विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

प्राची - जनवरी 2016 - कहानी / अधूरे फसाने की मुकम्मल नज्म / सुधीर मौर्य ‘सुधीर’

image_thumb[1]_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb

 

कहानी

सुधीर मौर्य ‘सुधीर’

जन्म 1 नवम्बर 1979, कानपुर

शिक्षाः अभियांत्रिकी में डिप्लोमा, इतिहास और दर्शन में स्नातक, प्रबंधन में पोस्ट डिप्लोमा. सम्प्रतिः इंजिनियर और स्वतंत्र लेखन.

कृतियांः हो न हो (नज्म संग्रह), अधूरे पंख और कर्र्ज और अन्य कहानियां (कहानी संग्रह), एक गली कानपुर की, अमलताश के फूल और माई लास्ट अफेयर (उपन्यास), किस्से संकट प्रसाद के (व्यंग्य उपन्यास) देवलदेवीः एक संघर्षगाथा (ऐतिहासिक उपन्यास)

सम्पर्कः ग्राम और पोस्ट- गंज जलालाबाद, जनपद- उन्नाव-209869

(उ. प्र.)

मोः 09145176548

 

कहानी

अधूरे फसाने की मुकम्मल नज्म

सुधीर मौर्य ‘सुधीर’

 

कितना जादू है उसकी कहानियों में, कवितायों में. जब भी पढ़ती है वो उसकी कोई भी रचना, न जाने क्यों एक सिहरन सी मच जाती है उसकी नवविकसित देह में, उसके अल्हड़ मन में, उसकी पवित्र अंतरात्मा में.

ढेर सारी कहानियां और नज्में पढ़ी है उसने उस मशहूर लेखक की, कुछ उपन्यास भी. उसे जानकार आश्चर्य हुआ था कि उसकी मां भी पढ़ती हैं उसके उपन्यास. एक दिन उसे मिल जो जाते हैं मां के एक पुराने संदूक में उस लेखक के बरसों पहले लिखे कुछ लव लेटर.

उलझ जाती है वह उपन्यास के पृष्ठों में, पृष्ठों पर अंकित स्याही में. न जाने क्यों उसे लगता है कि उपन्यास में वर्णित नायिका और कोई नहीं, उसकी मां ही है. हां, उसने कभी किसी प्रकाशक के मुंह से सुना भी था कि उसकी मां नीलम का कभी अफेयर रहा था उस लेखक से.

उस समय के नवोदित लेखक रिशी और कालेज गर्ल नीलम के अफेयर के चर्चे काफी मशहूर हुए थे. वह पलटती है उपन्यास का बैक पेज, जिस पर अंकित है लेखक के उस समय का चित्र. बेहद सुन्दर और आकर्षक. कोई बीस-इक्कीस साल से ज्यादा नहीं दिखता वो उस चित्र में.

अचानक वह आईने के सामने आकर खड़ी हो जाती है. कभी खुद को तो कभी लेखक के उस पुराने चित्र को देखते हुए.

अचानक ही चौंकती है वो, क्या....?

हां, मिलते तो हैं नैन-नक्श उसके, उस लेखक से.

तो क्या....?

हां, हो सकता है. अफेयर में अंतरंग सम्बन्ध बनना कोई बड़ी बात तो नहीं. तो क्या वह अपनी मां के अफेयर की निशानी है? क्या मशहूर लेखक रिशी उसका पिता...?

नहीं, ये नहीं हो सकता. वह अपनी जिज्ञासा का खुद ही समाधान करती है. अगर ऐसा होता तो उसका दिल रिशी की कहानियां पढ़कर धड़कता नहीं. उसके रोयें रिशी की कविताएं पढ़कर सिहरते नहीं.

‘‘ये कौन सी किताब है तुम्हारे हाथ में वर्तिका? कहां से मिली तुम्हें?’’ मां की आवाज उसके विचारों की श्रृंखला तोड़ देती है.

वर्तिका चौंककर हाथ में पकड़े उपन्यास को देखकर कहती है ‘‘मां मां, रिशी का ये उपन्यास आपके पुराने बॉक्स से मिला है मुझे. क्या आप भी उनकी फैन है?’’

अपनी बेटी वर्तिका के सवाल पर नीलम तनिक झेंपती है, फिर बात बनाते हुए बोली- ‘‘हां, एक-दो उपन्यास पढ़े थे मैंने कॉलेज लाइफ में. ठीक-ठाक लिखता था. इधर हाल में तो मैंने उसका कोई उपन्यास नहीं पढ़ा. क्या कोई नया रिलीज हुआ है?’’

‘‘हां, हुए तो हैं.’’ वर्तिका अपनी मां की बात से उत्साहित है.

‘‘ठीक है देना. फुरसत मिली तो पढूंगी.’’ कह कर नीलम चली जाती है, और वर्तिका सोचने लगती है...सच इतना अच्छा लिखने वाले लेखक को बॉयफ्रेंड के रूप में उसकी खूबसूरत मां जरूर डिजर्व करती होंगी.

दो-तीन दिन बाद वर्तिका को चांस मिलता है. वह अपनी सहेली सोनम के साथ पहुंच जाती है रिशी का कहानी पाठ सुनने.

पूरा हाल खचाखच भरा है. सोनम को पहले से ही अंदेशा था इतनी भीड़ का. तभी तो वह वर्तिका को लेकर समय से काफी पहले आ गई थी. टिकट तो उसने दो दिन पहले ही ले लिए थे. सोनम भी प्रशंषक है वर्तिका की तरह रिशी के लेखन की. दोनों सहेलियां जमी हैं आगे की दो कुर्सियों पर, बिल्कुल मंच के सामने जहां रिशी को कहानी पाठ करना है. रिशी आता है. आकर बैठ जाता है उस सोफे पर जिसके सामने माईक लगा है. उतना ही खूबसूरत, उतना ही स्मार्ट...जितना बीस-इक्कीस की उम्र में था. जबकि अब तो लगभग चालीस का है.

उद्घोषक रिशी के कहानी पाठ से पहले उसका परिचय कराते हुए कहता है, ‘‘ये है मशहूर लेखक रिशी जो पिछले बीस सालों से युवा दिलों की धड़कन हैं.’’ फिर वो तनिक रुककर मुस्कराते हुए बोला, ‘‘खासकर युवा लड़कियों के.’’

उद्घोषक की बात सुनकर वर्तिका का दिल धड़क उठता है. अपने दिल को यूं धड़कने की वजह वर्तिका नहीं जानती. पूरी रौ में कहानी पाठ करता है रिशी. रिशी और उसकी कहानी में डूबी वर्तिका बार-बार खुद को रिशी की नायिका समझती है और हर बार अपनी इस सोच पे लजाती है.

‘‘तुम में एक पहचानी सी खुशबू है.’’ वर्तिका को ऑटोग्राफ देते हुए रिशी कहता है. रिशी की बात सुनकर वर्तिका लरज जाती है. तो क्या रिशी ने पहचान लिया है उसे? तो क्या वह जान गया है कि वर्तिका उसकी प्रेमिका रही नीलम की बेटी है?

रिशी और लोगों को ऑटोग्राफ देने में व्यस्त हो जाता है और वर्तिका के दिमाग में अंधड़ दौड़ते रहते हैं. ये अंधड़ उससे कहते कि प्यार अंधा होता है और वह रिशी से प्यार करने लगी है. यह जानते हुए भी कि कभी उसकी मां भी रिशी की प्रेमिका रही है.

‘‘तो रिशी उसका पिता हुआ?’’ लरज जाती है वर्तिका अपने दिल में उठे इस विचार के ख्याल भर से.

नहीं-नहीं ऐसा नहीं हो सकता. जिसके ख्याल भर से उसके दिल की धड़कनें बढ़ जाती हैं, उसे उसका पिता बनाकर भगवान उससे इतना बड़ा मजाक नहीं कर सकते. पर रिशी...उसके नैन-नक्श मिलते हैं उससे. फिर आज रिशी ने उसे देखते ही कहा, ‘‘वर्तिका तुम्हारी खुशबू जानी-पहचानी सी लगती है’’

बार-बार करवटें बदलती है वर्तिका. नींद उसकी आंखों से कोसों दूर है. करवटें बदल-बदल कर वह थक जाती है. थक कर वह कमरे से बाहर आ जाती है. टैरेस पर ठंडी हवा में जाने के लिए. मम्मी के कमरे के सामने से गुजरते हुए वह देखती है, मम्मी के कमरे की लाईट जल रही है. इतनी रात गए मम्मी के कमरे में लाईट? वर्तिका सोचकर खिड़की के पास जाती है. पापा वापस लम्बे ऑफिस टूर पे निकल गए हैं. बस इसलिए वर्तिका की हिम्मत पड़ जाती है मम्मी के कमरे में खिड़की से झांकने की.

तकिये के सहारे अधलेटी है नीलम. हाथ में कोई किताब लेकर उसे पढ़ते हुए. वर्तिका देखती है यह वही किताब है जो उसने रिशी के कहानी पाठ वाले हाल से खरीदी थी और उस पर उसने रिशी का ऑटोग्राफ लिया था.

वर्तिका वापस कमरे में आ जाती है. अपनी मम्मी और रिशी के बारे में सोचते हुए.

न जाने कितनी बार वह कागज के उस टुकड़े को चूम कर अपनी आंखों से लगाती है.

आज वर्तिका को रिशी का खत आता है. उसके पहले खत का ही रिशी ने जवाब दिया है. उससे पूछा है, क्या वह वही लड़की है जो उसे कहानी पाठ वाले दिन मिली थी. रिशी ने अपने इस खत में अपनी इस बात की वजह भी लिखी है, ‘‘इस खत से वही खुशबू आ रही है जो उसने उस दिन महसूस की थी.’’

वर्तिका कोशिश करती है अपनी देह की खुशबू महसूस करने की. वह महसूस करती है खुशबू, अपनी नहीं, अपनी देह से उठती रिशी की खुशबू को.

रिशी से मिलने की इच्छा जताती है वह खत लिखकर, जिसे रिशी कबूल कर लेता है.

सामने बैठा रिशी उसे उसका बायफ्रेंड लगता है. वर्तिका सोचती है- जैसे आज वह रिशी के सामने बैठी है वैसे ही उसकी मम्मी रिशी के सामने बैठती होंगी. रिशी बातें करता रहता है. वह भी करती है.

‘‘आजकल क्या लिख रहे हो?’’ वर्तिका पूछ लेती है.

‘‘उपन्यास.’’

‘‘टाईटल क्या है?’’

‘‘अधूरे फसाने की मुकम्मल नज्म.’’ कहकर रिशी वर्तिका की आंखों में झांकता है और वर्तिका, अपने रिशी और मम्मी के बारे में सोचने लगती है.

उसकी मम्मी रिशी का

अधूरा फसाना है. वर्तिका यह तो जानती है पर क्या वह खुद उस अधूरे फसाने की मुकम्मल नज्म है? वर्तिका जानना चाहती है उस मुकम्मल नज्म के बारे में. जानने के लिए रिशी से मिलती है...बार-बार मिलती है.

उस शाम रिशी उससे कहता है, ‘‘वर्तिका मैं लाख कोशिश के बाद भी यह न जान सका कि तुम्हारे जिस्म से उठती खुशबू को कैसे पहचानता हूं?’’

‘‘नीलम को जानते हैं आप?’’ वर्तिका अब जिंदगी की हर गुत्थी सुलझाना चाहती है.

‘‘हां, पर तुम उन्हें कैसे जानती हो?’’ रिशी चौंक कर वर्तिका की आंखों में नीलम को तलाशता है.

‘‘उन्हीं की खुशबू है मेरे बदन में.’’ वर्तिका कहकर अपनी नजरें उतार देती है रिशी की गहरी आंखों में.

खामोश रह जाता है रिशी वर्तिका को देखते हुए.

रिशी को खामोश देखकर, कुछ देर बाद वर्तिका कहती है, ‘‘कहीं इसमें आपकी खुशबू तो शामिल नहीं?’’

‘‘नहीं जानता?’’ कह कर रिशी उठ जाता है.

उसे जाता देखकर वर्तिका पूछती है, ‘‘आपका उपन्यास कब आ रहा है मम्मी पूछ रही थी.’’

‘‘शायद कभी नहीं.’’ रिशी रुक कर बिना पलटे जवाब देता है.

‘‘क्यों?’’ वर्तिका उसके सामने आ जाती है.

‘‘क्योंकि अधूरे फसाने की नज्म भी अधूरी ही रहती है.’’ रिशी वर्तिका की बगल से निकल जाता है और वर्तिका फिर से सोचने लगती है अपने, रिशी और मम्मी के बारे में.

वर्तिका की आंखें लाल हैं. रात भर उसे नींद नहीं आई है. उसकी जिंदगी की गुत्थी सुलझने की जगह और ज्यादा उलझ गई है. रिशी को खुद मालूम नहीं कि वह उसका अंश है या नहीं. अब उसे सिर्फ उसकी मम्मी बता सकती हैं कि उसकी देह की खुशबू में क्या रिशी की खुशबू शामिल है.

नीलम किचेन में नाश्ता तैयार कर रही है. वर्तिका की नजर आज के न्यूजपेपर पर पड़ती है. चौंक पड़ती है वर्तिका न्यूज पेपर में अपनी और रिशी की फोटो देख कर...आमने-सामने बैठे...एक-दूसरे की आंखों में झांकते हुए.

‘‘एनादर अफैयर ऑफ आथर रिशी’’ की हेडलाईन के साथ.

ओह यह खबर उसे कहीं का न छोड़ेगी. उसे सुलझानी ही होगी आज अपने जीवन की गुत्थी. वर्तिका भागकर अपनी मम्मी के पास जाती है.

‘‘क्या रिशी मेरे पिता हैं?’’ सीधा सवाल करती है वर्तिका अपनी मम्मी से. उसके पास अब वक्त जो नहीं है.

कुछ देर वर्तिका को देखकर कुछ सोचते हुए नीलम बोली, ‘‘अगर रिशी तेरे पिता हुए तो?’’

‘‘तो मुझे खुशी होगी.’’ वर्तिका दीवार का सहारा लेती है. न्यूज पेपर बगल में दबा हुआ है.

‘‘और अगर नहीं हुए?’’ नीलम अपनी बेटी के कंधे पकड़ कर उसे सहारा देती है.

‘‘तो मुझे ज्यादा खुशी होगी.’’ वर्तिका अपनी मम्मी की बात और हाथ से सम्हलती है.

‘‘रिशी तुम्हारे पिता नहीं हैं...’’ अभी नीलम की बात पूरी भी नहीं हुई थी कि वर्तिका वहां से पलट कर घर के बाहर की ओर भागी.

‘‘अरे कहां भागी जा रही है इतनी जल्दी में.’’ नीलम ने बेटी को पुकारा था.

‘‘अधूरे फसाने की मुकम्मल नज्म बनने.’’

वर्तिका ने उसी तरह भागते हुए बिना पलटे जवाब दिया.

..

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget