मंगलवार, 29 मार्च 2016

उदास है नदी / कविताएँ / गोवर्धन यादव

image

(१)

सूख कर कांटा हो गई नदी,

पता नहीं, किस दुख की मारी है बेचारी ?

न कुछ कहती है,

न कुछ बताती है.

एक वाचाल नदी का -

इस तरह मौन हो जाने का -

भला, क्या अर्थ हो सकता है?

 

(२)

नदी क्या सूखी

सूख गए झरने

सूखने लगे झाड़-झंखाड़

उजाड़ हो गए पहाड़

बेमौत मरने लगे जलचर

पंछियों ने छॊड़ दिए बसेरे

क्या कोई इस तरह

अपनों को छॊड़ जाता है?.

 

(३)

उदास नदी

उदासी भरे गीत गाती है

अब कोई नहीं होता संगतकार उसके साथ

घरघूले बनाते बच्चे भी

नहीं आते अब उसके पास

चिलचिलाती धूप में जलती रेत

उसकी उदासी और बढ़ा देती है

 

(४)

सिर धुनती है नदी अपना

क्यों छॊड़ आयी बाबुल का घर

न आयी होती तो अच्छा था

व्यर्थ ही न बहाना पड़ता उसे

शहरों की तमाम गन्दगी

जली-अधजली लाशें

मरे हुए ढोर-डंगर

 

(५)

नदी-

उस दिन

और उदास हो गई थी

जिस दिन

एक स्त्री

अपने बच्चों सहित

कूद पड़ी थी उसमें

और चाहकर भी वह उन्हें

बचा नहीं पायी थी.

 

(६)

नदी-

इस बात को लेकर भी

बहुत उदास थी कि

उसके भीतर रहने वाली मछली

उसका पानी नहीं पीती

कितनी अजीब बात है

क्या यह अच्छी बात है?

 

(७)

घर छॊड़कर

फ़िर कभी न लौटने की टीस

कितनी भयानक होती है

कितनी पीड़ा पहुंचाती है

इस पीड़ा को

नदी के अलावा

कौन भला जान पाता है ?

--

--  गोवर्धन यादव

103 कावेरी नगर ,छिन्दवाडा,म.प्र. ४८०००१
07162-246651,9424356400

1 blogger-facebook:

  1. गोवर्धन यादव.8:56 am

    नमस्कार महोदयजी.
    रचनाएं प्रकाशन के लिए हार्दिक धन्यवाद.
    आशा है, सानन्द-स्वस्थ हैं.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------