विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

लाल गुब्बारा / बाल कहानी / एल्बर्ट लैमोरिस

image

 

जनवाचन आंदोलन
बाल पुस्तकमाला
भारत ज्ञान विज्ञान समिति ।


लाल गुब्बारा
एल्बर्ट लैमोरिस


दिल को छू लेने वाली एक मार्मिक कहानी। एक संवेदनशील लड़के
और उसके प्रिय लाल गुब्बारे की अमर दोस्ती की दास्तां। परन्तु यह
दोस्ती कुछ बदमाश लड़कों को पसंद नहीं आती। बाद में क्या होता है
जानने के लिए आगे पढ़ें। इस कहानी पर आधारित एक सुंदर फिल्म
भी बनी है।

हिन्दी अनुवादः अरविन्द गुप्ता

 

ऊब से बचने के लिए पास्कल कभी किसी खोई हुई बिल्ली को
घर वापिस ले आता। तो कभी सड़क पर घूम रहे किसी लावारिस कुत्ते
को पकड़ कर ले लाता। पास्कल की मां को इन आवारा और गंदे
जानवरों से बेहद नफरत थी। वो उन्हें घर से बाहर निकाल देतीं। इससे
पास्कल अपनी मां के साफ-सुंदर घर में, फिर से अकेला पड़ जाता।
एक दिन स्कूल जाते वक्त पास्कल को एक सुंदर लाल रंग का
गुब्बारा दिखाई पड़ा। गुब्बारा, बिजली के खम्बे से बंधा था। गुब्बारे को
देखते ही पास्कल अपने बस्ते को सड़क पर पटककर, झट से खम्बे पर
चढ़ गया। फिर गुब्बारे की डोर खोलकर वो बस स्टाप की ओर दौड़ा।

पर बस कंडक्टर को सभी नियम-कानून रटे थे।
उसने कहा, "बस में कुत्ते, भारी सामान और गैस के
गुब्बारे ले जाना सख्त मना है। जिनके पास कुत्ते हैं, उन्हें
चलकर जाना होगा। भारी सामान वालों को टैक्सी लेने
होगी। और जिनके पास गैस का गुब्बारा हो उन्हें उसे छोड़
कर ही सफर करना होगा।"

पास्कल ने अपने गुब्बारे को कसकर पकड़ रखा
था। वो किसी भी कीमत पर उसे छोड़ने को तैयार नहीं
था। तभी कंडक्टर ने घंटी बजाई और बस पास्कल को
स्टैंड पर खड़ा छोड़कर आगे बढ़ गई।
स्कूल काफी दूर था। पैदल चलने के अलावा
पास्कल के पास और कोई चारा भी नहीं था। पास्कल के
पहुंचने तक स्कूल का गेट बंद हो चुका था। तब उसे
एक तरकीब सूझी। बाहर स्कूल का चौकीदार झाड़ू लगा
रहा था। पास्कल ने अपने लाल गुब्बारे को चौकीदार की
निगरानी में छोड़ दिया। पास्कल हमेशा स्कूल समय पर
ही पहुंचता था। देरी से पहुंचने का यह पहला मौका था।
इसलिए पास्कल को कोई डांट नहीं पड़ी।


स्कूल खत्म हुआ। चौकीदार ने लाल गुब्बारे को अपने कमरे में
सुरक्षित रखा था। उसने गुब्बारा पास्कल को लौटा दिया।
तभी बारिश शुरू हो गई। क्योंकि बस में गैस के गुब्बारे को
लेकर सफर करना मना था इसलिए पास्कल घर की ओर पैदल ही
चला। वो नहीं चाहता था कि उसका गुब्बारा भीगे।
इसलिए उसने एक बूढ़े आदमी से छतरी के नीचे छिपने की
पनाह मांगी। किसी तरह पास्कल एक छतरी से दूसरी छतरी के नीचे
लुकता-छिपता घर पहुंचा।


मां, पास्कल को देखकर खुश तो हुई। पर जब
उसे देरी से घर लौटने का कारण पता चला तो उसे लाल
गुब्बारे पर बहुत गुस्सा आया। मां ने गुस्से में गुब्बारे को
छीनकर खिड़की के बाहर फेंक दिया।

अगर गैस के गुब्बारे को छोड़ा जाए तो वो
हवा में उड़ जाता है। पर पास्कल का गुब्बारा
खिड़की के बाहर ही लटका रहा। पास्कल और
गुब्बारा एक-दूसरे को, खिड़की के कांच में से
टकटकी लगाए देखते रहे। गुब्बारा उड़ कर कहीं
गया नहीं, यह देखकर पास्कल को आश्चर्य हुआ।
अच्छे मित्र आपके लिए कुछ भी करेंगे। हां, अगर
दोस्त कोई गुब्बारा हो तो वो उड़ कर नहीं जाएगा।
फिर पास्कल ने चुपके से खिड़की खोली और डोर
को खींचकर गुब्बारे को अपने कमरे में छिपा दिया।


दूसरे दिन स्कूल जाने से पहले पास्कल ने गुब्बारे के बाहर
निकलने के लिए खिड़की खोली। उसने जाते-जाते गुब्बारे से कहा,
"जब मैं बुलाऊं तो मेरे पास फौरन वापिस आना।"
फिर पास्कल ने बस्ता उठाया, मां को पप्पी दी और सीढ़ियां
उतर गया।
सड़क पर पहुंचते ही उसने आवाज लगाई, "गुब्बारे! गुब्बारे!"
और गुब्बारे की डोर झट से उसके हाथ में आ गई।
फिर गुब्बारा पास्कल के पीछे-पीछे चलने लगा - उसी तरह
जैसे कोई कुत्ता अपने मालिक के पीछे-पीछे चलता है।
पर पालतू कुत्तों की तरह ही इस गुब्बारे ने भी अपने मालिक का
हरेक आर्डर नहीं माना। मिसाल के लिए जब पास्कल ने सड़क पार
करने के लिए उसे पकड़ना चाहा, तो गुब्बारा उसकी पहुंच से दूर हो
गया।

पास्कल ने अब गुब्बारे को अनदेखा किया। जैसे उसका गुब्बारे
से कुछ लेना-देना ही न हो। फिर पास्कल चलते-चलते एक घर की
आड़ में जाकर छिप गया। इससे गुब्बारे को चिंता होने लगी और वो झट
से पास्कल के पास जा पहुंचा।
जब दोनों बस स्टाप पर पहुंचे तो पास्कल ने गुब्बारे से कहा,
"मेरे पीछे-पीछे आना। बस को किसी हालत में छोड़ना नहीं, समझे।"
उस दिन पैरिस की सड़कों पर लोगों को एक अजीबो-गरीब
नजारा देखने को मिला - उन्होंने बस के पीछे एक लाल गुब्बारे को
भागते हुए देखा!

नगर की सैर
स्कूल पहुंचने के बाद गुब्बारे ने दुबारा पास्कल की पकड़ से दूर
होने की कोशिश की। क्योंकि उस समय स्कूल की घंटी टन-टन बज
रही थी और गेट भी बंद होने वाला था इसलिए पास्कल को स्कूल में
अकेले ही जाना पड़ा। पर वो काफी चिंतित था।
तभी गुब्बारा स्कूल की दीवार के ऊपर उड़ा और बच्चों की
कतार के पीछे जाकर हवा में लटक गया। मास्टर इस नए छात्र को
देखकर पहले तो कुछ आश्चर्यचकित हुए। परंतु जब गुब्बारे ने क्लास में
घुसने की कोशिश की तो बच्चों ने बहुत शोर मचाया। शोर के मारे बेचारे
हेड-मास्टर मामले की जांच के लिए दौड़े हुए आए।
हेड-मास्टर ने दरवाजे के बाहर धकेलने के लिए गुब्बारे को
पकड़ने की चेष्टा की। परंतु तमाम कोशिशों के बावजूद हेड-मास्टर
इसमें नाकामयाब रहे। अंत में उन्होंने पास्कल का हाथ पकड़ा और उसे
घसीटते हुए बाहर ले गए। यह देख गुब्बारा भी कक्षा के बाहर निकल
आया और उनके पीछे-पीछे हो लिया।


लगे, "जरूर हेड-मास्टर कोई खेल-खिलवाड़ कर रहे
हैं। बुढ़ापे में ऐसी शैतानी उन्हें शोभा नहीं देती!"
बेचारे हेड-मास्टर ने गुब्बारे को लपकने, पकड़ने
के तमाम प्रयास किए। लेकिन गुब्बारा उनके हाथ नहीं
आया। टॉउन-हाल के बाहर गुब्बारा उनका इंतजार
करता रहा। जब हेड-मास्टर स्कूल के लिए वापिस
चले, तो गुब्बारा भी उनके पीछे हो लिया।
गुब्बारे से अपना पिंड छुड़ाने के लिए हेड-मास्टर
को झक मारकर पास्कल को छोड़ना पड़ा।


इत्तिफाक से उसी समय हेड-मास्टर को किसी से मिलने के
लिए टॉउन-हाल जाना था। उन्हें समझ में नहीं आया कि वो पास्कल
और उसके गुब्बारे के साथ क्या करें। इसलिए उन्होंने पास्कल को अपने
दफ्तर में बंद कर दिया। उन्होंने सोचा कि लाल गुब्बारा भी उनके दफ्तर
के बाहर ही लटका रहेगा।
परंतु गुब्बारा भी काफी सोचने वाला था। जब गुब्बारे ने हेड-मास्टर
को जेब में चाबी रखते हुए देखा, तो वो भी हेड-मास्टर के पीछे हो
लिया।
सड़क पर हरेक आदमी हेड-मास्टर को पहचानता था। जब लोगों
ने हेड-मास्टर के पीछे-पीछे एक लाल गुब्बारे को देखा तो वो कहने

घर जाते हुए पास्कल को सड़क पर लगी प्रदर्शनी
में एक फोटो दिखा। फोटो में एक लड़की हाथ में
पहिया पकड़े हुए थी। पास्कल सोचने लगा, ‘कहीं ऐसी
दोस्त मिल जाए, तो फिर तो मजा ही आ जाए।’

कुछ दूर चलने के बाद सचमुच में उसकी
मुलाकात एक छोटी लड़की से हुई। लड़की का चेहरे
उस फोटो से काफी मिलता-जुलता था। लड़की एक
सफेद फ्रॉक पहने थी और उसके हाथ में एक गुब्बारे
की डोर थी।
पास्कल उस लड़की को अपना जादुई गुब्बारा
दिखाना चाहता था। पास्कल ने गुब्बारे को पकड़ने की
बहुत कोशिश की। परंतु गुब्बारा पास्कल की पकड़ में
नहीं आया। यह देखकर लड़की खिलखिलाकर हंसने
लगी।

इससे पास्कल को गुस्सा आया। "जो कहना न माने ऐसे गुब्बारे
के साथ कैसी दोस्ती?" वो सोचने लगा। इतने में कुछ पड़ोस के बदमाश
लड़के गुब्बारा पकड़ते हुए वहां आ पहुंचे। उन्होंने पास्कल के पीछे
चलते गुब्बारे को पकड़ने की कोशिश की। जैसे ही गुब्बारे को कुछ
खतरा महसूस हुआ वो तुरंत पास्कल के पास जा पहुंचा। पास्कल गुब्बारे
की डोर पकड़ कर दौड़ने लगा। पर तभी दूसरी ओर से कुछ और गुंडों
ने उसे आकर उसे घेरा।
पास्कल ने गुब्बारा छोड़ दिया। गुब्बारा आसमान में ऊंचा उठ
गया। जब लड़के आसमान को ताक रहे थे तभी वो उनके बीच से
दौड़कर सीढ़ियों के ऊपर चढ़ गया। वहां से उसने गुब्बारे को बुलाया।
गुब्बारा तुरंत पास्कल के पास आ गया। यह देख उन लड़कों को काफी
अचरज हुआ।
इस प्रकार किसी तरह बच-बचाकर पास्कल अपने गुब्बारे के
साथ घर पहुंचा।

अगला दिन इतवार था। चर्च जाने से पहले पास्कल ने गुब्बारे को
कई हिदायतें दीं, "चुपचाप घर पर ही रुकना। कुछ तोड़-फोड़ मत
करना। किसी भी हालत में बाहर नहीं जाना।" परंतु गुब्बारे के दिल में
जो आया, उसने वही किया। पास्कल और उसकी मां चर्च में बैठे ही थे
कि तभी उनके पीछे एक लाल रंग का गुब्बारा भी आकर बैठ गया।
भला चर्च में गुब्बारे का क्या काम! सब लोग गुब्बारे को घूरने
लगे। पादरी के उपदेश पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। तब पास्कल को
वहां से उठकर भागना पड़ा। उसके पीछे-पीेछे चर्च का दरबान भी था।
सचमुच गुब्बारा बहुत शरारती था। उससे पास्कल काफी परेशान था!
इस चिंता से पास्कल को भूख लग आई। उसकी जेब में एक
सिक्का था। खाने के लिए पास्कल एक मिठाई की दुकान में घुस गया।
जाते-जाते उसने गुब्बारे से कहा, "तमीज से रहना। मेरा इंतजार करना।
कहीं चले मत जाना।"

गुब्बारा कुछ देर तक तो दुकान के बाहर कोने में धूप सेंकता
रहा। पर इस बीच में कल वाले बदमाश लड़कों ने उसे देख लिया।
लड़कों को गुब्बारा पकड़ने का यह अच्छा मौका मिला। लड़के चुपके
से, धीरे से गुब्बारे पर लपके और उसे लेकर रफूचक्कर हो गए।
जब पास्कल मिठाई की दुकान में से निकला तो गुब्बारा नदारद
था। पास्कल इधर-उधर, सभी ओर आसमान को तलाशते हुआ दौड़ा।
गुब्बारे ने दूसरी बार उसकी बात नहीं मानी थी! फिर मनमानी से गुब्बारा
कहीं घूमने निकल गया था! पास्कल ने जोर-जोर से गुब्बारे को बुलाया।
लेकिन गुब्बारा वापिस नहीं आया।
उन लड़कों ने गुब्बारे को एक मजबूत डोर से बांधा था और वो
उसे कुछ करतब सिखा रहे थे। "हम इस जादुई गुब्बारे का सर्कस में
प्रदर्शन करेंगे," उनमें से एक ने कहा। उसने एक नुकीली डंडी गुब्बारे
की ओर हिलाई "इधर आ! नहीं तो मैं तेरा पेट फोड़ दूंगा," वो
चिल्लाया।

अचानक दीवार के उस पार पास्कल को गुब्बारा
दिखा। गुब्बारे के गले में एक भारी डोर बंधी थी।
पास्कल ने गुब्बारे को पुकारा।
अपने मालिक की आवाज सुनते ही गुब्बारा
पास्कल की ओर उड़ चला।
पास्कल ने गुब्बारे की डोर खोली और उसे
लेकर तेज रफ्तार से दौड़ा।
लड़कों की की टोली से बच-बचाके पास्कल
पतली गली से भागा।

एक जगह लड़कों यह न पता चला कि पास्कल दाएं मुड़ा है या
बाएं। इसलिए वे कई छोटी-छोटी टोलियों में बंट गए। एक क्षण के लिए
पास्कल को लगा जैसे वो उन गुंडों से बच निकला है और वो सुस्ताने
के लिए कोई जगह तलाशने लगा। किन्तु गली के नुक्कड़ पर ही वो
उनमें से एक लड़के से जा टकराया, और उल्टे पांव लौट पड़ा। इसी
बीच गली के दूसरे छोर पर गुंडों का एक पूरा गिरोह जमा हो चुका था।
स्थिति गंभीर थी। अंत में पास्कल उस गली में घुसा जो एक खुले मैदान
में निकलती थी। वहां उसे कुछ सुरक्षित लगा।
परंतु नहीं। वहां पर भी लड़कों के गिरोह ने उसे पूरी तरह घेर
लिया।

लड़कों की टोली भी पास्कल को पकड़ने के लिए दौड़ी। लड़कों
के शोर से आसपास के राहगीर तमाशा देखने के लिए रुक गए। ऐसा
लगने लगा जैसे पास्कल ने ही उन गुंडों का गुब्बारा चुराया हो। पास्कल
ने सोचा, "मैं अगर भीड़ में जाकर छिप भी जाऊं तो भी लाल गुब्बारा
तो लोगों को दूर से दिखेगा ही ।"
लड़कों की टोली से बचने के लिए पास्कल एक जानी-पहचानी
तंग गली में घुस गया।

पास्कल ने गुब्बारा छोड़ दिया। परंतु इस बार गुब्बारे को पकड़ने
की बजाए बदमाशों ने पास्कल पर ही हमला बोला। दूर से जब लाल
गुब्बारे ने यह नजारा देखा तो वो पास्कल के पास वापिस आया। फिर
क्या था! लड़कों ने लाल गुब्बारे पर भी पत्थर बरसाना शुरू कर दिए।
"दौड़ो! गुब्बारे भागो!" पास्कल रोते हुए चीखा। परंतु गुब्बारे ने
अपने प्रिय दोस्त को नहीं छोड़ा।
तभी किसी ने गुब्बारे पर एक नुकीला पत्थर फेंका जिससे लाल
गुब्बारा फट गया।


जब पास्कल अपने मरे हुए गुब्बारे पर रो रहा था
तभी एक अजीबो-गरीब घटना घटी!
आसमान में चारों ओर, सभी तरफ, गुब्बारों
और गुब्बारों की कतारें उड़ती दिखाई दीं।
यह गुब्बारों की महान बगावत थी!
पैरिस के सारे गुब्बारे पास्कल के पास नाचते हुए
आए। गुब्बारों ने अपनी-अपनी डोर को आपस में फंसा
कर पास्कल के शरीर से बांध दिया। और सभी गुब्बारों
ने आपस में मिलकर पास्कल को आसमान में बहुत
ऊंचा उठाया।


और इस तरह पास्कल ने पूरी
दुनिया का मजेदार सफर किया।


--

(अनुमति से साभार प्रकाशित)

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget