आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

क्या आप भी मोबाइलखोर बनने की राह पर हैं? / डॉ. दीपक आचार्य

अजीब हैं ये

मोबाइलखोर

image

दुनिया जितनी विचित्र है उससे कहीं अधिक अजीबोगरीब जीवों का बाहुल्य है। इनमें भी इंसान प्रजाति का प्राणी सबसे अलग ही है जिसमें धरती के सारे जीवों के लक्षण, स्वभाव, व्यवहार और खान-पान देखने को मिल ही जाते हैं।

इनमें भी कुछ लोग किसी एक जानवर का प्रतिनिधित्व करते हैं और बहुत से लोग ऎसे हैं जो खूब सारे जानवरों का मिश्रण लगते हैं।

दुनिया भर में मनुष्य इस मामले में अजीब ही है कि वह अपने व्यवहार और स्वभाव के मामले में उन्मुक्त, स्वच्छन्द और फ्री-स्टाईल हैं। जो हमें अच्छा लगता है वह करते हैं चाहे वह मजाक हो, खेल हो या फिर हकीकत।

आदमियों की जबर्दस्त बढ़ती जा रही है इस विस्फोटक भीड़ में मोबाइलखोरों की संख्या का कोई पार नहीं है। संचार क्रान्ति के मौजूदा युग में मोबाइल की आवश्यकता स्वयंसिद्ध है लेकिन इसका अति उपयोग, दुरुपयोग और अनावश्यक उपयोग बढ़ता जा रहा है।

बहुत सारे लोगों के लिए खिलौना हो गया है, खूब लोगों के लिए प्रतीक्षालय का साथी या टाईमपास का सहचर बना हुआ है। जो बचे-खुचे रह गए हैं उनके लिए यह जीवनदायी उपकरण हो गया है जैसे कि किसी आपदा के समय ऑक्सीजन सिलेण्डर या वेंटीलेटर। 

हैरत की बात यह है कि बहुत से लोगों को यह तक नहीं पता कि मोबाइल का उपयोग कैसे किया जाए। मोबाइल का उपयोग करने के दूसरे सारे पहलुओं को छोड़ दिया जाए तो काफी लोगों को यह तक नहीं पता कि मोबाइल से बात कैसे की जाए।

आज भी लोग मोबाइल पर वैसे ही बातचीत करते हैं जैसे कि फोन का चोगा उठाकर किया करते थे। मोबाइल पर बात करते समय जितनी धीमी आवाज में बोला जाए, सामने वाले को उतना अधिक साफ-साफ और अच्छा सुनाई देता है।

इस यथार्थ से अनजान लोग मोबाइल पर चिल्ला-चिल्ला कर ऎसे बातें करते हैं जैसे कि सामने वाला खानदानी बहरा हो। अधिकांश लोगों की यह आदत ही हो गई है कि जब भी मोबाइल से बात करेंगे, जोरों से करेंगे और आस-पास पचास-सौ मीटर तक आवाज करते रहेंगे। 

ये लोग यह भी नहीं देखते कि वे अपने काम-धंधों, प्रतिष्ठानों, दफ्तरों, बस-रेल या सार्वजनिक स्थलों में हैं अथवा राह चलते।  इनकी जो भी बातचीत होती है उसे वहां रहने वाला या पास से गुजरने वाला अच्छी तरह समझ जाता है कि माजरा क्या है।

अधिकतर बार फालतू की बातें  करते रहते हैं। इन शोरमचाऊ मोबाइल खोरों से परिसरों की शांति भंग होती है और ध्वनि प्रदूषण के कारण लोग परेशान रहते हैं। ऎसे लोगों पर भी पाबंदी लगाने के लिए सरकार को आने वाले समय में शांति भंग की धाराओं में कुछ जोड़ना जरूर पड़ेगा, ऎसा लगता है।

हर स्थान पर ऎसे लोगों का जमावड़ा है जो मोबाइल से बात करते हुए दिन भर चिल्लाते रहेंगे जैसे कि किसी पर शब्द हमला कर रहे हों या माथे पड़ रहे होंं। इन लोगों को कोई कितना ही समझाए, इन नामसझों को कोई फर्क नहीं पड़ता। ये अपनी वाली करते रहते हैं।

अपनी कर्कश, बिना किसी काम की तथा तेज आवाजों से जमाने भर की शांति भंग करने का ठेका लिए हुए ये लोग अपनी मूर्खता का परिचय  देने से नहीं चूकते।

मोबाइल पर जोरों से बातचीत करने वाले किसी न किसी अंश में दिमाग से खिसके हुए होते हैं। इनकी जीवनचर्या, घरेलू माहौल और स्वभाव का गहरा अध्ययन किया जाए तो साफ-साफ पता चलेगा कि ये घर के लोगों, घरवाले या घरवाली के प्यार से वंचित हैं, पारिवारिक तनाव से भरे या शंकालु हैं अथवा सनकी, उद्विग्न और आत्मदुःखी स्वभाव वाले।

ये लोग दूसरों को तनाव देने व शोर मचाने के लिए ही पैदा हुए हैं और आम जिन्दगी में जब भी आमने-सामने बातचीत करेंगे, जोरों से ही। कई नीच प्रवृत्ति के लोग अपने पास मोबाइल है, यह जताने के लिए भी जोर-जोर से बोलते रहते हैं।

अपने आस-पास के ऎसे लोगों को समझाएं कि मोबाइल पर बातचीत का मजा तभी है जबकि हम धीरे-धीरे और सुस्पष्ट आवाज में बात करें। जोर से बोलने पर वाणी फट जाती है और सामने वाले को साफ-साफ समझ में भी नहीं आता।

वे समझ जाएं तो ठीक है वरना यह सोचकर चुप बैठ जाएं कि अभी मोबाइल-पागलों के लिए दुनिया में कोई पागलखाना नहीं खुला है।

ईश्वर से हम सभी यह कामना करें कि ऎसे लोगों को दिव्यांग माना जाए अथवा इनके लिए कहीं कोई पागलखाना स्थापित किया जाए ताकि हम सभी लोग चैन से रह सकें।

---000---

- डॉ. दीपक आचार्य

9413306077

dr.deepakaacharya@gmail.com

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.