विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

कहानी / गूँगा होता घर -गोविन्द सेन

image

मैं साइकिल समेत घर में घुसा। साइकिल की खड़खड़ाहट ने पूरे घर को मेरे आगमन की सूचना दे दी। वैसे सभी जानते थे कि हर शनिवार मैं घर आ जाता हूँ। रविवार की छुट्टी घर पर ही गुजारता हूँ।

घर में सब अपने-अपने तरीके से व्यस्त थे। माँ पिछवाड़े बर्जन माँज रही थी। बाऊजी पलंग पर बैठे बेमतलब दीवारों को घर रहे थे। जग्गू हमेशा की तरह किताबों में डूबा था। शायद मेरी तरह फर्स्ट डिवीजन बनाना चाहता था।

मैंने शर्ट और पेंट उतार कर खूँटी पर टाँग दी। लुँगी बाँध ली। तब तक बाऊजी ने पलंग खाली कर दिया। सभी को मालूम था कि घर आने के बाद पलंग पर मेरा ही एकाधिकार रहता है। मौसम सर्द था। मैंने चादर को बदन पर लपेटा और लापरवाही से पलंग पर पसर गया। दृष्टि खिड़की के सरियों के पार हवा में फड़फड़ाते पीपल के पत्तों पर टिका दी। चेहरे को अति गंभीर बना लिया। बाऊजी पूना काका के घर से स्टील के गिलास में दूध ले आए। मैं समझ गया, चाय बनेगी। जग्गू ने रेडियो ऑन कर दिया।

नौकरी मिलते ही घर में मुझे अपने-आप विशिष्टता प्राप्त हो गई। मेरी सुख-सुविधा का ध्यान रखा जाने लगा। जब से बाऊजी की हथेली पर हरे-हरे नोट रखने लगा हूँ, तब से तो वे नौकरीशुदा कमाऊ पूत के बाप होने के दर्प से भरे रहते हैं। बेरोजगारी के दिनों में बाऊजी मेरे निठल्लेपन पर खूब व्यंग्य कसते थे। आज की पूछ-परख देख वो कल की उपेक्षा बरबस याद आ जाती है और मन कड़वाहट से भर जाता है।

चाय बाऊजी ही लाये। मैंने चाय सुड़क कर कप-प्लेट पलंग के नीचे सरका दिए, जिन्हें जग्गू उठाकर ले गया। ऐसा पहले नहीं होता था। झाड़ू, पानी और बर्तन सब मेरे ही सुपुर्द रहते थे। अब मेरा स्थान जग्गू ने ले लिया था। बाऊजी का चाय लाना और जग्गू का कप-प्लेट ले जाना, मैं सहजता से स्वीकार नहीं कर पा रहा था। कहीं तो भी यह स्थिति मुझे अस्वाभाविक लगी।

भोजन और चौके से निपट सब मेरे चारों ओर सिमट आये, जैसे किसी महत्वपूर्ण बात पर सलाह-मशवरा करना हो। माँ ने लुगड़े का पल्ला समेटा और देहरी के पास बैठ गई। बाऊजी पलंग पर बैठने का उपक्रम करने लगे, तो मैंने पैर समेट लिये और उनके बैठने की जगह बना दी।

जग्गू यथावत किताब में डूबा था, लेकिन मुझे लगातार महसूस हो रहा था कि उसका ध्यान किताब में नहीं है। मेरी दृष्टि अब भी हवा में फड़फड़ाते पीपल के पत्तों पर टिकी थी, जैसे देखने योग्य सिर्फ पीपल के पत्ते ही हों । यद्यपि ऐसा करते-करते मैं ऊब चुका था।

बाऊजी ने तीन-चार बार नाक से खूँ-खूँ की ध्वनि निकाली, जैसे नासापुटों में कोई कचरा फँसा हो जिसे वे निकाल देना चाहते हों। खंखारकर उन्होंने मुँह से कफ का एक लौंदा कमरे के कोने में तीव्र वेग से उछाला जो दीवार पर जा चिपका। वैसे खंखारना और थूकना उनकी पुरानी आदत है, लेकिन मुझे लगा कि यह उपक्रम मेरा ध्यान खींचने के लिहाज से किया गया है। मैं भीतर ही भीतर खीज और घृणा से भर गया।

’’धार से कारड आया हे...छोरी आठमी तक भणेली हे...।’’ माँ ने मुझे कुरेदना चाहा।

’’माथे मत चाट।’’ मैंने चिढ़े हुए स्वर में कहा। पत्तों को देखना अब भी जारी रखा। यद्यपि मेरा ध्यान वहाँ कतई नहीं था। पिछले कुछ दिनों से जगह-जगह से रिश्ते आ रहे थे। कभी रतलाम से तो कभी धार से, कभी कहीं और से। माँ और बाऊजी मेरी शादी की उमंग से भरे थे। उनकी बूढ़ी होती आँखों में मेरी शादी के सपने उग आये थे। कहीं भीतर मुझे भी लगने लगा था कि अब मेरी शादी हो जानी चाहिए। उम्र सत्ताईस तक खींच लाया था। कई बार सपनों में अपने-आपको किसी कल्पित युवती के साथ पाया है। हमउम्र साथियों की शादी हो चुकी थीं। कइयों के घर बच्चे भी खेल रहे थे। माँ से अब घर का काम बनता नहीं था। कुल मिलाकर शादी के लिए मन ने कई तर्क गढ़ लिए थे। साथ ही मैं संभावित कटु स्थितियों से भी आतंकित था। छोटी सी नौकरी के सहारे घर की गाड़ी, जिसमें जग्गू की पढ़ाई और माँ-बाऊजी की बढ़ी हुई उम्मीदें भी होंगी, खींच पाना संभव नहीं लग रहा था।

मेरी प्रदर्शित अरुचि के बावजूद माँ ने लड़की के खानदान के संबंध में अपनी जानकारी खोल दी-’’छोरी खानदानी हे...थारो ब्याव हुई जाय कि हूँ चूला-चक्की से छूटूँ...।’’ बाऊजी पोतों को खिलाने और जीते जी मेरी शादी देखने जैसी बेतुकी इच्छाएँ प्रकट कर रहे थे। वे अपनी रौ में इतने बहे जा रहे थे कि रुकना मुश्किल लग रहा था। आखिर मैं खीज उठा।

’’पण काण्टा खोली ने सुण लो...सादी का बाद तमकऽ एक बी टिकड़ी मिलणऽ वाळी नी हंय...समज्या...कर दो सादी...।’’ कहते-कहते मेरा चेहरा सख्त हो गया।

सुनकर बाऊजी और माँ के जुबान पर ताले ठुक गये। मैंने पहली बार पैसे की ताकत को इतने नज़दीक से देखा था। जग्गू पूर्ववत् किताब में डूबा हुआ था, जैसे उसने कुछ सुना ही न हो।

चेचक के अमिट दागों से भरा बाऊजी का चेहरा फूल गया। वे फटी-हताश आँखें से सामने की दीवार को बेमतलब देखने लगे। वे मुझ से कुछ कहने का साहस नहीं जुटा पा रहे थे। उनकी मुख-मुद्रा देख तरस आ रहा था, किन्तु मैंने चेहरे को सख्त ही बनाए रखा। आखिर बाऊजी और माँ चुपचाप उठकर चले गये।

अब तक गली के खम्भे पर लटके बल्ब की पीली रोशनी में पत्ते चमचमाने लगे थे। मैंने खिड़की बंद कर ली। पीपल के पत्ते अपने-आप ओझल हो गये। अब मैं केवल पत्तों की खड़खड़ाहट ही सुन पा रहा था। जग्गू ने किताबें समेट ली थीं। उसने बड़ा बल्ब बंद कर जीरो बल्ब ऑन कर लिया था। लग रहा था जैसे पूरे घर को यकायक साँप सूँघ गया हो। घर अपनी आवाज़ खो चुका था।

---

रचनाकार परिचय :

गोविन्द सेन

जन्म: 15 अगस्त 1959

जन्म स्थान: राजपुरा [अमझेरा] धार [म.प्र.]

शिक्षा: एम.ए.(हिंदी, अंग्रेजी) बी.टी.

कृतियाँ: 1,चुप्पियाँ चुभती हैं(गजल संग्रह) 1988

2.अकड़ूभुट्टा (निमाड़ी हाइकु संग्रह) 2000

3, नकटी नाक (निमाड़ी हाइकु संग्रह) 2010

4,नवसाक्षरों के लिए 5 पुस्तिकाएँ

5. बिना पते का प्रशंसा पत्र (व्यंग्य संग्रह) 2012

6.खोलो मन के द्वार (दोहा संग्रह) 2014

पुरस्कार- पं. रामनारायण शास्त्री कहानी प्रतियोगिता-1992

में कहानी ‘बरकत’ को प्रथम पुरस्कार

सम्मान- 1.पं. देवीदत्त शुक्ल स्मृति सम्मान-2003

2.आंचलिक साहित्यकार सम्मान-2005-06

3.झलक निगम साहित्य सम्मान-2012

4.हमजमीं सम्मान-2012

5.साक्षरता मित्र सम्मान-2013

6.शब्द प्रवाह सम्मान-2013

7.गणगौर सम्मान-2014

प्रकाशन: देश की प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ एवं रेखांकन प्रकाशित

प्रसारण: आकाशवाणी एवं दूरदर्शन से रचनाएँ प्रसारित

सम्प्रति: अध्यापन

 

पता: 193 राधारमण कॉलोनी, मनावर, जिला-धार(म.प्र.)

पिन-454446

मोबाः 09893010439

ई मेल: govindsen2011@gmail.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget