रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

प्राची - मार्च 2016 - भारतीय संस्कृति में प्रकृति पूजा / डॉ. विद्या विंदु सिंह

साझा करें:

संस्कृति भारतीय संस्कृति में प्रकृति पूजा डॉ. विद्या विंदु सिंह सं स्कृत साहित्य से लेकर आज तक प्रकृति का चित्रण अनेक रूपों में होता रहा ह...

संस्कृति

भारतीय संस्कृति में प्रकृति पूजा

डॉ. विद्या विंदु सिंह

संस्कृत साहित्य से लेकर आज तक प्रकृति का चित्रण अनेक रूपों में होता रहा है. प्रधानतया प्रकृति-चित्रण के निम्नलिखित रूप उपलब्ध होते हैं- आलम्बन रूप, उद्दीपन रूप, मानवीकृत रूप, आलंकारिक रूप, भीषण तथा कोमल रूप, मधुर रूप, दार्शनिक रूप, नारी रूप, परिगणात्मक रूप एवं शांत रूप.

लोकगीतों में प्रकृति के इन समस्त रूपों की झांकी है. लोककवि ने प्रकृति के उपकरणों को अपने पारिवारिक संबंधों तथ चित्र-मानव के रूप में भी ग्रहण किया. आकाश को पिता, धरती को मां कहकर सम्मान दिया है. वायु और बदली उसके संदेशवाहक बने हैं तथा सूर्य-चंद्रमा प्रिय संबंधी.

इसी प्रकार काव्य में षड़्ऋतु वर्णन और लोककाव्य में बारहमासा वर्णन भी मानव और प्रकृति के चिर-पुरातन एवं अन्यतम संबंध का परिचायक है.

लोकगीतों में काल-विवेचन भी मिलता है. कभी उषा, प्रातः, दिवस, मध्याह्न, संध्या और रात्रि आलंबन रूप में चित्रित हुए हैं तो कभी अलंकार रूप में.

आदिम युग से ही मनुष्य ने प्रकृति को पहले आश्चर्य से देखा, उससे भयभीत हुआ फिर उसकी कृपा पाकर उसके प्रति श्रद्धा से नत हुआ और उसकी तरह-तरह से पूजा करने लगा. प्रकृति के प्रति अनेक तरह के लोक विश्वास उसके मन में स्थान पाते रहे. प्रकृति पूजा की अनेकानेक विधियां प्रचलित हुईं. उसकी प्रशंसा में गीत रचे गये, कहानियां बनी और प्रार्थनाएं प्रारंभ हुईं. वैदिक युग में प्रकृति पूजा के मंत्र रचे गये.

प्रकृति निरंतर परिवर्तनशील रही उसकी इस परिवर्तनशीलता में नित नूतन सौंदर्य मनुष्य ने देखा और विभोर होकर प्रकृति के विभिन्न रूपों की स्तुतियां लिखीं गयीं और इस प्रकार प्रकृति पूजा प्रारंभ हुई.

प्रकृति ने ही उदर पोषण किया, तन ढकने के लिए सामग्री दी. शीत, ताप और वर्षा से बचने के लिए शरण दी और अपने उपकरणों से आश्रय बनाने, नीड़ बनाने की सीख दी. मनुष्य निरंतर उसकी कृपा से अभिभूत होता रहा. वह बीमार हुआ तो प्रकृति की जड़ी-बूटियों ने, पानी-पवन ने उसका कष्ट दूर किया. उसके उल्लास में उसे लगा कि प्रकृति भी उल्लसित है और अपने दुख के क्षणों में प्रकृति से लिपटकर रोते हुए वह अनुभव करता रहा कि प्रकृति उसके दुख से दुखी हो रही है.इस प्रकार प्रकृति की प्रशंसा में जो कुछ कहा गया वह लोक साहित्य बन गया. जो कुछ रंग-रेखाओं के माध्यम से व्यक्त हुआ वह लोक कलाएं बन गयीं. और यह परम्परा पीढ़ी दर पीढ़ी हस्तांतरित होती हुई आज भी हमारे बीच मौजूद है. इनमें आदिम इतिहास से लेकर आज के यथार्थ चित्र हैं और भविष्य की अनंत संभावनाएं भी हैं.

डॉ. रघुवंश ने मानवीय चेतना में निहित सौंदर्य और प्रकृति की रमणीयता के प्रतिबिंब भाव की व्याख्या करते हुए कहा है कि-

‘‘हमारी चेतना तथा हमारे प्राणों से सचेतन और सप्राण प्रकृति हमारी भावनाओं में निबद्ध होकर सुंदर लगती है. यह मानसिक अनुकरण का प्रकृति पर प्रतिबिंब भाव ही है, जो स्वयं को सुंदर लगने लगता है.’’

(डॉ. रघुवंश- ‘प्रकृति और काव्य’ पृ.-59)

काव्य का मूल हेतु सौंदर्य को पुनर्सृजन की इच्छा है. प्रकृति में सुंदरम् तत्व प्रभूत मात्रा में उपलब्ध होता है. कवि शब्द-शिल्प के माध्यम से प्रकृति के सौंदर्य को रूपायित करता है. ‘‘प्रकृति के माध्यम से मानव समाज ने जितना ज्ञान और जितनी शिक्षा हासिल की है, उसकी तो कोई सीमा ही नहीं है. उसका तो कहीं विराम ही नहीं है.’’

(विजयदान देथा- ‘साहित्य और समाज’, पृ.-39)

प्रकृति और मानव प्रकृति का सहजात संबंध सृष्टि के प्रारंभिक काल से ही रहा है. वन, पर्वत, सरोवर, निर्झर, सरिता-सागर, पशु-पक्षी, पृथ्वी-आकाश, ग्रह-नक्षत्र, वायु-अग्नि, रत्न-धातु, जीव-जंतु, औषधि-वनस्पतियां आदि प्राकृतिक वस्तुएं मानवीय चेतना को प्रभावित करते आये हैं. प्रकृति के सौंदर्य से अनुराग, आकर्षण एवं प्रेरणा उसे प्राप्त होती रही. हमारी जिज्ञासा वृत्ति ने प्रकृति के रहस्य के प्रति एक और अनेक दर्शनों का सूत्रपात किया, तो दूसरी ओर काव्य में रहस्यवाद, सर्वात्मवाद आदि आध्यात्मिक विधाओं का भी सृजन किया है.

‘‘काव्य का अनुशीलन करने वाले मात्र जानते हैं कि काव्य-सृष्टि सजीव सृष्टि तक ही बद्ध नहीं रहती, वह प्रकृति के उस भाग तक जाती है, जो निर्जीव सा जड़ कहलाता है.’’

(आचार्य रामचंद्र शुक्ल- ‘चिंतामणि’, पृ.-154)

कहाकवि कालिदास की शकुंतला प्रत्येक पुष्प के प्रसव पर उत्सव मनाती है.

‘‘कुसुम प्रसूति समये यस्था भवत्युत्सवः.’’

(महाकवि कालिदास- ‘अभिज्ञान शाकंतलम्’’ 4/9)

मानव के लिए सदा से प्रकृति अनुभूत्यात्मक व्यंजना रही है. प्रकृति में अपनी आत्मा की झांकी देखकर मानव पुलकित होता रहता है. ‘‘मानव और प्रकृति को हम अलग-अलग रूपों में नहीं देख सकते. दोनों में से प्रत्येक एक-दूसरे का पूरक हैं. जन्म-काल से ही मानव प्रकृति की गोद में पलता और बड़ा होता है. आरम्भ में प्रकृति मानव की सहज वृत्तियों का

समाधान करती है, और अव्यक्त रूप में मानव का उसके साथ संबंध स्थापित हो जाता है.’’

(डॉ. किरण कुमारी गुप्ता-

‘हिन्दी काव्य में प्रकृति चित्रण’ पृ.-15)

‘‘इस प्रकार उसकी भावनाओं का उन्नयन और परिष्कार भी होता है. मनुष्य अहं-भाव के संकुचित क्षेत्र से ऊपर उठकर पर प्रत्यय की अवस्था तक पहुंचता है. यह प्रकृति के अनुराग से अनुरंजित होकर आत्म-विभोर हो उठता है.’’ (वही, पृ.-14)

प्रकृति का दार्शनिक रूप भी चिन्तन का विषय रहा है. ‘‘भारतीय दृष्टिकोण से मनुष्य की व्यापक विराट-चेतना का एक अंश मात्र है. और यह विराट चेतना भौतिक जगत् में प्रकृति के जड़ और चेतन पदार्थों में देखी जा सकती है.’’

(डॉ. चिंतामणि उपाध्याय- ‘लोकायन’ पृ.-38)

लोक साहित्य हमारे आधुनिक जीवन के छंद के साथ भी मेल रखता है. क्योंकि वह सतत् परीक्षा करने के लिए एक संवेदनात्मक उपाय सिखलाता है. यह उपाय उसे प्रकृति से जुड़कर मिलता है.

हर युग में लोक साहित्य ने लोक मानस का संस्कार किया है, उसे संघर्षों से जूझने की शक्ति दी है और विजयी होने पर जयगान किया है. उसके इस संघर्ष में प्रकृति साझीदार भी रही है और साक्षी भी.

प्रकृति अपने समूचेपन में मनुष्य के साथ जुड़ी है. समस्त अनुष्ठानों में प्रकृति की संपूर्णता को इसीलिए असपाहित किया जाता है कि वह अनुष्ठान एक विराट अनुष्ठान हो जिसमें सबकी साझेदारी हो. प्रकृति और मनुष्य में गति की जो समानांतरता है, उसे भारतीय लोक-साहित्य उद्घाटित करता है.

हमें यदि मानव परिवेश में सहानुभूति, करुणा आदि मानवीय गुणों को प्राप्त करना है तो लोक साहित्य से जुड़ना होगा. लोक साहित्य की शिवानुभूति प्रकृति से जुड़ने के कारण हैं. लोक साहित्य में अभिव्याप्त प्रकृति से जुड़ना होगा, उससे जुड़कर ही मानव परिवेश मनुष्य के लिए अनुकूल परिस्थितियां दे सकता है.

प्रकृति के नाना रंगों से मानव जीवन रंग पाता रहा है. प्रकृति मनुष्य के सहभाव की सृष्टि देती है. संस्कारों के अवसर पर अनुष्ठानों के लिए आवश्यक सामग्री प्रकृति से प्राप्त होती है जो गरीब अमीर सबके लिए एक सी अनिवार्य और सुलभ होती है.

संस्कारों के अवसर पर सद्भाव के प्रति मंगलमय अप्रतिहत विश्वास का भाव, मंगल की अवधारणा, सबमें प्रकृति का समावेश है. घर धन, जौ से भरा हो, गोरस से भरा हो, चिड़ियां चहक रही हों, यही कामना लोक गीतों में बार-बार कही गयी है. यह भरे-पूरे मन की कामना केवल भौतिक नहीं, मन के भरे रहने की भी है. आशीर्वाद भी दिया जाता है तो प्रकृति की तरह भरे पूरे रहने के लिए.

अन्याय के विरुद्ध स्वर उठता है तो वह भी किसी व्यक्ति या प्रकृति किसी के प्रति भी अन्याय हो रहा हो तो उसके

विरोध में होता है. अन्याय के विरुद्ध खड़े होने वाले की सहायता भी प्रकृति करती है. अन्याय का विरोध करने वाले की विजय निश्चित रूप से होती है. इससे स्पष्ट है कि प्रकृति केवल मंगल का विश्वास नहीं देती, संघर्ष में साथ देकर मंगल के अभ्युदय का अवसर भी देती है.

मनुष्य की सहायता के लिए प्रकृति के मुखर दूत भी हैं जैसे पक्षी, भवन, नदी, बादल आदि और मौन दूत भी हैं जैसे

धरती, वृक्ष आदि.

यहां पंचतत्व ‘‘क्षिति, जल, पावक, गगन, समीर’’ किस तरह मानव के जीवन में अभिव्याप्त हैं, उसकी संक्षिप्त विवेचना लोक साहित्य के माध्यम से की गई है. तुषारापात, तूफान, अतिवृष्टि आदि को भी लोककवि भूला नहीं है. लोकगीतों में प्राकृतिक जलाशयों तथा वन, बाग-बगीचे एवं फुलवारी व वृक्षों आदि की छटा भी दर्शनीय है. पशु-पक्षी, जीव-जंतु सभी अपने स्वभावानुसार उपस्थित हैं.

प्रकृति चित्रण के विभिन्न रूप आलम्बन रूप में मिलते हैं. जब प्रकृति स्वयं साध्य बन जाती है उसके सौंदर्य के प्रति कवि अपने भावों को प्रकट करता है तो वहां आलम्बन रूप होता है. प्रकृति का सूक्ष्म निरीक्षण करके उसका संश्लिष्ट वर्णन किया गया है. लोक की अंतर्दृष्टि प्रकृति के सौंदर्य से अभिभूत होकर सहज रूप में अभिव्यक्त हुई है. लोक गीतों में नदी, पर्वत, वृक्ष सभी अलम्बन रूप में प्रस्तुत हुए हैं. लोक आत्मतल्लीन भाव से अपने आह्लाद और दुख दोनों को वाणी देता है.

‘‘आलम्बन की स्थिति में कवि की अनुभूति अधिक रहती है. प्रकृति का यह सौंदर्य रूपात्मक नहीं वरन् भावात्मक साहचर्य के आधार पर ही स्थित है. इस प्रकृति के सौंदर्य साहचर्य में कवि स्वयं अपने का सजग पाता है और यह सजगता विभिन्न रूपों में अभिव्यक्त होती है.’’

(डॉ. रघुवंश- ‘प्रकृति और काव्य’ पृ.-92-93)

ऋतु गीतों में प्रकृति का आलम्बन रूप अधिक मुखरित है.

‘‘गमकल फुलवा फुलाने हो रामा चैत मासे,’’

प्रकृति का उद्दीपन रूप लोक साहित्य और प्रातिभ साहित्य में सर्वत्र भरा पड़ा है. ‘‘आश्रय को विशेष भाव-स्थिति में प्रकृति अपनी साहचर्य भावना के कारण आलम्बन विषयक किसी संबंध में उपस्थिति होती है और प्रकृति में यह भावना आश्रय की मनःस्थिति से संबंधित है. इस प्रकार प्रकृति की उद्दीपन शक्ति उसके सौंदर्य और साहचर्य के साथ परिस्थिति के संयोगों पर भी निर्भर है.

(डॉ. रघुवंश- ‘प्रकृति और काव्य’ पृ.-92-93)

प्रकृति का आलंकारिक रूप-मानव को सर्वाधिक प्रभावित करता है. उसकी संवेदनशीलता शब्द-शक्तियों और अलंकारों का आश्रय ग्रहण करती है.

‘‘सावन भादौं के अन्हियारी, तेहि पर डोलैं जुल्मी बयारी,

यादैं सभी सतावैं.’’

‘‘आचार्य रामचंद्र शुक्ल का कथन है कि भावों का उत्कर्ष दिखाने और वस्तुओं का अधिक तीव्र अनुभव कराने में कभी-कभी सहायक होने वाली युक्ति का नाम अलंकार है. इस दृष्टि से प्रकृति सर्वाधिक प्रयुक्त हुई है.

प्रकृति के उपकरणों से तमाम उपमान लोकगीतों में ग्रहण किये गये हैं.

प्रकृति का मानवीकरण भी लोकसाहित्य में बहुत

मिलता है.

भारत एक ऐसा देश है जहां ऋतुएं अपने पूरे वैभव के साथ उतरती हैं. ये ऋतुएं वर्ष के बारहों महीनों के प्रभाव के रूप में मानव के सुख-दुख की कथा कहती हैं. मन का बारहमासी सुख-दुख, बारहमासा गीतों में और ऋतु गीतों में किस तरह व्याप्त है इस अनुभव को बांटने का प्रयास किया जाना है.

प्रकृति एक सहचरी है तो दूसरी ओर पूजनीय, वन्दनीय भी है. पर वंदनीय होते हुए भी पहुंच से परे नहीं है. प्रकृति के देवता को जब चाहे न्योतकर लोकमन बुला लेता है, बैठाता है, उसको अपने घर आंगन में उरेह लेता है और उसे अगली ऋतु तक के लिए विदा भी कर देता है.

मानव की यह चिर सहचरी अनेकानेक रूपों में मानव को सदा से प्रभावित करती रही है. मनुष्य ने प्रकृति से इतना सीखा है, इतना पाया है कि वह उससे कभी उऋण नहीं हो सकता.

लोकगीतों में प्रकृति के नित्य बदलते रूप, सौंदर्य के वर्णन के साथ ही गहरे आंतरिक संबंध व्यक्त हुए हैं. मनुष्य के सुख में प्रकृति हंसती है, दुख में रोती है, उसे ढांढ़स बंधाती है और सहायता करती है. प्रकृति के साथ मनुष्य के इसी गहरे

संबंध के बारे में जो कि लोक साहित्य में जगह-जगह व्यक्त हुए हैं, यहां चर्चा करना चाहूंगी.

लोकगीतों, कथाओं में जब भी मनुष्य संकट में रोता है, हंस का जोड़ा या कोई अन्य पशु-पक्षी अथवा वृक्ष उसका दुख पूछता है, मदद करता है.

लोकगीतों में प्रकृति पारिवारिक संबंधों में बंधी है. आकाश पिता है, धरती मां, वायु और बदली संदेश ले जाने वाले मित्र हैं. लोक में सूर्य, चंद्रमा, जल और अग्नि को ही महत्त्वपूर्ण अवसरों पर साक्षी बनाया जाता है. स्पष्ट है कि मनुष्य को मनुष्य से अधिक इन पर विश्वास है, भरोसा है.

बच्चे के जन्म के समय आपद-विपत्ति से रक्षा के लिए सबसे पहले आग, पानी और बेल का कांटा आदि सौर-गृह के दरवाजे पर रख दिया जाता है. बाहर से आने वाला पानी और आग का स्पर्श करके ही भीतर जा सकता है. वह वैज्ञानिक दृष्टि से स्वास्थ्यकर तो है ही इसके पीछे जो प्रकृति के स्पर्श से मिली ऊर्जा अथवा शक्ति और पावनता का बोध है, उसका भी महत्त्व कम नहीं. आग आदि की सुरक्षा में जच्चा-बच्चा अकेले भी छोड़े जा सकते हैं.

लोक साहित्य में नारी जब भी दुखी होती है प्रकृति की गोद ‘वन’ में भागकर जाती है. दुखी वंध्या नारी का रुदन सुनकर वन का पत्ता-पत्ता रो उठता है. कभी वन देवी, कभी गंगा माता उसे पुत्र का आशीर्वाद और सीख देती हैं. प्रकृति के पास आकर कोई खाली हाथ नहीं लौटता.

यहां स्मरणीय है कि प्रकृति अपने समूचेपन से मनुष्य के साथ जुड़ी है, केवल यही नहीं है कि जो सुन्दर, सुहावना, कोमल दिखता है वही मनुष्य के लिए है, जो भयावह है वह भी मनुष्य के जीवन का एक अंश है. क्योंकि भय भी मनुष्य का एक मनोभाव है. किसी भी अनुष्ठान में प्रकृति की संपूर्णता को इसीलिए आवाहित किया जाता है कि वह अनुष्ठान एक विराट अनुष्ठान हो जिसमें सबकी साझेदारी हो.

इसीलिए लोकगीतों में बेटी के लिए वर ढूंढ़ने तोता जाता है. विवाह की तिथि तय हो जाने पर निमंत्रण लेकर भंवरा

जाता है.

प्रकृति से इतना गहरा तादात्म्य लोक संस्कृति का ही मुख्य अभिलक्षण है. इतनी गहरी संवेदना हमें प्रकृति ही देती है. लोक साहित्य बार-बार कहता है कि प्रकृति से मनुष्य का जन्म से लेकर मृत्युपर्यन्त सहज मानवीय संबंधों का रिश्ता है.

प्रकृति हमें अभय देती है, हमारी रक्षा करती है, हमारे सुख-दुख की साक्षी है, अतः उससे जुड़कर ही हम सुखी रह सकते हैं. प्रकृति से हटकर हम नितांत अकेले हो जायेंगे, जी नहीं सकेंगे.

इसी वैचारिक चौखटे के भीतर क्रमशः मनुष्य और प्रकृति के संबंधों का सहज निरूपण करने का प्रयास किया जाना है और उसी के साथ-साथ प्रकृति के प्रति मनुष्य के दायित्व का पर्यवेक्षण भी किया जाना है. जिस प्रकार प्रकृति और मनुष्य में गति की समानान्तरता है, यह बात ऋतु चक्र और जीवन चक्र को आमने-सामने रखकर, भावना के स्तर पर स्पष्ट करने का प्रयास किया जाना है.

प्रकृति के रहस्य जब नहीं समझ में आये तब मनुष्य ने उन्हें समझने के लिए प्रयास करना प्रारंभ किया और प्रकृति के प्रति ज्ञान-विज्ञान के नये-नये आयाम और क्षितिज खुलते गये. मनुष्य ने अपनी सुख-सुविधाओं के लिए प्रकृति का दोहन प्रारंभ किया. जंगल कटने लगे, पहाड़ उजड़ने लगे, नदियों के जल दूषित किये जाने लगे और अपने किये का दण्ड मनुष्य की संताने भोगने लगीं. प्रकृति को देवता नहीं वस्तु समझा जाने लगा और उसके प्रति आदर और आत्मीयता का भाव धीरे-

धीरे तिरोहित होने लगा.

हमारे ग्रामीण जीवन और जनजातियों में आज भी अपनी परम्परा की धरोहर और विरासत के प्रति आदर भाव बना हुआ है. इसीलिए उनकी वाचिक परम्परा में आज भी प्रकृति के प्रति वही संवेदनात्मक लगाव शेष है.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

---***---

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|नई रचनाएँ_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0

|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3830,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,335,ईबुक,191,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2770,कहानी,2095,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,485,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,49,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,820,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,307,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1907,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,644,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,685,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,54,साहित्यिक गतिविधियाँ,183,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: प्राची - मार्च 2016 - भारतीय संस्कृति में प्रकृति पूजा / डॉ. विद्या विंदु सिंह
प्राची - मार्च 2016 - भारतीय संस्कृति में प्रकृति पूजा / डॉ. विद्या विंदु सिंह
https://lh3.googleusercontent.com/-J8i6XcSfRK0/VvdtUf4wvyI/AAAAAAAAsm8/QPpw5XYboVc/image_thumb%25255B1%25255D.png?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-J8i6XcSfRK0/VvdtUf4wvyI/AAAAAAAAsm8/QPpw5XYboVc/s72-c/image_thumb%25255B1%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2016/03/2016_98.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2016/03/2016_98.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ