मंगलवार, 22 मार्च 2016

जानते सब हैं करते कुछ नहीं - डॉ. दीपक आचार्य

जानते सब हैं

करते कुछ नहीं

- डॉ. दीपक आचार्य

9413306077

बहुत सारे लोग हैं जो बहानों में रमे रहते हैं। इन लोगों के पास ज्ञान, कौशल और मेधा की कोई कमी नहीं होती  मगर ये लोग किसी पारिवारिक या सामाजिक परिस्थिति अथवा अपनी भीतरी असंतुलित अवस्थाओं, पूर्वागर््रहों, दुराग्रहों और पराग्रहों की वजह से करना नहीं चाहते। बहुत सारे लोग हैं जो जानबूझकर काम करना नहीं चाहते।  इन लोगों की मानसिकता ही ऎसी हो जाती है कि ये हर काल को टालना चाहते हैं और इच्छा यह रखते हैं कि जहां तक हो सके वे सारे मुक्त ही रहें, उनके काम दूसरे लोग करते रहें।

जब तक इन लोगों को कोई विकल्प मिलता रहता है ये जानबूझकर कोई काम करना नहीं चाहते। बल्कि जो काम इनके माथे आ पड़ता है उसे दूसरे लोगों पर टाल देते हैं। 

असल में इंसान की जब से यह मनोवृत्ति हो गई है कि मेहनत नहीं करने वाले भी मौज उड़ाते हैं, चोरी-बेईमानी करने वालों को  कोई रोक-टोक नहीं करता, और इसलिए यह अच्छा है कि काम भी नहीं करना पड़े और आनंद की प्राप्ति भी होती रहे। और पैसा पूरा का पूरा मिलता रहे जैसा और लोगों को मिल रहा है।

सभी तरफ अब दो धड़े होते जा रहे हैंं। एक में वे बहुसंख्य लोग हैं जिनके लिए पैसा और भोग ही सब कुछ हैं लेकिन काम करने की बात कहो तो मौत आ जाती है। परिश्रम करना नहीं चाहते और बिना परिश्रम के ही सब कुछ पाना चाहते हैं।

ऎसे लोगों के दिल और दिमाग में यह घर कर गया है कि जो प्राप्त हो रहा है वह उनका जन्म सिद्ध और मृत्यु पर्यन्त तक का पूरा और पक्का अधिकार है जिसे कोई छीन नहीं सकता इसलिए ये पूरी दादागिरी और रौब के साथ अपने-अपने अखाड़ों के उस्ताद बने हुए घूमते-फिरते और मौज उड़ाते हैं।

जो लोग ज्ञान, अनुभव और हुनर रखते हुए भी अनजान बने रहते हैं, समाज को अपनी प्रतिभा का लाभ देना नहीं चाहते, औरों को सिखाना नहीं चाहते, वे लोग जीवन भर ऎसे जीते हैं जैसे की बिजूके हों।  जो निरन्तर काम करता रहता है वह आगे बढ़ता है,, ऊर्जित और आरोग्यवान रहता है तथा जीवन में सर्वश्रेष्ठ व्यक्तित्व  की छाप छोड़ता हुआ अपने तमाम लक्ष्यों में सफल होता हुआ जीवन के सारे आनंद प्राप्त करता है। ऎसे इंसानों को कालजयी यश और पुण्य दोनों की प्राप्ति होती है और वर्तमान के साथ भविष्य के कई-कई जन्म भी सुधर जाते हैं।

परिश्रम और पुरुषार्थ को  स्वीकार करने वाले लोगों के जीवन से दूसरे अंधकार, आशंकाएं और भ्रम दूर रहते हैं तथा ये खुद की आलोकित रहते हैं तथा दूसरों को भी उजियारा दिखाते और उजियारे से साक्षात कराने का सामथ्र्य रखा करते हैं।

हम चाहे कितने ही बड़े विद्वान, हुनरमंद और महान क्यों न हो, हमारी प्रतिभा यदि समाज और देश के काम न आए तो हमारा जीना व्यर्थ है। जिस मिट्टी-पानी को पाकर हम परिपुष्ट होते हैं उस वतन के लिए समर्पित होकर जीना तथा जियो और जीने दो के मूल मंत्र को अंगीकार करना हमारा पहला फर्ज है। जो ऎसा नहीं करता है, जानबूझकर कामचोरी करता है वह देशद्रोही माना जाना चाहिए।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------