आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

प्राची - जनवरी 2016 - प्रायश्चित / लघुकथा / राजेश माहेश्वरी

image_thumb[1]_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb

 

प्रायश्चित

राजेश माहेश्वरी

बलपुर के पास नर्मदा नदी के किनारे स्थित गौरीघाट नामक कस्बे में एक गरीब महिला भिक्षा मांगकर अपना जीवन यापन करती थी. एक दिन वह बीमार हो गई. किसी दयावान व्यक्ति ने उसे इलाज के लिए 500 रुपये का नोट देकर कहा,‘‘माई इससे दवा खरीद कर खा लेना.’’ वह भी उसे आशीर्वाद देती हुई अपने घर की ओर बढ़ गई.

अंधेरा घिरने लगा था. रास्ते में एक सुनसान स्थान पर दो लड़के शराब पीकर उधम मचा रहे थे. वहां पहुचने पर उन लड़कों ने भिक्षापात्र में 500 रुपये का नोट देखकर शरारतवश पैसा अपने जेब में डाल लिया. महिला को आभास तो हो गया था पर वह कुछ बोली नहीं और चुपचाप अपने घर की ओर चली गई.

रात में उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई और दवा के अभाव में उसकी मृत्यु हो गई. सुबह होने पर दोनों शरारती लड़के नशा उतर जाने पर अपनी हरकत के लिए शर्मिंदा महसूस कर रहे थे. वे शाम को उस भिखारिन को रुपये देने के लिए इंतजार कर रहे थे. जब वह नियत समय पर नहीं आयी तो वे पता पूछकर उसके घर पहुंचे. वहां उन्हें पता चला कि दवा न खरीद पाने के कारण वृद्धा की मृत्यु हो गई थी. यह सुनकर वे स्तब्ध रह गये. उनकी एक शरारत ने वृद्धा की जान ले ली थी. उनके मन में स्वयं के प्रति घृणा और अपराधबोध का आभास होने लगा.

प्रायश्चित स्वरूप उन दोनों लड़कों ने कभी भी शराब न पीने की कसम खाई और शरारतपूर्ण गतिविधियों को भी बंद कर दिया.

वृद्धा के लिए तो वह कुछ नहीं कर सकते थे, परन्तु उन्होंने अपना जीवन सुधार लिया.

संपर्कः 106, रामपुर, जबलपुर (म.प्र.)

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.