रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

प्राची - जनवरी 2016 - निर्माता / लघुकथा / केदारनाथ सविता

image_thumb[1]_thumb_thumb_thumb_thumb_thumb

 

निर्माता

केदारनाथ सविता

राजनाथ राजगीर अपने पुत्र को गांव से शहर दिखाने लाया है. साइकिल पर आगे बिठाकर उसे चौक, घंटाघर, इमामबाड़ा आदि जगहें दिखा रहा है.

वह बाजार में एक ऊंची बिल्डिंग के नीचे बने कटरा बाजार के सामने रुक गया. पुत्र को साइकिल से नीचे उतार कर बोला, ‘‘बेटा देखो, यह नक्काशीदार बिल्डिंग...यह और इसकी सभी दुकाने मैंने बनाई हैं. मैं अकेला मिस्त्री था, बाकी सब लेबर थे. तीन साल तक काम चला था.’’

लड़के को खींच कर एक दुकान पर ले गया, ‘‘देखो पुत्र, यह बिल्डिंग के मालिक के साहबजादे अर्थात् छोटे मालिक हैं. आओ तुम्हें टॉफी दिलवाऊं, पैसा नहीं लगेगा.’’

राजनाथ ने दुकान पर बैठे साहबजादे से कहा, ‘‘छोटे मालिक, नमस्कार! मुझे पहचान नहे हैं न? इस पूरे मकान को मैंने बनाया है.’’

‘‘अच्छा, बनाया है तो क्या मजदूरी नहीं लिया है? दो दिन का काम चार दिन में करते थे. अब किसलिए आये हो?’’

सुनकर राजनाथ अवाक् रह गया. चुपचाप अपने पुत्र को साइकिल पर बैठाकर गांव की ओर चल दिया. उसके मन से सुंदर बिल्डिंग बनाने की खुशी काफूर हो चुकी थी. उसके मन में विचारों का तूफान चल रहा था. अपने मन की बात वह पुत्र से नहीं बता पा रहा था.

राजनाथ ने बचपन में सुना था कि शाहजहां ने ताजमहल बनाने वाले मिस्त्री के दोनों हाथ कटवा लिये थे. इस बात को वह अब तक अफवाह मानता था, परन्तु आज की घटना से उसे इस बात पर यकीन हो गया था. उसे लग रहा था, किसी न किसी दिन कोई मालिक उसके भी हाथ काट लेगा. आज तो महज न पहचानने और टॉफी न देने पर ही बात टल गयी.

अब वह कोई दूसरा काम करने के बारे में सोच रहा था.

सम्पर्कः पुलिस चौकी रोड, लाल डिग्गी, सिंहगढ़ गली (चिकाने टोला), मीरजापुर-231001 (उ.प्र.)

मोः 9935685068

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget