शनिवार, 19 मार्च 2016

पुरुषवादी मानसिकता का बर्बर रूप / आरिफा एविस

image

पिछले दिनों महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के शनि मंदिर में प्रवेश को लेकर आन्दोलनकारियों और मंदिर समिति की तमाम कार्यवाहियाँ हमारे सामने आ चुकी हैं. इन सबके बावजूद स्त्री-विमर्श के पैरोकार, लेखक-बुद्धिजीवी, कानूनविद और यहाँ तक कि समाजशास्त्री भी इस घटना को भिन्न भिन्न तरीके से देख रहे हैं किन्तु इसके कुछ पहलुओं को जानबूझ कर दरकिनार किया जा रहा है.

कुछ लोग भारतीय परम्पराओं का हवाला देकर स्त्री जाति को अपवित्र और कलंकित कर रहे हैं तो वहीँ दूसरी तरफ कुछ लोग मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के विषय को समाज में अंधविश्वास की तरफ ले जाने की कार्यवाही मान रहें हैं. हद तो तब हो गयी जब कुछ लोग इस मामले को मात्र मंदिर में प्रवेश और रजोधर्म तक ही सीमित करके अपना पिंड छुड़ाना चाहते हैं. भारतीय राज्य व्यवस्था पर विश्वास करने वाले तो सविधान और कानूनी दांवपेंच तक ही सिमट कर रह गए हैं जो इस बात का संकेत है कि इस तरह का विमर्श पुरुषवादी मानसिकता और लैंगिक पूर्वाग्रह से ग्रसित है जिसकी जड़े बहुत गहरी हैं.

यह इस तरह का अकेला मुद्दा नहीं है क्योंकि सबसे ज्यादा प्रगतिशील कहे जाने वाले राज्य केरल में तो पिछले 20 वर्षों से महिलाओं के मंदिर में प्रवेश का आन्दोलन चल रहा है. जबकि उस राज्य में सबसे ज्यादा पढ़ी-लिखी महिलाएं हैं. मैं इस मुद्दे के बहाने आप लोगो बात कर रही हूँ कि हमने एक ऐसा मौका गंवा दिया जो लोगों की चेतना को उन्नत कर सकता था.

दोस्तों मामला सिर्फ अपवित्र महिलाओं को मंदिर-प्रवेश से वंचित रखने तक सीमित नहीं है. इसकी जड़ें बहुत गहराई तक हमारे समाज और मन मस्तिष्क में पैठ बनाये हुए हैं. जरा गौर कीजिए महिलाओं के प्रति यह भेदभाव किसी विशेष जाति धर्म से जुड़ा हुआ नहीं क्योंकि मुस्लिम महिलाओं का मस्जिद में प्रवेश वर्जित है. इसी तरह चर्च में भी पुरुषों का ही वर्चस्व है.

किसी भी धर्म में एक भी गाली पुरुषों पर नहीं है. सभी महिलाओं पर आधारित हैं. आज भी अपमान का बदला लेने के लिए महिलाओं को ही शिकार बनाया जाता है. स्त्रियों पर ही तेजाब डाले जाते हैं. आज भी वंचितों में वंचित स्त्री समुदाय ही है. मुझे उन लोगों से सख्त नफरत है जो कुल मिलकर दोषी महिलाओं को ठहरा रहे हैं. उनके लेखन में, राज्य व्यवस्था, पितृ सत्ता है या पुरुष समाज द्वारा महिलाओं को अपवित्र और नीचा दिखाने वाली संरक्षित भेदभाव वाली परम्पराओं को तोड़ने की तड़प नहीं दिख रही.

दोस्तो, यह घटना पुरुषवादी मानसिकता के बर्बर रूप को हमारे सामने लाती है कि स्त्री दमन, उत्पीड़न और शोषण के लिए ही है. यह घटना इस बात का इशारा कर रही है कि स्त्रियां हमेशा से पुरुषों के अधीन रही हैं और आज भी आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक शक्तियों के तमाम साधन -साध्य पुरुषों के अधिकार में हैं. वे जब चाहे महिलाओं को उनकी औकात दिखा सकते हैं.

इस घटना ने वर्तमान व्यवस्था पर पुरुष प्रधान मानसिकता की व्यापकता को हमारे सामने रख दिया जो महिलाओं के आर्थिक-शोषण, उत्पीड़न और सामाजिक दमन में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से अपनी भूमिका निभाता है. यही वो मानसिकता है जो महिलाओं को रोकती है, यही मानसिकता प्यार करने से रोकती है, सृजन करने से रोकती है, फतवों के जरिये रोकती है और एक मुकम्मल जहाँ बनाने से रोकती है. हमें ऐसी मानसिकता को बदलने की जरूरत है.

-

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------