आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

बाल कथा / नाम में क्या रखा है? / गोवर्धन यादव

  image

नाम में क्या रखा है?

एक छोटे से गांव में एक बनिया रहता था. उसके बेटे का नाम ठनठनपाल था. जब वह बड़ा हुआ और मोहल्ले के अन्य लड़कों के साथ खेलने जाने लगा तो उससे अक्सर यही सवाल पूछा जाता कि भला ये भी कोई नाम हुआ? लड़के कुछ अजीब ढंग से उसका नाम लेकर पुकारते कि उसे चिढ़ होने लगती. जब भी कभी वह शहर जाता, लोग कह उठते...लो आ गया ठनठनपाल. उसे अब अपने नाम से ही नफ़रत होने लगी थी. वह अक्सर सोचता कि उसके माता-पिता ने इतना मनहूस नाम क्योंकर रखा होगा? उसका नाम तो तेजबहादुर अथवा विजय बहादुर जैसा रखा जाना चाहिए था.

तंग आकर उसने एक दिन अपने पिता से इस बात की शिकायत की कि लोग इस नाम लेकर उसका तरह-तरह से उपहास उड़ाते हैं. क्यों न मेरा नाम बदल दिया जाए?. पिता से उसे बहुत समझाया कि नाम का कोई महत्व नही होता. महत्व होता है केवल गुणॊं का. यदि हमारे गुण-धर्म ठीक है तो नाम का कोई मतलब ही नहीं रह जाता है. इसलिए तुम नाम बदलने की जिद छॊड़ दो. लाख समझाने की बाद भी वह नहीं माना. आखिरकार इसके पिता ने कहा कि वह कोई नया नाम ढूंढ कर लाए. नाम कुछ इस तरह का होना चाहिए कि वह उसकी सार्थकता भी प्रदान करता हो.

किसी अच्छे नाम की तलाश में ठनठनपाल निकला ही था उसकी मुलाकात एक लकड़ी बेचने वाली महिला से हुई. उसने उसका नाम जानना चाहा. उस महिला ने अपना नाम “लक्षमी” बतलाया. ठनठनपाल ने उससे पूछा कि नाम तो तुम्हारा लक्ष्मी है, फ़िर भी तुम इस तरह गली-गली लकड़ियां बेचती फ़िरती हो? महिला ने कहा- भैया, जब घर में खाना न हो तो लकड़ियां भी बेचनी पड़ती है. ठनठनपाल ने सोचा कि नाम लक्ष्मी होने के बाद भी लकड़ी बेचती है, यह नाम ठीक नहीं है.

बाजार में उसने एक भिखारी को देखा. वह भीख मांग रहा था. उससे पूछने पर पता चला कि उसका नाम “धनपाल” था. ठनठनपाल सोच में पड़ गया कि नाम तो इसका धनपाल है फ़िर भी भीख मांग रहा है ? ऎसा नाम किस काम का ?.

निराश होकर वह घर लौट ही रहा था कि मार्ग से किसी व्यक्ति की शव-यात्रा जा रही थी. उसने किसी से पूछा कि किसकी अर्थी जा रही है? उत्तर मिला कि नगर के सेठ अमरचंदजी की मृत्यु हो गई है.

वह फ़िर सोच में पड़ गया कि अमरचंद को तो अमर होना चाहिए था, फ़िर क्यों मर गए अमरचंद ?

अब उसकी समझ में अच्छी तरह से आ गया था कि पिता ठीक ही कह रहे थे कि नाम का कोई महत्त्व नहीं है. फ़िर उसने अपना वही नाम ठनठनपाल ही रहने दिया.

--

-- गोवर्धन यादव

103 कावेरी नगर ,छिन्दवाडा,म.प्र. ४८०००१
07162-246651,9424356400

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.