---प्रायोजक---

---***---

रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु लघुकथाएँ आमंत्रित हैं.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ [लिंक] देखें. आयोजन में अब तक प्रकाशित लघुकथाएँ यहाँ [लिंक] पढ़ें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

कहानीः …. पर पाजेप न भीगे / सत्यनारायण पटेल

साझा करें:

एक क़िस्सा है। और क़िस्सा क्या… ? हक़ीक़त है जी…! कल की हक़ीक़त आज क़िस्सा है। आज की हक़ीक़त कल क़िस्सा होगी। तो क़िस्सा उन दिनों का है, जब अब जैसे द...

image

एक क़िस्सा है। और क़िस्सा क्या… ? हक़ीक़त है जी…! कल की हक़ीक़त आज क़िस्सा है। आज की हक़ीक़त कल क़िस्सा होगी। तो क़िस्सा उन दिनों का है, जब अब जैसे देश नहीं हुआ करते थे। तब देश का मतलब-एक क्षेत्र हुआ करता था। जैसे आज मालवा में निमाड़ के लोग आते हैं, और जब काम होने के बाद वापस जाते हैं, तो कहते हैं- देश जा रहे हैं। यानी जब मालवा भी एक देश था। निमाड़ भी एक देश था। झाबुआ भी एक देश था। हर क्षेत्र जिसकी बोली-बानी अलग थी, रहन-सहन, पहनावा, खान-पान और संस्कृति में फ़र्क़ था, वह एक अलग देश था। तब भी एक देश से दूसरे देश में काम-धंधा करने जाते थे लोग। किसी को पासपोर्ट, वीजा, अनुमति आदि की ज़रूरत नहीं होती थी। होती थी ज़रूरत तो बस इतनी कि आता हो काम-धंधा। व्यापार-व्यावसाय करने की हो इच्छा। जहाँ जाते, वहाँ को बोली-भाषा भी सीख ही लेते। ताकि काम-धंधा करना आसान हो सके। लोग ऎसे ही करते थे व्यापार-व्यावसाय। बड़े-बड़े हाट भरते। कई-कई दिन चलते मेले। हाट और मेलों में अलग-अलग जगहों की संस्कृति, बोली घुलती-मिलती। लोगों में दोस्ती, प्रेम और कई तरह के संबन्ध विकसित होते। अभी भी होता है वही सब…लेकिन स्वरूप बदल गया है।

फिर जैसे-जैसे बहने लगी विकास की गंगा। रिति-रिवाज, रहन-सहन, भाषा-बोली और सब कुछ में बदलाव होना शुरू हुआ। बरस बीतते रहे, बदलाव जारी रहा। गाँव क़स्बों में और क़स्बे शहरों में और शहरों का….. शायद जंगल में बदलना जारी रहा।

क़िस्सा उसी किसी जमाने में शुरू हुआ था यह। जाने कितने लोगों ने सुना-सुनाया। समय बदला। लोग बदले। कहन का ढँग बदला। तो क़िस्से में भी आया ही होगा कुछ बदलाव। फिर भी जब क़िस्सा सुना। तो ताज़गी भरा लगा। मन फिर से वही क़िस्सा कहने को ललचा उठा। दरअसल क़िस्सा एक नहीं, दो है।

और पहला क़िस्सा कुछ यूँ है- दूर कहीं किसी गाँव में एक बंजारा था। था तो वह बंजारा। पर उसकी क़द-काठी ग़ज़ब की ऊँची और तगड़ी थी। आकर्षक भी। साँझ सरीके उसके गालों पर डूबते सूरज का ललछौहापन दमकता था। आँखें हल्की नीली और भूरी थीं। बोलता-हँसता तो सफ़ेद झक दाँत बादामी और मजबूत मसूड़ों में आकर्षक ढँग से जमे हुए नज़र आते थे। वह एक व्यापारी था। वह जिस गाँव में रहता था, उसके आस-पास के आठ-दस गाँव के लोगों की ज़रूरतों का सामान उसी के पास मिलता था। इसलिए उसका व्यापार-व्यावसाय चलता भी अच्छा था।

उसके इलाक़े का राजा भी एक बंजारा था। हालाँकि राजा से उसकी दूर की भी राम-राम नहीं थी। उस क्षेत्र में बंजारों के कई गाँव थे। क़बीले थे, और थी घुमंतु टोलियाँ भी। ज़रूरी नहीं कि सभी राजा को जानते हों। लेकिन चिमनी लेकर ढूँढ़ने पर भी कोई नहीं मिलता था, जो उस बंजारे को नहीं जानता हो। कहने का मतलब इत्ता भर है… कि बंजारे का क़िस्सा सेमल की रुई की तरह हवा में उड़ते-उड़ते पूरे बंजारा प्रदेश-देश में फैल गया था।

हालाँकि बंजारा इलाक़े में पहले से ही बहुत ठावा था। क्या है कि बंजारे का पैत्रक काम ही था व्यापार। वह अपने व्यापारी माता-पिता की इकलौती संतान था। माता-पिता ने ज़िन्दगी भर घूम-घूम कर ख़ूब धन-दौलत कमायी थी। धीरे-धीरे उन्होंने अपने बेटे यानी बंजारे को भी व्यापार-व्यावसाय सिखा दिया था। उसके रहने के लिए एक विशाल भवन बनवा दिया था। व्यापार-व्यावसाय के लिए बहुत सारी धन-दौलत रख छोड़ी थी। जब बंजारे के माता-पिता बूढ़े हो गये और वह होशियार हो गया। तब एक दिन उसके माता-पिता लम्बी तीर्थ यात्रा पर रवाना हो गये, और फिर वे कभी नहीं लौटे।

कुछ बरस बंजारा माता-पिता के आने की राह देखता रहा। उदास रहा। फिर धीरे-धीरे वह व्यवसाय में डूबता गया। बंजारा अनेक चीज़ों के व्यापार के साथ नमक का भी बड़ा व्यापारी था। व्यापार में उसका हाथ बँटाने के लिए कई नौकर-चाकर थे। व्यापार में हर चीज़ में उसे अच्छा मुनाफ़ा होता था। लेकिन नमक में उसे सदा ही घाटा होने की संभावना बनी रहती थी। घाटे की वजह थी एक नदी। नदी को पार करे बग़ैर कोई भी सामान नहीं लाया-ले जाया सकता था।

बाक़ी सभी सामान ठीक-ठाक आ जाता। भीग जाता तो भी सूखा कर बेच देता। पर नमक हमेशा ही चिंता का विषय होता। क्योंकि जब बंजारा या उसके यहाँ काम करने वाले गधों पर नमक लेकर नदी पार करते, तो नदी पार करते वक़्त, नदी में इतना नमक गल कर बह जाता कि नदी का पानी खारा हो जाता। बहे हुए नमक का घाटा, बंजारा बचे हुए नमक को महँगे दाम पर बेच कर ही पूरा करता।

आठ-दस गाँव के लोग बंजारे के यहाँ सौदा लेने आते। लोग नमक के दाम को लेकर हमेशा किच-किच करते। पर बंजारा क्या करता…? नमक घाटे में बेचने से तो रहा..! पूरे क्षेत्र में बंजारे की नामोसी होती। लोग उसे जाने क्या-क्या कहते..! बद्दुआ देते।

बंजारे के पास अच्छा-भला घर-बार था। पैसा-कौड़ी था। व्यापार-व्यावसाय था। फिर भी वह कुआँरा था। बंजारे की उम्र शादी के योग्य थी। वह शादी करना भी चाहता था, क्योंकि माता-पिता के जाने के बाद उसका क़रीबी कोई नहीं था। उसे एक जीवन साथी की ज़रूरत थी। लेकिन नमक के दाम ज्यादा लेने की वजह वह बदनाम था। इसलिए कोई उसे अपनी बेटी न देना चाहता था। लोग पैसा-कौड़ी से ज्यादा ईमान और इंसानियत को तवज्जो देते थे तब।

जब कभी बंजारा किसी की शादी होते देखता। वह उदास हो जाता। वह सोचता- क्या करूँ..? घाटा उठा कर लोगों को नमक देना शुरू करूँ….? या नमक का व्यावसाय ही बंद कर दूँ….? या अपना गाँव छोड़ कर नदी पार किसी दूसरे गाँव में बस जाऊँ…? लेकिन दूसरे गाँव जाऊँगा.. तो फिर यहाँ के घर-बार का क्या होगा..? यहाँ इतना बड़ा घर तो कोई ख़रीद भी नहीं पायेगा….? फिर यह सब छोड़ कर कैसे दूसरे गाँव में बस जाऊँ..? क्या मेरे माता-पिता की वंश बैल मुझ तक ही रुक जायेगी..? मैं उनके वंश को आगे कैसे बढ़ाऊँ..?

लेकिन फिर कुछ दिन में उदासी छंट जाती। बंजारा व्यापार-व्यावसाय में जुट जाता। कभी-कभी सोचता और लोगों से सलाह भी लेता- क्या करूँ कि नमक न गले..? कैसे कम दाम पर नमक उपलब्ध कराऊँ....?

एक बार उसे एक बूढ़े बंजारे ने ही सलाह दी कि नदी पर बाँध बना। जब नदी पर बाँध बन जायेगा। तब गधों पर लदा नमक तो ठीक, गधों के पैरों की खुर भी न भीगेगी। नमक भीगेगा नहीं, तो गलेगा नहीं। गलेगा नहीं, तो बहेगा नहीं। बहेगा नहीं, तो वाजिब दाम पर बेच सकेगा…! वाजिब दाम पर बेचेगा तो कोई बद्दुआ नहीं देगा। कोई भला-बुरा नहीं कहेगा। कोई न कोई अपनी बेटी भी तुझसे ब्याहने को राजी हो जायेगा।

बंजारे को बूढ़े बंजारे की बात जँच गयी। उसने नदी पर एक बाँध बनवाया। बाँध ‘बंजारा बाँध’ के नाम से ही जाना जाने लगा।

बाँध बनाने के बाद बंजारे की शादी हो गयी, और वह सुख पूर्वक रहने लगा। अगर यही सही मान लें, तो बंजारा का क़िस्सा यहाँ समाप्त हो जाता है।

लेकिन ऎसा नहीं है। बंजारा बाँध के पीछे एक और क़िस्सा है। गाँव वाले कहते हैं कि बंजारा बाँध बनवाया तो था बंजारा ने ही। लेकिन सिर्फ़ नमक लदे गधों के लिए नहीं बनवाया था। बाँध बनवाने की सलाह भी किसी बूढ़े ने नहीं दी थी। बाँध बँधवाने की ऊपरी कथा से अलग, ज्यादा प्रमाणिक और लोक प्रिय क़िस्सा कुछ यूँ है -

एक बंजारा जो नकम का बहुत बड़ा व्यापारी था। वह व्यापार करने दूर-दूर के देशों में जाया करता था। एक बार वह एक मेले में गया था। मेले में कई दुकाने लगी थीं। बंजारे की दुकान के सामने एक बूढ़े बंजारे की दुकान थी। बूढ़े की एक बेहद ख़ूबसूरत लड़की थी।

नमक व्यापारी बंजारा देखने में अच्छा-ख़ासा और कुआँरा था ही। शादी के लिए एक बंजारन की तलाश में भी था। वह मेले का पहले ही दिन था, जब बंजारे की नज़रें बंजारन की नज़रों से उलझ गयी थीं। वह बंजारन पर इस तरह लट्टू हुआ कि भँवरा भी लजाने लगा। व्यापार में उसका मन जरा भी नहीं लगता। उसकी नज़रें हर समय सामने टिकी होती। जहाँ बंजारन अपने पिता की मदद कर रही होती।

बंजारे के साथ काम करने वाले नौकर-चाकर भी नज़रों के खेल से वाक़िफ़ हो गये थे। फुर्सत की घड़ी में वे भी खेल देख आपस में हँस-बोल लेते।

बंजारे और बंजारन की दुकानों के बीच से ख़रीदार लोगों का आना-जाना चलता रहता। नमक ख़रीदने वाला, बंजारे की दुकान से ख़रीदता। नौकर ही तौल-मौल करते। वही हिसाब-किताब रखते। जेवर ख़रीदने वाला, बंजारन की दुकान से ख़रीदता। बंजारन के पिता और नौकर ही सब कुछ संभालते।

उन दोनों के बीच चलते नज़रों के खेल को बूढ़े ने भी भाँप लिया। लेकिन बेटी को कुछ नहीं कहा। सोचा- जवान छोरी है। शादी की उम्र है। मैं तो व्यापार-व्यावसाय में उलझा रहा। छोरी की उम्र का ख़्याल ही न रहा। फिर सामने की दुकान वाला भी व्यापारी है। पहनावे और नाक-नक्श से बंजारा ही है। देखने में भी अच्छा-ख़ासा है। अच्छा है, छोरी को पसंद आ जाये, तो दोनों की शादी कर देंगे।

मेले के दिन पर दिन बीतने लगे। उन दोनों के बीच बातचीत होने लगी। दोनों साथ-साथ मेले में घुमते। खाते-पीते। मन की बाते करते। फिर जब मेला समाप्त होने को आया। व्यापारी अपनी-अपनी दुकाने समेटने लगे। कुछ जाने भी लगे। तब बंजारे ने बंजारन से कहा- मैं तुमसे बेहद प्रेम करने लगा हूँ और शादी करना चाहता हूँ।

बंजारे ने यह बात अकेले में नहीं कही थी, बल्कि बंजारन के पिता की मौजूदगी में कही थी। पिता सुन कर मन ही मन ख़ुश हुए, पर कुछ बोले नहीं। उसके पिता बूढ़े ज़रूर थे, पर दकियानूसी नहीं थे। न अपनी मर्ज़ी को बेटी पर थोपना पसंद था उन्हें। उन्होंने सोचा- छोरी होशियार है, उसे जो सही लगेगा, वही जवाब देगी। छोरी का निर्णय ही मेरा भी निर्णय होगा।

बंजारन ने पहले अपने पिता की तरफ़ देखा। पिता के चेहरे पर भरोसे की चमक थी। फिर उसने बंजारे की तरफ़ देखा और बोली- सुन.. बंजारे… अपने बीच इतने दिन जो कुछ हुआ.. उसकी मधुर स्मृति अपने मन में रख… और शादी का ख़्याल भूल जा।

-क्यों.. तुम ऎसा क्यों कह रही हो..? बंजारे ने व्याकुल स्वर में पूछा और आगे कहा- मैं तुम्हारे बग़ैर आगे का जीवन नहीं जी सकूँगा… मुझे नींद में भी तुम्हारी पाजेप की घूघरियों की आवाज़ सुनायी देती है। तुम्हारी सूरत और मत्स्य आँखें सदा ही मेरी आँखों में बसी रहती हैं।

-वह सब तो ठीक है बंजारे…पर फिर भी मैं तुम्हारे गाँव नहीं चल सकती हूँ। बंजारन ने कहा- क्योंकि तुम रहते हो नदी उस पार … और मैं इस पार। तुम्हारे गाँव जाने के लिए नदी को चल कर पार करनी पड़ती है। और कोई साधन नहीं है। मैं उस नदी को भीगते हुए पार नहीं करना चाहती। अगर तुम मुझसे शादी ही करना चाहते हो… तो तुम्हें मेरी एक शर्त पूरी करनी होगी।

-क्या शर्त है..बंजारे ने बेसब्री से पूछा और बग़ैर कुछ विचारे आगे बोला- मुझे हर शर्त मंजूर है।

-बंजारे… उतावले मत होओ… पहले मेरी शर्त सुनो.. बंजारन ने कहा- और शर्त यह है कि तुम्हें उस नदी पर एक बाँध बनवाना होगा। बाँध ऎसा बने कि पैरों की पगथली तो भीगे, पर पाजेप नहीं भीगे। अगर तुम मेरी यह शर्त पूरी करोगे… तो मैं ख़ुशी-ख़ुशी तुम्हारे गाँव चलूँगी। तुमसे शादी कर लूँगी, और अगर बाँध पार करते वक़्त पाजेप भीग गयी.. तो जहाँ भीगेगी.. उससे एक क़दम भी आगे नहीं बढ़ाऊँगी… वापस अपने माइके लौट आऊँगी… तुम्हें शर्त मंजूर हो तो बोलो… वरना जो कुछ अपने बीच हुआ.. उसे भूल जाओ..।

बंजारे को तो बंजारन के सिवा कुछ सूझ ही नहीं रहा था। उसने बाँध बनवाने की तुरंत हामी भर ली थी। लेकिन नौकर-चाकरों का दिमाग़ चकरा रहा था- भला कोई ऎसा बाँध कैसे बना सकता है, जिसमें पगथली तो भीगे पर पैरों की पाजेप नहीं भीगे। बाँध पर पानी का क्या भरोसा…कभी कम बहे, कभी ज्यादा।

चिंता में तो बंजारा भी पड़ गया। कैसे बनेगा ऎसा बाँध..? हर समय दिमाग़ दर-दर भटकने लगा। अपने प्रण को पूरा करने में प्राण सूखने लगे। किसी ने कहा- न हो पूरा प्रण, तो न हो….प्रण के पीछे प्राण देने की ज़रूरत नहीं।

किसी ने कहा- जैसा चाहा बंजारन ने, न बने वैसा….तो कम से कम ऎसा तो बन ही जायेगा, कि जब गधों पर नमक लेकर निकलेंगे, तो नमक गल कर न बहेगा।

बंजारा सुन सभी की रहा था। लेकिन ज़हन में एक ही धुन सवार थी। जल्दी से जल्दी वह बाँध बनवाये, जिस पर चल कर बंजारन घर आवे। बंजारन की शर्त और बंजारे के प्रण की ख़बर उसके गाँव के आस-पास के सभी गाँवों में फैल गयी। फुर्सत के क्षण हो या न हो। लोगों की जबान पर बंजारे और बंजारन की ही बात हो। कुछ लोगों के मन में भी उस बंजारन को देखने की लालसा जाग उठी। कुछ लोगों के मन में ऎसा अनोखा बाँध देखने की इच्छा मचलने लगी। लोग भी सोचने लगे- बंजारा आखिर कैसे बनवायेगा ऎसा बाँध..!

कोई हंसी-मज़ाक़ में कहता- मैं तो उस बंजारन की पाजेप देखना चाहता हूँ। आखिर कैसी है. वे पाजेप… जिसकी खातिर उसने बंजारे जैसे व्यापारी के सामने ऎसी शर्त रखी…? ऎसी पाजेप को जिन पैरों में पहना होगा.. वे पैर कैसे होंगे…? और जिसके पैर ऎसे होंगे.. वह बंजारन कैसी होगी…?

वक़्त बीतने लगा। बंजारे का प्रण दिन पर दिन दृढ़ होता गया। एक दिन बंजारे ने नदी पर बाँध बनवाने का काम शुरू करवा दिया। वह बाँध बनवाने का काम सिर्फ़ मज़दूरों से नहीं करवाता था, बल्कि ख़ुद मज़दूरों के साथ मिल कर करता था। लोग देखने आते कि आख़िर बाँध को कैसे बनाया जा रहा है..? बाँध बनते-बनते ही ख़ूब प्रसिद्धि हो गया था। और जब एक दिन बाँध बनकर पूरा हो गया… तो बंजारा फिर बंजारन के पास गया, और गाँव चलने का निवेदन किया।

बंजारन ने बंजारे के बारे में ख़ूब सुना था। वह उसे देख कर मन ही मन भावुक हो रही थी कि उसकी शर्त को पूरी करने की खातिर बंजारे ने ख़ूब मेहनत की है। लेकिन उसने अपनी भावना को आँखों और चेहरे से झाँकने नहीं दिया। वह प्रकट रूप से दृढ़ स्वर में बोली- बंजारे तू कहीं शर्त तो नहीं भूल गया…?

बंजारे ने गर्दन हिलाकर कहा- नहीं…. तुम्हारी शर्त और अपना प्रण याद है मुझे।

मन ही मन बंजारन भी चाहती थी कि बंजारे की मेहनत सफ़ल हो जाए। बंजारे से शर्त लगाने के कुछ माह बाद बंजारन के पिता चल बसे थे। वह अकेली रह गयी थी। घर में माँ या कोई भाई-बहन नहीं था। अब वह भी घर बसाना चाहती थी। लेकिन बंजारे से शर्त लगाने के बाद वह बहुत ठावी हो गयी थी। लोगों से उसे ताने भी ख़ूब सुनने को मिले थे। लेकिन अब बंजारन अपनी शर्त से, अपनी बात से पलट नहीं सकती थी। पलटने पर भारी बदनामी होती। उसने एक बार फिर अपनी शर्त दोहरायी- जहाँ पाजेप की एक घूघरी भी भीगी, वहीं से मैं लौट आऊँगी..। तुम या कोई भी मुझे रोकने या तुम्हारे साथ चलने के बारे में एक शब्द भी नहीं कहेगा..?

बंजारे ने कहा- ठीक है.. तू जैसा कहती है.. वैसा ही होगा..। मैं तेरे मान की रक्षा अपने प्राण की बाजी लगा कर करूँगा..।

बंजारन ने कहा- तो ठीक है…… आज तुम भी यहीं रुको…. आराम करो…कल सूरज उगते ही चल देंगे..।

जब बंजारन के गाँव और घर पहुँचा था बंजारा, तो गाँव में हलचल मच गयी थी। लोग बंजारे की एक झलक देखने को बावले होने लगे। बंजारन के घर सामने लोगों का हुजूम देखते ही बनता था।

कुछ लोग बंजारे के साथ भी गये थे। बंजारन ने अपने नौकर-चाकरों से कहा- आज पूरे गाँव के लोगों के लिए बढ़िया पकवान बनवाओ…. सभी को खिलाओ…। बंजारे के साथ पधारे लोगों की भी विशेष खातिरदारी हो। उनके रुकने और आराम का उचित प्रबन्ध हो। खान-पान के बाद हमारी संस्कृति, रिति-रिवाज के मुताबिक़ मनोरंजन, गीत-संगीत का इंतजाम हो।

बंजारन को किसी चीज़ की कमी तो थी नहीं। उसके नौकर-चाकर झटपट जुट गये। सभी प्रबन्ध चटपट कर दिये। लोगों ने छक कर पकवान झाड़े..। ख़ूब नाच-गान हुआ। फिर बढ़िया आराम किया। सुबह सभी बंजारे और बंजारन को बाँध तक विदा करने को तैयार होने लगे। बंजारन भी सजने-सँवरने लगी।

कैसा ग़जब तो खिला-खिला बंजारन का रूप था। और पहनावा…आह..हा..हा। नौ कली का घेर वाला, रंग बिरंगा और छींटदार घाघरा। चटक रंग, बड़े-बड़े छापे और सितारों जड़ी झीनी-झीनी लूगड़ी। कई रंगों की काँचली। काँचली, घाघरा और लूगड़ी की किनोरों पर जैसे सोने के तार से सिवन की हो। काँचली के कस में झूलती सोने-चाँदी की घूघरियाँ। गले में एक से एक जेवर। बाजू में बाजूबंद। कमर में कमरबँध, कलाई में कड़े और चूड़ियाँ। अंगुलियों में हीरे-मोती जड़ी सोने की अंगूठियाँ। नाक में नथनी। कान में टोंटी। रिंग । माथे का बोर और पैरों की पाजेप। ओह…हो..होह.. क्या श्रृँगार था। जिसकी जहाँ नज़र पड़ जाये…बस.. उम्र वहीं हिलगी रह जाये।

बंजारा और बंजारन को देखने गाँव-गाँव से बाँध की दोनों तरफ़ लोग जमा होने लगे थे। बंजारे और बंजारन के पहुँचने से पहले भीड़ बाँध को निहारती। कोई बाँध के बारे में, तो कोई बंजारे और बंजारन के बारे में बात करता। अटाटूट भीड़ की आँखों में प्रश्न थे- क्या होगा… जब बंजारन चल कर बाँध पार करेगी…? क्या केवल उसकी पगथली ही भीगेंगी और पाजेप न भीगेंगी..? क्या बंजारन…पाजेप भीगने पर भी बंजारे के साथ चली आयेगी…? क्या बंजारन लौट जायेगी..? क्या बंजारा अपनी असफलता को बर्दाश्त कर सकेगा..? कहीं निराश होकर नदी में छलाँग तो न लगा दे देगा…? कहीं सदमें से खड़ा का खड़ा सूख तो न जायेगा..?

जब भीड़ ऎसे ही प्रश्नों में उलझी थी। सूरज आँखें खोलने लगा था। पक्षी दानों की तलाश में उड़ते निकल पड़े थे। बंजारन और बंजारा भी बाँध की तरफ़ बढ़ने लगे। उन्हें आता देख, वहाँ जमा हुए लोगों की बेसब्री बढ़ने लगी। क्या होगा..? पाजेप भीगेगी या नहीं…? कुछ लोग आपस में शर्त लगाने लगे। कोई कहता- अगर पाजेप नहीं भीगी तो मैं अपने चार जोड़ी घोड़े हार जाऊँगा….कोई कहता- अगर पाजेप भीगी.. तो मैं अपने तीन जोड़ी बैल हार जाऊँगा…। कोई कहता ज़रूरी नहीं, पूरी की पूरी पाजेप भीगे…. एक घूघरी भी भीगी तो हार-जीत होगी। जिसकी जैसी क्षमता थी, वैसी आपस में शर्तें लगने लगी थीं। लोगों का उत्साह और बेसब्री चरम पर थीं।

क़दम दर क़दम बंजारन और बंजारा बाँध की तरफ़ बढ़ रहे थे। बाँध और बंजारन के बीच की दूरी जैसे-जैसे घट रही थी… वैसे-वैसे एक-एक बालिस उत्साह, बेसब्री और शर्तों का लगाना बढ़ रहा था। लोगों की आँखें बंजारन के मत्स्य नयनों पर कम, पैरों की पाजेप और पाजेप में झूलती घूघरियों पर टिकी थीं। सोने की पाजेप और चाँदी की घूघरी थी। बंजारन के हर क़दम पर…छम..छम संगीत की बरसात थी। ओह..होह....क्या उस संगीत की तारीफ़ में कहूँ.. और क्या सुनने वालों के कानों के नसीब के बारे में…!

और जब बंजारन ने बाँध पर धरने को पहला क़दम उठाया। थम गया संगीत। जाने कितनों की रुक गयी साँस। कितनों की नहीं झपकी पलकें..! कितने रह गये देखते औचक..। पक्षी उड़ना छोड़ पेड़ों पर बैठ बंजारन के क़दम को देखने लगे। चीलों को तो पेड़ों पर जगह ही नहीं मिली, वे आसमान में ठिठक कर ही बंजारन की पाजेप और बाँध पर बहते पानी को देखने लगी।

और जब बंजारन का उठा पहला क़दम नीचे बाँध पर धराया, तो लगा- क़दम बाँध की सतह पर नहीं, बल्कि पानी की सतह पर ही रुक गया। वह क़दम दर क़दम आगे बढ़ने लगी। लोगों के मन में शर्तों पर लगे बैल, घोड़े, गाय, भैंस और जाने क्या-क्या इधर-उधर होने लगे। शोर, उत्साह और बेसब्र ख़ुशी के झरने बहने लगे। बाँध पर से बहते पानी की क्या मजाल की पाजेप की एक घूघरी को छू भी ले..।

पगथली को छूते नदी के शीतल पानी से बंजारन का रोआँ..रोआँ खिलने लगा। हवा में रोओं से झरती ग़ज़ब की ख़ुशबू बह चली। बंजारे की बाँछे खिल कर आसमान हो गयी। भावना नदी के पानी में घुल कर बंजारन की पगथली को धोने लगी। बंजारन की पाजेप की घूघरियों के स्वर में नदी गुनगुनाने लगी।

कहते हैं- ऎसा प्रणवान बंजारा फिर कभी नहीं हुआ। ऎसी बंजारन भी दुबारा नहीं जन्मी..। ऎसा बाँध भी फिर कहीं किसी ने नहीं बँधवाया। उस बंजारे और बंजारन के प्यार की निशानी वह बाँध… आज भी कायम है। बाँध का नाम भी ‘ बंजारा बाँध’ है। प्रेमी-प्रेमिका बंजारा बाँध की क़समें खाकर साथ निभाने के वादे करते हैं।

बाँध तो दुनिया भर की नदियों पर अब भी ख़ूब बन रहे हैं। पर उन्हें प्रेमी बंजारे नहीं, कम्पनियाँ बना रही है। अब पाजेप और उसकी घूघरी के न भीगने की बात छोड़ो। घर, खेत और गाँव तक बचाना मुश्किल हो रहा। वाकय समय बदल रहा। विकास की गंगा बह रही दिन-रात। डूब रहा सुख-चैन।

10 / 9 / 2012

सत्यनारायण पटेल

m-2 / 199, अयोध्यानगरी

(बाल पब्लिक स्कूल के पास) इन्दौर-452011

म.प्र.

मो.-09826091605

E mail- bizooka2009@gmail.com

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच करें : ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3864,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,337,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2811,कहानी,2136,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,489,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,348,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,18,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,862,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,24,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1932,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,659,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,703,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,61,साहित्यम्,2,साहित्यिक गतिविधियाँ,186,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,69,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: कहानीः …. पर पाजेप न भीगे / सत्यनारायण पटेल
कहानीः …. पर पाजेप न भीगे / सत्यनारायण पटेल
https://lh3.googleusercontent.com/-M7L8wHZRGJE/VugX1wtArjI/AAAAAAAAsVk/Ez1g6TrmFlI/image_thumb.png?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-M7L8wHZRGJE/VugX1wtArjI/AAAAAAAAsVk/Ez1g6TrmFlI/s72-c/image_thumb.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2016/03/blog-post_82.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2016/03/blog-post_82.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ