विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

थप्पड़ / कहानी / धर्मेंद्र निर्मल

image

थप्पड़

गुड़ी की नजर से बचकर कोई बात न तो गाँव में पाँव धर सकती है न ही पाँव उठाकर गाँव के बाहर जा सकती है।

गाँव की गुड़ी ऐसी जगह है जहाँ सुबह- शाम देर तक दो-चार आदमी गपशप लड़ाते बैठे ही रहते है। यह अभी की बात नहीं , बाप-दादों के जमाने से चला आ रहा है। इस नए जमाने में बस यही एक मौन और गुप्त परम्परा जीवित है जो गुप्त गंगा की भाँति इस बदलते समाज की रेत पर अभी तक निर्बाध रूप से बहती चली आ रही है।

यह सिलसिला संभवतः कई पीढ़ियों तक जारी रहेगा। अब यह बताना संभव नहीं है कि गुड़ी पर बैठना लोगों की परिपाटी है या लोगों का बैठना गुड़ी की अपनी परिपाटी है। हाँ ! मगर इतना जरूर कहा जा सकता है कि लोगों का बैठना ही गुड़ी की पहचान है।

विजय दिन में कम से कम दो बार सायकल चलाते हुए गुड़ी से होकर जरूर गुजरता। गुजरते सब, पर विजय के गुजरने में एक खास बात थी। पहले एकाध शक्की नजर पड़ी। दो- चार दिन बाद शक को सबूत मिला। फिर बात आम से खास हो चली।

आम दिनों में आम लोगों की तरह विजय का गुड़ी से गुजरना भी पहले आम बात ही थी।

विजय, लाभचंद का छोटा लड़का। महज दस साल का। तीन महीने पहले ही सायकल चलाने में दक्ष हुआ।

वैसे तो वह सायकल सीखने की कोशिश साल भर से रहा था। पहले पहल वह सायकल पकड़े फकत घूमा करता। पैदल। गली -गली। कभी सड़कों पर तो कभी मैदान में। कभी साइकल की चैन तोड़कर लाता। कभी अपनी पैंट फाड़ डालता तो कभी लहू बहाती कुहनी लिए आता। पर इन सबके बाद भी उसके मासूम चेहरे पर घुँघराले बालों के बीच छिपा आत्मविश्वास मुस्कुराता रहता।

सफलता के हर ताले की एकमात्र कुंजी है -आत्मविश्वास।

आखिर उसने साइकल चलाना सीख ही लिया। पहले कैंची फाँक, फिर डण्डी में। उसके बाद सीट में बैठकर चलाना सीखा।

कैंची फाँक साइकिल चलाना सीखा तभी से वह संगियों के साथ खम्हरिया जाने लगा। खपरी से खम्हरिया की दूरी महज 7 कि. मी. है। नये जोष, नयी उमंग और नए शौक के आगे यह दूरी क्या है ? दो पाइडिल का बूता, बस।

लाभचंद ऐसा पियाग है जिसका कोटा पूरा करते -करते शराब खुद थकने लगती, पर वह नहीं छकता। ऑफिस से लौटते समय गले तक तो भट्ठी में ही पी लेता। साथ में एकाध शीषी और रख लेता। घर आकर फिर चढ़ाता। वह शराब से मुँह धोता और उसी से अचोंता।

लाभचंद यूँ ही पियक्कड़ नहीं हुआ। उसकी भी अपनी एक रामकहानी है।

वैसे तो हर आदमी की कोई न कोई अपनी एक रामकहानी अवश्य होती है। इस तरह हर आदमी अपनी -अपनी रामकहानी का नायक होता है।

लाभचंद छः साल का था, माता-पिता दोनों गुजर गये। देखरेख व पढ़ाई उनके चाचा के जरिये हुई। लाभचंद के चाचा बलराम बडें नेक, समझदार व उदारमना थे। लाभचंद की शिक्षा- दीक्षा में उन्होंने कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्होंने पूरी कोशिश की कि लाभचंद को कभी-भी मां -बाप की कमी का एहसास न हो ।

लेकिन माता-पिता के खाली हाथ का साया भी जितना विष्वसनीय और सुखदाई होता है उतना भरे हुए गैर हाथ नहीं होते। 

अपना आसमान आखिर अपना होता है चाहे वह मुट्ठी -भर ही क्यों न हो ?

माँ-बाप की कमी लाभचंद को कहीं भीतर तक खलती थी।

वह चंचल और होशियार तो बालपन से ही था। बहुत जल्दी बिजली विभाग में मिस्त्री हो गया। दो हेल्पर साथ लेकर साईड जाता। साइड में अतिरिक्त आय की कोई कमी नहीं थी। सौ-पचास रोज मिल जाते। वे उसे आपस में बाँट लेते। कभी-कभी बराबर बाँटने में परेशानी होती। कभी कम मिलने से बाँटना अच्छा नहीं लगता और उसे किसी के पास छोड़ रखना भी नहीं भाता।

वे कभी-कभार इन्हीं झटकों से एकाध पौवा मिल -बाँटकर पी लेते। बस यही कभी-कभार कब रोजाने में बदल गया किसी को भनक नहीं लगी, खुद लाभचंद को भी नहीं। इस तरह कल का सीधा -सादा होनहार लाभचंद आज का बेवड़ाराम हो गया।

विजय के साइकिल सीखने से किसी को लाभ हो न हो , लाभचंद का काम बैठे-बैठे होने लगा।

लाभचंद को जब भी पीने की इच्छा होती, विजय को भट्ठी भेज देता। विजय बाप का कहना जरूर मानता। इससे विजय को कई फायदे भी होते। एक तो उसे सायकल चलाने मिलता। थोड़ी -बहुत जेबखरचा और सबसे बड़ी बात पढ़ने के नाम पर डाँट नहीं खानी पड़ती।

इसी बहाने वह लाभचंद का दुलरवा भी हो गया। दुलरवे का दस दोष माफ। यह बात लाभचंद के और दो बेटों में नही थी।

समाज के विकास में जितना महत्व षिक्षा का है उससे कहीं ज्यादा संस्कार का होता है। संस्कार ही है जो समाज को नई दिषा और ऊँचाईयाँ देता है। इसके अभाव में समाज षिक्षित हो सकता है लेकिन सभ्य नहीं हो सकता, साधन सम्पन्न हो सकता है लेकिन विकसित नहीं हो सकता।

वास्तव में समाज की छवि संस्कार ही बनाता और संस्कार ही बिगाड़ता है। एक संस्कार ही तो है जिससे आदमी-आदमी, समाज और समाज, पीढ़ी और पीढ़ी के बीच अपनी पहचान बनाता है। संस्कार, कोई पेट से सीखकर पैदा नहीं होता। बच्चे बड़ों से देख-सुनकर ही सब सीखते हैं। यह मानव प्रजाति की एक मौन और सतत साधना है।

विजय के साथ भी ऐसा ही कुछ किया। वह पिता के लिये दारू लाता। चुपचाप खड़े-खड़े देखता रहता। जब लाभचंद पूरी बोतल उड़ेल लेता तब विजय खाली शीषी बेचने के लिये एक जगह इकट्ठा कर रख लेता।

बच्चे मन के जितने सच्चे होते हैं उतने ही कच्चे भी होते है। वे किसी बात के परिणाम को नहीं सोचते। उनका जिज्ञासु मन किसी चीज को केवल जानने -करने का इच्छुक होता है।

एक दिन उनके मन में हुआ कि आखिर इस दारू में क्या खास बात है ?

उसने शीषीयों में बची थोड़ी-थोड़ी शराब एक शीषी में इकट्ठी कर ली। चम्मच भर शराब उसके मन को मथने और मजा देने के लिये काफी थी।

फिर क्या ! यहीं से विजय का विजयक्रम शुरू हो गया। वह भट्ठी से लाते -लाते रास्ते में ही कुछ शराब गटक जाता और उसकी जगह पानी मिलाकर ला देता। इस तरह विजय अपने बाप से मिले संस्कार में पलने -बढ़ने लगा।

आज विजय लगी-लगी में बहुत ज्यादा शराब उड़ेल गया। आज पहिली बार पूरी बोतल और शराब दोनों का मन पानी-पानी हो गया। वे आज विजय के रूप में भावी लाभचंद को देख रहे थे।

विजय के लाकर रखते ही लाभचंद पूरी बोतल एक साँस में गटक गया। उसे समझने में जरा भी देर नहीं लगी। वह पहले से पीया हुआ था।

लाभचंद के गले में एक कड़वा घूट फँस सा गया। वह गुस्से में आग बबूला हो गया। चिल्लाते हुए उठ खड़ा हुआ।

" अबे विजय ! कहाँ है रे तू "

विजय वहीं बरामदे के पास खड़ा था। पूरे घर में एक पल के लिए सन्नाटे ने अपनी बिसात बिछा दी। पर शायद विजय इस बात से पहले से ही वाकिफ हो।

या शायद वह यही परिणाम चाहता रहा हो। वह चुपचाप वहीं खड़ा रहा। अविचलित।

लाभचंद हल्के लड़खड़ाते कदमों से विजय के पास गया। उसके बाल पकड़ लिए और झिंझोड़ने लगा -" अपने बाप से गद्दारी करता है। तेरी ऐसी की ......................."

घर के सारे लोग बोकबाय देख रहे हैं। डरे हुए-से सहमें हुए-से। उस घर का एक रिवाज -सा है कि जब लाभचंद बोलता है तब पूरे घर में किसी और को बोलने का हक नहीं होता। न धरती न आसमान , न दरो -दीवार न छत, सिर्फ और सिर्फ लाभचंद।

लेकिन विजय ने बरसो पुरानी घर की उस परिपाटी को आज तोड़ दिया है। उसने रूआँसा होकर कहा - " गाली मत दो पापा "

लाभचंद - " अरे ! तू मुझे सिखाता है। बता ...... बता तूने शराब पी है या नही ?" मारे गुस्से के लाभचंद की आँखें लाल हो गयी थी। उनके होंठ तितलियों के पंख की तरह फड़फड़ा रहे थे। लगातार, बिना किसी रूकावट के।

विजय चिल्लाकर रोने लगा - " हाँ, हाँ। मैंने शराब पी है ! पी है !! पी है !! आप भी तो पीते हैं। बड़े होकर बच्चों के सामने गाली बकते हैं। मारने के पहले शर्म तो आपको  आनी चाहिये। "

इसी बीच झम्म - सी एक जोरदार आवाज बहुतेरे कानों में गूँजी। सब के सब सवाली आँखो से एक दूसरे को देखने लगे। मानो पूछ रहे हो - क्या हुआ ?

शायद वह आवाज किसी थप्पड़ की हो।

या हो न हो शीषा टूटने की आवाज हो।

दोनो की भी हो सकती है।

कभी-कभी दो बिन्दुओं के बीच लकीर खिंचना असम्भव सा हो जाता है। आज शायद यही असम्भव किसी बाहुबली की तरह पैर जमाए अडिग खड़ा है।  

बस, इतना सुनते ही लाभचंद का सारा नषा पानी-पानी हो गया।

शायद ! वह आवाज थप्पड़ की ही हो। शायद !!

यह थप्पड़ लगा तो आखिर किसके गाल पर ? विजय, लाभचंद या समाज के गाल पर ?

लेकिन गाँव की गुड़ी ही नहीं पूरे गाँव में केवल एक ही चर्चा है - थप्पड़!

 

धर्मेन्द्र निर्मल

ग्राम पोस्ट कुरूद भिलाईनगर जिला दुर्ग छ.ग. 490024

9406096346

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget