रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

होली की कविता - रंगों में रंगे शब्द / डॉ. सुरेन्द्र वर्मा

 

शब्द मेरे चारों और शब्द ही शब्द हैं

होली के रंगों में रंगे शब्द हैं

खट्टे मीठे नमकीन शब्द हैं

कुछ नए व्यंजन कुछ रुटीन शब्द हैं

 

नाचते और गाते शब्द हैं

प्रदर्शन प्रिय किलकारते शब्द हैं

हंसते डींग हांकते शब्द हैं

फुदकते भागते शब्द हैं

होली के रंगों में रंगे शब्द हैं

शब्द, मेरे चारों और शब्द ही शब्द हैं

 

हसरतों में दबे शब्द हैं

कुछ खुले कुछ ढंके शब्द हैं

नीले पीले कुछ लाल शब्द हैं

कुछ मलाल कुछ गुलाल शब्द हैं

ढूँढ़ते और भटकते शब्द हैं

कांपते लड़खड़ाते शब्द हैं

 

गाली गलौज करते गंदे शब्द हैं

होली के रंगों में रंगे शब्द हैं

शब्द, मेरे चारों ओर शब्द ही शब्द हैं

भांग की तरंग में खदबदाते शब्द हैं

अट्टहास करते चिल्लाते शब्द हैं

चकित,चपल चितचोर शब्द हैं

मन चले मुदित, मदहोश शब्द हैं

 

झूमते इतराते शब्द हैं

वाचाल बतियाते शब्द हैं

कुछ कहे कुछ अनकहे शब्द हैं

होली के रंगों में रंगे शब्द हैं

शब्द, मेरे चारों ओर शब्द ही शब्द हैं

 

भीगे गीले तरबदार शब्द हैं

रंगे रंगाए किस कदर शब्द हैं

शब्द, मेरे चारों ओर शब्द ही शब्द हैं

 

-डा. सुरेन्द्र वर्मा

मो. ९६२१२२२७७८

 

image

फ़ेसबुक पर रचनाकार को पसंद करें

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget