिकतावादी युग में सामाजिक मूल्यों को बनाये रखने में आलसी महापुरुष अपनी महती भूमिका निभा रहे हैं क्योंकि जहाँ अधिकतर लोग सफलता मिलने के बाद बदल जाते हैं और इवन-डे पर अपनी मंहगी कार में और ओड-डे पर अपने अभिमान पर सवारी करने लगते हैं, वहीँ आलसी लोगों से सभ्य समाज को ऐसा कोई खतरा नहीं हैं क्योंकि काम और सफलता इन दो शब्दों से आलसी लोगों का वहीँ सम्बन्ध होता हैं जो की “लाल -किला बासमती चावल” से लाल किले का हैं । लेखक और प्रकाशक की “सयुंक्त-गलती” से “काम और सफलता” जैसे शब्द आलसियों की डिक्शनरी में होते तो हैं लेकिन उन्हें देखते ही वो पेज पलट देते हैं ताकि उनकी किस्मत का पासा न पलट पाये और वो आलस के अलावा किसी अभिमान या स्वाभिमान का शिकार न हो पाये।

यहाँ पर ये “अस्पष्ट” कर देना ज़रूरी हैं की आलसी लोग किसी भी कार्य या मेहनत से नहीं घबराते हैं उनको केवल इस बात का डर सताता हैं की उनके काम करने से कहीं “सोने ” के भाव कम ना हो जाये। ये लोग इतने दयालु और परहित स्वभाव के होते हैं की हर क्षेत्र में बढ़ती हुई “गला-काट” प्रतिस्पर्धा को कम करने के उद्देश्य से काम ही नहीं करते हैं ताकि “काबिल” लोगो को मौका मिले और वे सफल होकर “ड्यू डेट” से पहले अपने सभी “बिल” भर सके। इसके बदले इनको किसी सम्मान की आशा नहीं होती बल्कि ये तो केवल इतना ही चाहते हैं की काबिल लोग अपनी सफलता का शोर मचा कर इनकी नींद न ख़राब करे। इसके अलावा आलसी लोगों पर कभी अपेक्षाओं और उम्मीदों पर खरा ना उतर पाने का आरोप नहीं लगता क्योंकि सपने में भी इनसे कोई उम्मीद या अपेक्षा नहीं रखी जाती। ये कभी किसी का दिल भी नहीं तोड़ते क्योंकि इन्हें दिन-रात खटिया तोड़ने से ही फुर्सत नहीं मिलती।

आलसी लोग बिना दब के, कब के, समाज के हर तबके में अपनी पैठ सियाचिन की बर्फ की तरह जमा चुके हैं। बॉलीवुड में ऐसे कई आलसी (हीरो) भरे हुए है जो पूरे साल में केवल एक ही फिल्म करते लेकिन चूँकि वो बड़े लोग है इसीलिए उनके आलस को परफेक्शन की पैकिंग में बेच दिया जाता है। कुछ डायरेक्टर्स तो इतने आलसी होते हैं की फिल्म की स्क्रिप्ट सेलेक्ट करने में ही 3-4 साल निकाल देते हैं. वैसे ये डायरेक्टर्स हिम्मत करके थोड़ा आलस और दिखाए तो सरकारें पंचवर्षीय योजनायें बनाने और क्रियान्वित करने में भी इनकी मदद ले सकती हैं ताकि सरकार और उनके मंत्री संसद के अंदर और बाहर थोड़ा और आराम से सो सके.

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.