विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

उड़न-तश्तरी / कहानी / सुशांत सुप्रिय

बात तब की है जब वह नौ साल का था और चाचा-चाची के यहाँ मंदिर मार्ग पर बने उनके सरकारी फ़्लैट में गर्मी की छुट्टियाँ बिताने आया था । चूँकि वह दोपहर में खूब सो लेता था , इसलिए रात का खाना खाने के बाद बारह-एक बजे तक आस-पास घूमने-टहलने की छूट उसने चाचा-चाची से ले रखी थी । एक रात वह घूमते-फिरते बिड़ला मंदिर के पीछे ' रिज ' के जंगल में जा निकला था । दरअसल वह बचपन से ही निडर था । भूत-प्रेतों के क़िस्से भी उसे नहीं डरा पाते थे । अकसर वह वीरान पगडंडियों पर अकेले ही घूमने निकल जाता था ।

उस रात भी यही हुआ था जब उसने पहली बार उस विशाल उड़न-तश्तरी को देखा था -- पूर्णिमा की रात में चमकती हुई , बिड़ला मंदिर से भी दस गुना ऊँची , विशाल और भव्य । हैरानी की बात यह थी कि उसके उड़ने से कोई शोर नहीं हो रहा था , बल्कि रात का सन्नाटा और गहरा हो गया था । झींगुरों ने भी अपना गीत गाना बंद कर दिया था , और पहली बार वह अपने दिल की धड़कनें गिन सकता था । आकाश जैसे तारों के बोझ से नीचे झुक आया था । समय जैसे ठिठक कर वहीं रुक गया था । पर कुछ देर हवा में टँगी रह कर वह उड़न-तश्तरी ग़ायब हो गई थी -- उसे मंत्रमुग्ध छोड़ कर ।

वह अगली रात फिर वहाँ आया , लेकिन उस रात उसे वह उड़न-तश्तरी नज़र नहीं आई । उसने भी हार नहीं मानी और वह उसकी खोज में हर रात वहाँ आने लगा -- ' रिज ' के जंगल में , साँप-बिच्छुओं और बंदरों की परवाह नहीं करता हुआ । वह जैसे एक आदिम आकर्षण से खिंच कर वहाँ चला आता , और आख़िर अगली पूर्णिमा की रात में वह उड़न-तश्तरी उसे फिर नज़र आई थी । वह उतनी ही विशाल और भव्य थी और उसके आने में एक शोरहीन तेज़ी थी । उस घनी रात में थोड़ी देर आकाश में मँडरा कर वह ग़ायब हो गई थी -- उसे रोमांच से सिहरता हुआ छोड़ कर ।

जब कई पूर्णिमा की रातों में उसने उस उड़न-तश्तरी को देखा , तब एक दिन उसने खाने की मेज़ पर चाचा-चाची को उसका रहस्य बताना चाहा । पर उन्होंने उसकी बात को मानने से इंकार कर दिया । बल्कि चाची को थोड़ी फ़िक्र भी हुई कि कहीं लड़के का दिमाग़ तो नहीं खिसक गया जो यूँ बहकी-बहकी बातें कर रहा है । चाचाजी ने भी पूछा, " क्या इन दिनों कॉमिक्स ज़्यादा पढ़ रहे हो ? " चाची ने तो यह भी कहा कि कि रात-बिरात जंगल-बियाबान में घूमने से सिर पर भूत-प्रेत और जिन्न-चुडैल चढ़ जाते हैं । इस पर चाचाजी हँस दिए और बात आई-गई हो गई । पर उसने उड़न-तश्तरी की खोज में 'रिज' के जंगल में जाना नहीं छोड़ा ।

अगली बार पूर्णिमा वाली रात वह कॉलोनी में कपड़े इस्त्री करने वाले के छह साल के बेटे रमुआ को भी अपने साथ ले गया । इस बार वह उड़न-तश्तरी उन दोनों को नज़र आई । वे दोनों चिल्ला कर हाथ हिलाते हुए उसकी ओर भागने लगे ।

रमुआ हैरानी से पूछने लगा कि आसमान में लटकी वह इत्ती बड़ी चमकीली , गोल चीज़ क्या है ? तभी , हवा में टँगे उस विशाल यान का दरवाज़ा अचानक खुला और उन दोनों के मुँह भी खुले-के-खुले रह गए । दरअसल यान के भीतर से कुछ अजीब से जीव उड़न-तश्तरी की बाल्कनीनुमा जगह पर आ खड़े हुए । हालाँकि उसके मुँह से 'बाप रे' निकल गया पर वह बिल्कुल नहीं डरा । उसने उनकी ओर हाथ हिलाया और जवाब में उन जीवों ने भी अपने शरीर का हाथनुमा अंग हिलाया । उसे लगा जैसे दुनिया रुक गई हो और अब कोई यह दृश्य नहीं बदलेगा । वह घास पर लेट कर बादलों को उड़ता देख रहे बच्चे-सा खुश हो गया । लेकिन उसी पल रमुआ डर कर थर-थर काँपने लगा । जब उसने रमुआ का हाथ पकड़ कर उसे दिलासा दिया तब जा कर वह कुछ ठीक हो पाया ।

चाँदनी रात में उसने पहली बार उन जीवों की ओर ध्यान से देखा और पाया कि वे सभी बिलकुल काले थे -- रात से भी ज़्यादा काले , इतने काले कि कालापन भी शर्मा जाए । उस पल उसे एक असीम ख़ुशी महसूस हुई , क्योंकि उसका अपना रंग भी काला था , हालाँकि उसके दूसरे भाई-बहन गोरे-चिट्टे थे । शायद इसीलिए उसे दादी उतना प्यार नहीं करती थी जितना उसके और भाई-बहनों को । इससे कभी-कभी उसमें हीनता की भावना आ जाती थी । पर उस रात उन काले जीवों को उड़न-तश्तरी उड़ाता देख कर वह बेहद खुश हुआ । उन जीवों में कोई भी गोरा नहीं था । वे जीव उसके लिए प्रेरणा-स्रोत बन गए । बड़े-बड़े काम करना केवल गोरे लोगों की बपौती नहीं है , यह बात उसे समझ में आ गई । उसी पल वह यह भी समझ गया कि केवल गोरा होने से कुछ नहीं होता । असली बात तो इंसान के भीतर की क्षमता में है । वह जान गया कि काले लोग भी प्रतिभाशाली होते हैं । तभी तो ये काले जीव उड़न-तश्तरी जैसी चीज़ बना और उड़ा पाए । यह सब सोच कर उसे हौसला मिला ।

पर उसी समय रमुआ न जाने क्यों डर कर रोने लगा । तब पल के सौवें हिस्से से भी कम समय में वह उड़न-तश्तरी ग़ायब हो गई और उसे अफ़सोस हुआ कि वह उस पल को कभी न बीतने वाला नहीं बना पाया । रमुआ रो रहा था और उन दोनों में उम्र में वह रमुआ से बड़ा था । इसलिए उसने रमुआ को चुप कराया और वे वापस लौट आए ।

अगले दिन हिम्मत करके उसने फिर चाचा-चाची को उड़न-तश्तरी की घटना विस्तार से बताई , पर उसकी बात सुन कर इस बार चाचा भी चिंतित हो उठे ।

उन्होंने ज़ोर दे कर कहा कि उसने ज़रूर कोई सपना देखा होगा । पर वह जानता था कि वह सब सपना क़तई नहीं था । उसने अपनी बात दोहराई और चाचा जी को बताया कि वह उड़न-तश्तरी केवल पूर्णिमा वाली रात में ही दिखाई देती है । हालाँकि इस बारे में वह कुछ नहीं बता पाया कि ऐसा क्यों था । यह सुन कर चाचा ने कहा कि उड़न-तश्तरी-वश्तरी कुछ नहीं होती , और उन्होंने ज़रूर कोई हेलिकॉप्टर या हवाई जहाज़ देख लिया होगा । लेकिन वह जानता था कि ऐसा नहीं था , कि वह उड़न-तश्तरी एक हक़ीक़त थी ।

अगली पूर्णिमा वाले दिन उसने चाचाजी से फिर बात की और उसकी ग़लतफ़हमी दूर करने के लिए रात में चाचाजी उसके साथ स्वयं चल दिए । लेकिन वह ग़लतफ़हमी नहीं थी बल्कि एक ठोस सच्चाई थी , क्योंकि अचानक वह उड़न-तश्तरी उसे फिर नज़र आई -- उतनी ही विशाल और भव्य । रोमांच से उसकी देह में फिर सिहरन होने लगी और उसे लगा जैसे धरती साँस रोक कर यह नज़ारा देख रही हो । उसने चाचाजी को उड़न-तश्तरी दिखानी चाही पर उन्हें कुछ भी दिखाई नहीं दिया , हालाँकि रमुआ , जो इस बार भी उनके साथ था , उस उड़न-तश्तरी को साफ़-साफ़ देख पा रहा था । वह इस अजूबे पर हैरान हुआ कि जो चीज़ उन बच्चों को बिलकुल साफ़ दिखाई दे रही थी , वह उसके चाचा को क्यों नहीं दिख पा रही थी । पर उसी समय चाचाजी ने उसे डाँट कर कहा कि कहीं कोई उड़न-तश्तरी नहीं थी । वे सभी चुपचाप लौट आए थे , हालाँकि इस रहस्य का पता लगाने चाचा-चाची और रमुआ का बाप अगली पूर्णिमा की रात भी उन बच्चों के साथ दोबारा ' रिज ' के जंगल में गए । पर उस बार भी बड़े लोगों को वह उड़न-तश्तरी नहीं दिखी , जबकि बच्चों को वह साफ़ नज़र आ रही थी ।

जब वह बड़ा हुआ तो उसने खुद ही इस पहेली का हल निकाल लिया , जो यह था : बच्चे सच्चाई का प्रतीक होते हैं । वे निर्मल और निष्कलंक होते हैं । वे छल-प्रपंच से दूर होते हैं और मासूम होते हैं । उनकी दुनिया बेहद सहज और पारदर्शी होती है । दूसरी ओर बड़े लोग अक्सर पाखण्डी , अवसरवादी , झूठे और दग़ाबाज़ होते हैं । उनकी दुनिया बेहद कृत्रिम और मुखौटों से भरी होती है । वह इस नतीजे पर पहुँचा कि वह उड़न-तश्तरी केवल सच्चे और मासूम बच्चों को ही दिखाई देती थी । उसकी यह धारणा इस बात से भी पुष्ट हो गई कि पाँच-छह साल बाद जब वह दोबारा चाचा-चाची के पास आया और पूर्णिमा की रात में उसने दोबारा उस उड़न-तश्तरी को ढूँढ़ना चाहा तो उसे वह दोबारा दिखाई नहीं दी । वह समझ गया कि अब वह बड़ा हो चुका था और अपने बचपन की मासूमियत खो चुका था ।

कॉलेज में जब उसकी दोस्ती मुझ से हुई तो उसने यह बात मुझे भी बताई । लेकिन मैं उस पर हँसा नहीं और न ही मैंने उसका मज़ाक उड़ाया । मैंने उसकी आँखों में झाँक कर देखा । मुझे उसमें सच्चाई जैसा कुछ नज़र आया । इसलिए एक पूर्णिमा की रात मैं , मेरी दीदी और जीजाजी , उनका पाँच साल का बेटा और वह -- मेरा दोस्त , हम सभी बिड़ला मंदिर के पीछे वाले 'रिज' के जंगल में उसकी बताई जगह पर पहुँचे । उसकी धारणा तब सही निकली जब मेरी दीदी का बेटा उड़न-तश्तरी को देखकर ख़ुशी से किलकने लगा और अपने नन्हें-नन्हें हाथ उसकी ओर हिलाने लगा , जबकि हम बड़ों को वह उड़न-तश्तरी कहीं दिखाई नहीं दी । तब हम जान गए कि वह वहाँ है क्योंकि छोटे बच्चे झूठ नहीं बोलते और यह सच है ।

पर यदि आपके मन में इस बात को ले कर शंका हो और आप यह सोच रहे हों कि यह सब कोरी कल्पना है , मनगढ़ंत बातें हैं , तो मेरी बात पर बिलकुल यक़ीन मत कीजिए । आप अपने छोटे बच्चे को ले कर बिड़ला मंदिर के पीछे वाले 'रिज' के जंगल में पूर्णिमा की रात में जाइए । वहाँ आपका बच्चा आपको स्वयं बता देगा -- " पापा , वह देखो , कित्ता बड़ा उड़ने वाला गोला ! " तब आपको वाकई अफ़सोस होगा कि काश आप भी छोटे बच्चे होते और पूर्णिमा की रात में आप भी उस उड़न-तश्तरी को देख पाते -- बिड़ला मंदिर से भी दस गुना ऊँची , विशाल और भव्य , अपने भीतर एक समूची रहस्यमयी दुनिया समेटे हुए ।

------------०------------

परिचय

-----------

नाम : सुशांत सुप्रिय

जन्म : 28 मार्च , 1968

शिक्षा : अमृतसर ( पंजाब ) , व दिल्ली में ।

प्रकाशित कृतियाँ :# हत्यारे , हे राम , दलदल ( तीन कथा - संग्रह ) ।

# अयोध्या से गुजरात तक , इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं

( दो काव्य-संग्रह ) ।

सम्मान : भाषा विभाग ( पंजाब ) तथा प्रकाशन विभाग ( भारत सरकार ) द्वारा रचनाएँ

पुरस्कृत । कमलेश्वर-कथाबिंब कहानी प्रतियोगिता ( मुंबई ) में लगातार दो

वर्ष प्रथम पुरस्कार ।

अन्य प्राप्तियाँ :# कई कहानियाँ व कविताएँ अंग्रेज़ी , उर्दू , पंजाबी, उड़िया, मराठी,

असमिया , कन्नड़ , तेलुगु व मलयालम आदि भाषाओं में अनूदित । व प्रकाशित । कहानियाँ कुछ राज्यों के कक्षा सात व नौ के हिंदी

पाठ्यक्रम में शामिल । कविताएँ पुणे वि. वि. के बी. ए.( द्वितीय

वर्ष ) के पाठ्य-क्रम में शामिल । कहानियों पर आगरा वि. वि. ,

कुरुक्षेत्र वि. वि. , व गुरु नानक देव वि. वि. , अमृतसर के हिंदी

विभागों में शोधार्थियों द्वारा शोध-कार्य ।

# अंग्रेज़ी व पंजाबी में भी लेखन व प्रकाशन । अंग्रेज़ी में काव्य-संग्रह

' इन गाँधीज़ कंट्री ' प्रकाशित । अंग्रेज़ी कथा-संग्रह ' द फ़िफ़्थ

डायरेक्शन ' और अनुवाद की पुस्तक 'विश्व की श्रेष्ठ कहानियाँ'

प्रकाशनाधीन ।

ई-मेल : sushant1968@gmail.com

मोबाइल : 8512070086

----------०----------

 

प्रेषकः सुशांत सुप्रिय

A-5001 ,

गौड़ ग्रीन सिटी ,

वैभव खंड ,

इंदिरापुरम ,

ग़ाज़ियाबाद -201010

( उ. प्र . )

मो: 8512070086

ई-मेल : sushant1968@gmail.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget